ताज़ा खबर
 

राजस्थान विधानसभा में हंगामे के बाद कांग्रेस के 12 विधायकों सहित 14 सदस्य साल भर के लिए निलंबित

राजस्थान विधान सभा में आज हुए अभूतपूर्व हंगामे के बाद अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने अनुशासनहीनता के आरोप में कांगे्रस के बारह सदस्यों समेत चौदह विधायकों को एक साल के लिए विधान सभा की सदस्यता से निलम्बित कर दिया।

Author जयपुर | Updated: April 26, 2017 5:18 PM
राजस्थान विधानसभा

राजस्थान विधान सभा में आज हुए अभूतपूर्व हंगामे के बाद अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने अनुशासनहीनता के आरोप में कांगे्रस के बारह सदस्यों समेत चौदह विधायकों को एक साल के लिए विधान सभा की सदस्यता से निलम्बित कर दिया। निलम्बित विधायकों में कांगे्रस के गोविन्द डोटासरा, धीरज गुर्जर , शकुंतला रावत, अशोक चांदना, श्रवण गुर्जर, हीरा लाल , सुखराम विश्नोई, मेवा राम, रमेश मीणा, घनश्याम, राजेंद्र सिंह, भजन लाल, निर्दलीय हनुमान बेनीवाल और बसपा के मनोज न्यागली शामिल है।

अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने सरकारी मुख्य सचेतक कालू लाल गुर्जर की ओर से सदन में अनुशासनहीनता के लिए इन चौदह विधायकों को सदन की सदस्यता से एक साल के लिए निलम्बित करने के लिए रखे गए प्रस्ताव को ध्वनिमत से पारित कराया । राजपा के डा किरोडी लाल मीणा और भाजपा के घनश्याम तिवाडी ने सरकारी मुख्य सचेतक की ओर से रखे गये प्रस्ताव का विरोध करते हुए कुछ बोलना चाहा लेकिन अध्यक्ष ने दोनों को बोलने की अनुमति नही दी।

अध्यक्ष मेघवाल ने दुखी होते हुए कहा कि प्रतिपक्ष के कुछ हुडदंगी विधायक सदन की परम्पराओं, नियमों और आसन के निर्देशों की पालना नहीं कर सदन में अनुशासनहीनता कर रहे थे। आज प्रश्नकाल के दौरान प्रतिपक्ष के सदस्यों ने जो कुछ किया वह शर्मनाक था। अध्यक्ष ने कहा कि मैंने प्रतिपक्ष सदस्यों को बोलने का पूरा समय देकर गलती की ,लेकिन अब सदन में किसी को अनुशासनहीनता नहीं करने दी जायेगी।

सदन ने जिस समय कांगे्रस समेत जिन चौदह विधायकों को निलम्बित करने का प्रस्ताव पारित किया उस दौरान प्रतिपक्ष के सदस्य सदन में मौजूद नहीं थे। प्रस्ताव पारित होने के बाद नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी और कांगे्रस के वरिष्ठ विधायक प्रद्युम्रन सिंह ने सदन में आकर चौदह सदस्यों के निलम्बन का जोरदार विरोध करते हुए कहा कि यह एकतरफा कार्रवाई है। यदि आसन की यहीं मंशा है तो हमें भी निलम्बित कर दे।
नेता प्रतिपक्ष के कडे विरोध के बावजूद अध्यक्ष ने तय विधायी कामकाज लेना आरंभ कर दिया।सदन की कार्यसूची में आज जीएसटी विधेयक शामिल है। इससे पहले प्रशनकाल के दौरान हुए हंगामे के बाद आसन के समक्ष सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे प्रतिपक्ष सदस्यों को सुरक्षाकर्मियों द्वारा निकाले जाने के बाद सदन की कार्यवाही एक समय के लिए एक घंटे के लिए जबकि दो बार आधे आधे घंटे के लिए स्थगित हुई।

प्रश्नकाल मेंं प्रतिपक्ष सदस्यों को पूरक प्रश्न पूछने का मौका नहीं देने के मुददे को लेकर हंगामा शुरू हुआ था।  सरकारी सचेतक मदन राठौड ने हंगामा कर रहे प्रतिपक्ष सदस्यों को सदन से बाहर निकालने का प्रस्ताव रखा। अध्यक्ष ने इस प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए मार्शल कोे हंगामा कर रहे सभी प्रतिपक्ष सदस्यों को सदन से बाहर निकालने के आदेश दिये। हंगामा उस समय शुरू हुआ जब प्रश्नकाल में पहले नम्बर पर प्रधानमंत्री निशुल्क आवास योजना के प्रश्न के दौरान प्रतिपक्ष सदस्यों को पूरक प्रश्न करने का मौका नहीं देने पर कांगे्रस के गोविन्द डोटासरा, निर्दलीय हनुमान बेनीवाल,बसपा के मनोज न्यागली समेत अन्य प्रतिपक्ष सदस्यों ने आसन के समक्ष आकर नारेबाजी शुरू की।
भाषा अनिल

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मध्य प्रदेशः नदी में गिरा हेलीकॉप्टर, 2 ट्रेनी पायलेटों की मौत
2 नक्सली हमले में शहीद हुए जवानों के परिजनों ने की सुरक्षाबलों को पूरी छूट देने की मांग
3 MCD चुनाव नतीजे 2017: अपने क्षेत्र में खराब प्रदर्शन के बाद AAP विधायक अलका लांबा ने की इस्तीफे की पेशकश
ये पढ़ा क्या...
X