ताज़ा खबर
 

भारत के चार राज्यों से ISIS के 14 हमदर्द गिरफ्तार

राष्ट्रीय जांच एजंसी (एनआइए) ने राज्यों की पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा एजंसियों के साथ मिलकर पूरे देश से प्रतिबंधित आतंकवादी समूह आइएस के साथ हमदर्दी रखने वाले 14 लोगों को उनके स्वयंभू प्रमुख ‘अमीर’ सहित गिरफ्तार कर बड़े...

ISIS का असर राजस्‍थान, महाराष्ट्र सहित करीब दर्जन भर राज्यों में देखा जा रहा है। (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय जांच एजंसी (एनआइए) ने राज्यों की पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा एजंसियों के साथ मिलकर पूरे देश से प्रतिबंधित आतंकवादी समूह आइएस के साथ हमदर्दी रखने वाले 14 लोगों को उनके स्वयंभू प्रमुख ‘अमीर’ सहित गिरफ्तार कर बड़े आतंकवादी हमले को विफल करने का दावा किया।

चार राज्यों कर्नाटक, हैदराबाद, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में छापेमारी हुई जहां 14 लोगों ने ‘जनूद-उल-खलीफा-ए-हिंद’ नामक संगठन बना लिया था। इस आतंकवादी संगठन की विचारधारा आइएस के समान है। सूत्रों ने बताया कि मुंबई निवासी मनबीर मुश्ताक ने कथित रूप से खुद को इस समूह का अमीर घोषित कर दिया था। इसका काम देश भर में विभिन्न प्रतिष्ठानों पर बम विस्फोट करना और कुछ विदेशियोंं पर हमला करना था।

सभी राज्यों में वहां के पुलिस बल की सहायता से यह छापेमारी की गई। गिरफ्तार किए गए सभी आरोपियों को विस्तृत पूछताछ के लिए राष्ट्रीय राजधानी लाया जा रहा है। प्राथमिक जांच में खुलासा हुआ है कि इस आतंकवादी संगठन की एक निश्चित संरचना है। सूत्रों ने बताया कि एनआइए और केंद्रीय जांच एजंसियों ने 42 मोबाइल फोन भी बरामद किए हैं। इनमें से आठ मोबाइल फोन इस नए आतंकवादी समूह के ‘अमीर’ से बरामद हुए हैं जिसे कथित रूप से विदेशों से हवाला के जरिए धन भी मिला है। उन्होंने बताया कि जांच एजंसियों को विस्फोट सामग्री, डेटोनेटर्स, तार, बैटरियां और हाईड्रोजन पैराआॅक्साइड के अलावा जेहादी साहित्य भी मिला है।

दरअसल इससे पहले पुलिस ने चार लोगों को हरिद्वार से दबोच कर आइएस के नेटवर्क से भारतीयों के जोड़ने की साजिश का खुलासा किया था। चार संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार कर दावा किया था कि इराक और सीरिया में बैठे आइएस के आतंकियों ने उन्हें दिल्ली के साथ ही हरिद्वार में चल रहे अर्द्धकुंभ को लक्ष्य करने का निर्देश दिया था। इससे पता चला है कि आतंकवादी जनवरी के अखिर में उत्तर भारत में हमले की फिराक में हैं।

उनकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने कई और लोगों को दबोच लिया है। सूत्रों का दावा है कि उनकी उम्र 19 से 30 साल के बीच है। ये लोग सीरिया और इराक में आइएस के लोगों से सोशल नेटवर्किंग केजरिए संपर्क में थे। माना जा रहा है कि 13 लोगों की हुई गिरफ्तारियां उन्हीं की ओर से मुहैया कराए गए सूचना के आधार पर हुई हैं।

Next Stories
1 टैक्‍स सुधार लागू करने में नाकाम रहे अरुण जेटली से वित्‍त मंत्रालय वापस ले सकते हैं PM मोदी
2 बिहार के बाद अब UP में भी बनेगा आरक्षण मुद्दा
3 CBI को छापे पर कोर्ट से फटकार के बाद अरविंद केजरीवाल ने PMO से मांगा जवाब, सिसोदिया बोले- माफी मांगे मोदी
यह पढ़ा क्या?
X