ताज़ा खबर
 

दो महीने से भी कम समय में 125 इंस्पेक्टरों के तबादले

दो महीने से भी कम समय में करीब 125 इंस्पेक्टरों के तबादले के बाद पुलिस आयुक्त आलोक कुमार वर्मा की नजर अब जिले के पुलिस उपायुक्तों के फेरबदल पर है।

Author नई दिल्ली | Updated: September 17, 2016 2:34 AM
पुलिस आयुक्त आलोक कुमार वर्मा

दो महीने से भी कम समय में करीब 125 इंस्पेक्टरों के तबादले के बाद पुलिस आयुक्त आलोक कुमार वर्मा की नजर अब जिले के पुलिस उपायुक्तों के फेरबदल पर है। इन इंस्पेक्टरों का तबादला कर वर्मा ने जहां एक ओर यह संदेश दिया है कि तय समय पूरा होने के बाद किसी को भी मनचाही जगह पर रहने नहीं दिया जाएगा, वहीं दिल्ली में लूटपाट, झपटमारी और वाहन चोरी में हो रही वृद्धि को रोकने में नाकाम रहे अधिकारियों की छुट्टी भी की जाएगी। आयुक्त ने इन मसलों पर सभी जिले के उपायुक्तों को हिदायत देते हुए पुलिस की छवि सुधारने की दिशा में गंभीरता से काम करने की बात कही है। हालांकि पुलिस प्रवक्ता और अपराध शाखा के उपायुक्त राजन भगत का कहना है कि यह नियमित तबादला है। समय पूरा कर चुके इंस्पेक्टरों को नियमानुसार दूसरी जगह भेजा जा रहा है।

अगस्त के शुरू में इंस्पेक्टरों के तबादले की लंबी सूची ने उन पुलिसवालों की चिंता बढ़ा दी जो अपने आका को खुश करके सालों से एक ही जगह आराम फरमा रहे थे। मौजूदा पुलिस आयुक्त ने ऐसे इंस्पेक्टरों को भी संवेदनशील जगहों पर भेजना शुरू कर दिया है। सीधे तौर पर यह भी कहा जा रहा है कि जिन इंस्पेक्टरों की गलतियां पकड़ी गर्इं, उन्हें सजा देने के बजाए माफ कर दिया गया या पोस्टिंग का कार्यकाल खत्म होने के बाद विभागीय दांव-पेच का फायदा उठाते हुए जो इंस्पेक्टर एक ही जगह विराजमान थे उन्हें अब फाइल की खाक छानते रहने वाले पदों पर भेजा जा रहा है।

इन 125 इंस्पेक्टरों के तबादले में सरिता विहार के विवादास्पद एसएचओ मनिंदर सिंह भी शामिल हैं जो बीएस बस्सी के कार्यकाल के अंतिम दिनों में वीआइपी रूट के फेरे में फंसकर सजा पाते-पाते बच गए थे। आयुक्त आलोक कुमार वर्मा ने इस बार उन्हें बख्शने के बजाए सीधे थाने से सुरक्षा यूनिट में भेजकर यह संदेश दिया है कि ऐसे पुलिसवालों की अब खैर नहीं। आयुक्त वर्मा ने आला पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में होने वाली कानून व्यवस्था की बैठक में बाहरी, पूर्वी, उत्तर-पूर्वी और नई दिल्ली के जिला उपायुक्तों को लूटपाट रोकने में नाकाम रहने, बाहरी, दक्षिणी, दक्षिण-पश्चिमी उपायुक्तों को कार व ट्रक चोरी में नाकाम रहने और नई दिल्ली, उत्तर-पूर्वी, मध्य और उत्तरी जिले के पुलिस उपायुक्तों को झपटमारी की वारदाते रोकने में नाकाम रहने पर सख्त हिदायत दी है।अगर आयुक्त की हिदायत पूरी तरह अमल में नहीं लाई गई तो इन सभी जिलों के उपायुक्तों का जाना भी तय है। उपायुक्त से अलग जिन 125 इंस्पेक्टरों कोनिशाने पर लिया गया है उनमें कुछ ने समय पूरा कर लिया है तो कुछ के खिलाफ लंबे समय से शिकायत थी, कुछ मलाईदार पदों के फेरे में दूसरी जगह नहीं जा रहे थे, तो कुछ को लंबे समय से थाने की जिम्मेदारी मिलने की दरकार थी। कहा तो यह भी जा रहा है कि अभी कुछ थानों में मलाईदार पदों पर बैठे इंस्पेक्टरों की बारी भी आने ही वाली है। इनमें कमला मार्केट से लेकर करोलबाग, सदर बाजार, कनॉट प्लेस, हौज खास, ओखला, लाजपतनगर, कोतवाली, पहाड़गंज, जामियानगर, फतेहपुर बेरी, सरोजिनी नगर, मयूर विहार फेज-एक के साथ सीमावर्ती थानों और भीड़भाड़ वाले बाजारों के थाने शामिल माने जाते हैं।

बहरहाल, आयुक्त ने अभी ज्यादातर तबादले अपराध शाखा, सुरक्षा, ट्रैफिक, पीसीआर, आर्थिक अपराध शाखा, बटालियन, स्पेशल ब्रांच और पीटीएस जैसी यूनिटों के इंस्पेक्टरों के ही किए हैं। अपराध शाखा में तैनात इंस्पेक्टर लोकेश कुमार शर्मा को गोविंदपुरी, अपराध शाखा के ही वेद प्रकाश को आदर्शनगर थाना, पश्चिम जिला से कुलदीप सिंह को उत्तमनगर थाना, मध्य जिला से प्रवीण कुमार को आइपी एस्टेट थाना, बाहरी जिले से अनवर खान को गोकुलपुरी थाना, उत्तरी दिल्ली से विक्रम सिंह को संगम विहार थाना, दक्षिण-पूर्वी से संजय कुमार को जनकपुरी थाना, दक्षिण-पश्चिम से माधव कृष्ण को पश्चिम विहार थाना, अपराध शाखा से नरेंद्र सिंह चाहर को जाफरपुर कलां थाना, बीडीटी उत्तरी से नवीन कुमार को पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन थाना, स्पेशल सेल से विनय कुमार को कल्याणपुरी थाना के साथ ही हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से प्रदीप कुमार को महिला अपराध शाखा, लाजपतनगर से सुशील को बाहरी जिला, आइपी एस्टेट से संजय सिंह को स्पेशल ब्रांच, पश्चिम विहार से सुरेंद्र को हजरत निजामुद्दीन, संगम विहार से बदरुद्दीन को नंदनगरी थाना, नई दिल्ली से संजीव परमार को ट्रैफिक और हर्ष विहार एसएचओ सुरेंद्र कुमार को अपराध शाखा में भेजा गया।

Next Stories
1 Sex Scandal में फसे APP विधायक की जेल में पिटाई, अधिकारी को अदालती नोटिस
2 नेताजी ने संभाली एका की कमान
3 दीनहीन दाना मांझी पर मेहरबान हुए दाता
ये पढ़ा क्या?
X