ताज़ा खबर
 

जैसलमेर में 102 मदरसों के पंजीकरण रद्द

राजस्थान मदरसा बोर्ड ने जिले में चल रहे मदरसों में से 102 मदरसों के पंजीकरण रद्द कर दिए हैं। राजस्थान मदरसा बोर्ड के सचिव कुंदनलाल माथुर ने बताया कि 102 मदरसों में बच्चों की संख्या नहीं के बराबर होने के कारण उन्हें बंद कर दिया गया है..

Author जैसलमेर | Updated: December 20, 2015 12:50 AM
मदरसे में तालीम लेते छात्र। (फाइल फोटो) चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

राजस्थान मदरसा बोर्ड ने जिले में चल रहे मदरसों में से 102 मदरसों के पंजीकरण रद्द कर दिए हैं। राजस्थान मदरसा बोर्ड के सचिव कुंदनलाल माथुर ने बताया कि 102 मदरसों में बच्चों की संख्या नहीं के बराबर होने के कारण उन्हें बंद कर दिया गया है। अब इस बारे में एक समीक्षा कमेटी का गठन किया गया है जो मदरसों की जांच कर वस्तुस्थिति की रिपोर्ट पेश करेगी जिसके आधार पर ही आगे की कार्यवाही की जाएगी। बोर्ड सूत्रों के अनुसार सीमावर्ती जिले में 173 मदरसे संचालित हैं। सभी मदरसों का भौतिक सत्यापन कर लिया गया है और चालू हालत में पाए गए। जिले के 173 मदरसों में से 73 मदरसों पर ही अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी की निगरानी है। इन मदरसों में 143 पैराटीचर कार्यरत हैं।

जैसलमेर से पूर्व विधायक एस मोहम्मद ने राज्य सरकार से रद्द पंजीकरण को पुनर्बहाल करने की मांग करते हुए कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के हजारों बच्चों को तालीम से महरूम किया गया है। उन्होंने इस मुद्दे पर आंदोलन की चेतावनी दी। चेतावनी दी कि इन मदरसों को फिर से शुरू नहीं करने पर आंदोलन छेड़ा जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories