ताज़ा खबर
 

यूपी: बजरंग दल दफ्तर में 10 साल के बच्चे से कुकर्म, संगठन ने कहा- आरोपी हमारा सदस्य नहीं

घरवालों का कहना है कि आरोपी बजरंग दल का बड़ा नेता है। हालांकि, संगठन के पदाधिकारियों ने इस आरोप को सिरे से खारिज किया है। पीड़ित बच्चा कक्षा 4 में पढ़ता है। घरवालों का कहना है कि आरोपी ने कुकर्म करने के बाद बच्चे को धमकी दी कि अगर वह यह बात किसी को बताएगा तो वह उसे मार डालेगा।

बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश में धर्मपरिवर्तन पर बवाल किया है। (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

यूपी के मेरठ में एक 10 साल के बच्चे के साथ कुकर्म का का मामला सामने आया है। आरोपी युवक कथित तौर पर बच्चे को बहला-फुसलाकर बजरंग दल के दफ्तर में ले गया। फिर वहां वारदात को अंजाम दिया। बाद में बच्चे ने इस बारे में अपने घरवालों को जानकारी दी, जिसके बाद मामला प्रकाश में आया। बच्चे के घरवालों ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई है। घरवालों का कहना है कि आरोपी बजरंग दल का बड़ा नेता है। हालांकि, संगठन के पदाधिकारियों ने इस आरोप को सिरे से खारिज किया है। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना मंगलवार को सूरजकुंड इलाके में हुई । परिजनों का कहना है कि आरोपी घर के बाहर से बच्चे को बहला-फुसला कर अपने साथ बजरंग दल के दफ्तर में ले गया। शहर के सिविल लाइन थाने में मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। पीड़ित बच्चे के घरवालों ने थाने में जमकर हंगामा भी मचाया। पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। आरोपी फिलहाल पुलिस के शिकंजे से बाहर है।

पीड़ित बच्चा कक्षा 4 में पढ़ता है। घरवालों का कहना है कि आरोपी ने कुकर्म करने के बाद बच्चे को धमकी दी कि अगर वह यह बात किसी को बताएगा तो वह उसे मार डालेगा। इसके बाद, बच्चा सहम गया और शुरुआत में इस बारे में किसी को नहीं बताया। इस दौरान शक होने पर घरवाले लगातार उससे पूछते रहे कि क्या बात है। बाद में बुधवार शाम बच्चे ने डरते-डरते सारी घटना घरवालों को बताई। पीड़ित परिवार का कहना है कि आरोपी बजरंग दल का संगठन मंत्री है। वहीं, संगठन के प्रांत संयोजक बलराज डूंगर ने एक स्थानीय अखबार से बातचीत में कहा कि आरोपी का बजरंग दल से कोई लेना-देना नहीं है। वह एक खिलाड़ी है और स्पोर्ट्स स्टेडियम में प्रैक्टिस करने आता है। संगठन के ही एक पदाधिकारी का रिश्तेदार होने की वजह से वह पार्टी दफ्तर में कभी भी आता-जाता रहता है। डूंगर ने यह भी आरोप लगाया कि राजनीतिक कारणों से इस मामले को बहुत ज्यादा तूल दिया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App