ताज़ा खबर
 

राजपाटः फुरसत में पासवान

रामविलास पासवान जैसे फुरसत में हैं। पटना में तो करने के लिए कुछ बचा ही नहीं है।

रामविलास पासवान

रामविलास पासवान जैसे फुरसत में हैं। पटना में तो करने के लिए कुछ बचा ही नहीं है। दिल्ली से आते जरूर हैं पर करीबी पार्टी नेताओं से मेल मुलाकात कर लौट जाते हैं। पत्रकारों से बतिया लेते हैं। करीबी सही बात कह ही देते हैं कि लोजपा के मुखिया के पास अब बिहार में करने को कुछ बचा नहीं है। एक वक्त था जब नीतीश सरकार की जमकर आलोचना करते थे। अखबारों में सुर्खियों में छपते थे। अब जो सत्ता में बैठा है वह उनका अपना हो चुका है। दूसरा सत्ता से बाहर है। उसकी खिंचाई करने से कोई फायदा नहीं।

वह तो खुद ही परेशान है। दिल्ली की सत्ता में बैठा भी अपना ही भाई है। उसका जितना गुणगान किया जाए, कम है। ज्यादा गुणगान शोभा भी नहीं देगा। ज्यादा बड़े सपने देखते भी नहीं। जो देखा वह पूरा हो गया। भाइयों को तो राजनीति में पहले ही स्थापित कर दिया था। अब बेटा भी मंज गया है। एक छोटे भाई को बिहार सरकार में मंत्री पद मिल चुका है। रही बेटे चिराग की बात तो उसे खुद से ज्यादा समझदार मानते हैं पासवान। बेलाग कहते हैं कि उसकी सलाह मान ली तो बिहार में लोकसभा चुनाव में ताकत पहली बार इतनी बढ़ गई है। फिलहाल तो निश्चिंत हैं। कल क्या होगा, उसकी अभी से कोई परवाह क्यों करें?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राजपाट- कंपकंपी
2 राजपाट- लालू की ललकार
3 राजपाट- बेचारे नीकु
यह पढ़ा क्या?
X