ताज़ा खबर
 

राजपाट: हार से बेअसर कांग्रेसी

पूरे प्रदेश में उनकी सबसे ज्यादा वोटों से हार हुई। उधर हरीश रावत के कट्टर समर्थक विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष करण महारा और पूर्व कांग्रेस विधायक रंजीत सिंह रावत ने भी हरीश रावत के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

Author Published on: July 6, 2019 7:09 AM
हरीश रावत और राहुल गांधी फाइल फोटो- फाइनेंशियल एक्सप्रेस

उत्तराखंड में आजकल कांग्रेस में भारी उठापटक चल रही है। प्रदेश कांग्रेस संगठन के समानांतर हरीश रावत ने अपना समानांतर संगठन चला रखा है। प्रदेश संगठन को विश्वास में लिए बिना हरीश रावत आए दिन कार्यक्रम करते रहते हैं। आजकल हरीश रावत उत्तराखंड के दौरे पर हैं। उनका कहना है कि वे पूरे प्रदेश में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का सूपड़ा साफ होने के कारणों का पता लगाने में लगे हुए हैं। उन्होंने कांग्रेस के बुजुर्ग नेताओं को सम्मानित करने का भी कार्यक्रम बनाया है, जिसकी शुरुआत हरीश रावत ने हरिद्वार में कांग्रेस समर्थित स्वामी सतपाल ब्रह्मचारी के आश्रम राधा कृष्ण धाम से की। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह और नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर इंदिरा हृदयेश को यह नागवार गुजरा।

उन्होंने हरीश रावत को नसीहत दे डाली कि वे कोई भी कार्यक्रम प्रदेश कांग्रेस संगठन को विश्वास में लिए बिना नहीं बनाएं। परंतु हरीश रावत कहां मानने वाले हैं। उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेसीजनों को सम्मानित करने का अपना कार्यक्रम जारी रखा है। उल्टे इतने दिनों बाद राहुल गांधी के इस्तीफे से प्रभावित होकर कांग्रेस के महासचिव पद से इस्तीफा दे दिया है और असम में कांग्रेस की हार की जिम्मेदारी अपने ऊपर ली है। हरीश रावत कांग्रेस के महासचिव होने के साथ-साथ असम के प्रभारी भी थे। जबकि हरीश रावत को उत्तराखंड की नैनीताल संसदीय सीट से बुरी तरह हारे थे।

पूरे प्रदेश में उनकी सबसे ज्यादा वोटों से हार हुई। उधर हरीश रावत के कट्टर समर्थक विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष करण महारा और पूर्व कांग्रेस विधायक रंजीत सिंह रावत ने भी हरीश रावत के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। जब हरीश रावत मुख्यमंत्री थे, तब रंजीत रावत उनके औद्योगिक सलाहकार थे और उन्होंने जमकर मलाई चाटी। रावत के मुख्यमंत्री पद से हटते रंजीत रावत उनके खिलाफ हो गए, जिससे रावत को झटका लगा। अब हरीश रावत के खिलाफ प्रीतम सिंह और इंदिरा हृदयेश आजकल पूरे उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों के दौरे पर है। इन दोनों नेताओं ने अपने दौरे की शुरुआत हरीश रावत के गृह जनपद पिथौरागढ़ से की। कांग्रेस के नेता उत्तराखंड में लोकसभा की पांचों सीटों पर सूपड़ा साफ होने के बाद भी सबक लेने को तैयार नहीं हैं।

(प्रस्तुति : मनोज मिश्र)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राजपाट: दीदी की कवायद
2 राजपाट: बदलते रिश्ते
3 राजपाट: जूतों में दाल