ताज़ा खबर
 

राजपाट: खुन्नस की बानगी

नीतीश की हिदायत आई होगी तभी तो केसी त्यागी और जद (एकी) के कुछ दूसरे नेता चुनाव आयोग भी जा पहुंचे। गुहार लगाई कि शरद यादव की खाली होने जा रही सीट के लिए उपचुनाव में देर न की जाए।

Author May 12, 2018 5:49 AM
बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार। (PTI File Pic)

नीतीश कुमार चाहते हैं कि राज्यसभा की उस सीट पर उपचुनाव वक्त पर हो जाए जो शरद यादव के पास थी। यादव को राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने दल बदल के आरोप में उच्च सदन की सदस्यता के अयोग्य घोषित कर दिया था। अगले महीने यह सीट खाली हो जाएगी। जाहिर है कि नीतीश अपने किसी करीबी को उपचुनाव के जरिए राज्यसभा भेजने की योजना बना चुके होंगे। अभी इसका कार्यकाल करीब चार साल बचा है। शरद यादव और नीतीश में कभी अद्भुत भाईचारा था। यादव पार्टी के अध्यक्ष भी थे और राज्यसभा में पार्टी के नेता भी। फिर दोनों में मतभेद हुए तो नीतीश ने पार्टी पर पकड़ मजबूत की। शरद यादव को अध्यक्ष पद से चुनाव के जरिए हटाना आसान नहीं था।

लिहाजा उन्होंने दबाव का नया तरीका अपनाया। शरद को संदेश भिजवा दिया कि वे पार्टी का अध्यक्ष पद छोड़ेंगे तभी मिल पाएगी उन्हें राज्यसभा की सीट। यादव ने खुद ही इस्तीफे की पेशकश कर मजबूरी में नीतीश के लिए पार्टी अध्यक्ष की कुर्सी खाली कर दी। पर बाद में लालू और नीतीश में टकराव हुआ तो शरद यादव नीतीश के आदेश को धता बता कर लालू के मंच पर जा पहुंचे। उसी का खमियाजा उन्हें राज्यसभा की सीट गंवा कर भुगतना पड़ा। शरद यादव लालू की मदद से राज्यसभा पहुंचने की जुगत जरूर भिड़ा रहे होंगे। पर सफलता मिलेगी, अभी कहना मुश्किल है। अलबत्ता नीतीश ने ठान रखा है कि वे शरद यादव को उच्च सदन में नहीं पहुंचने देंगे। मुंह से भले न बोलते हों पर नीतीश की फितरत तो जगजाहिर है कि जो उनकी बात नहीं मानता वे उसे दर-दर की ठोकर खिलाने पर आमादा हो जाते हैं।

नीतीश की हिदायत आई होगी तभी तो केसी त्यागी और जद (एकी) के कुछ दूसरे नेता चुनाव आयोग भी जा पहुंचे। गुहार लगाई कि शरद यादव की खाली होने जा रही सीट के लिए उपचुनाव में देर न की जाए। कोई नहीं समझ पाया कि इस कवायद की जरूरत क्या थी? चुनाव आयोग तो वैसे भी उपचुनाव समय सीमा का ध्यान रखते हुए कराता ही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App