jansatta column Rajapat leader Ali Hussein said that the Muslims of West Bengal are no longer the enemy of the BJP - राजपाट: राग अल्पसंख्यक - Jansatta
ताज़ा खबर
 

राजपाट: राग अल्पसंख्यक

बीजेपी पार्टी की विकास परख नीतियों के चलते अल्पसंख्यकों का उसके प्रति भरोसा बढ़ा है। कहने को तो दिलीप घोष लोकसभा चुनाव में भी मुसलमानों की उम्मीदवारी पर सकारात्मक नजरिए से विचार का भरोसा दिला रहे हैं।

Author May 12, 2018 5:53 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फोटो सोर्स एक्सप्रेस के लिए ताशी)

भाजपा का रवैया भी विरोधाभासी है। उत्तर भारत में गोवंश की रक्षा की दुहाई देकर वोट बटोरती है तो उत्तर-पूर्व के राज्यों में उसकी नीति बदल जाती है। यानी येनकेन प्रकारेण सत्ता मिलनी चाहिए। पश्चिम बंगाल में पहले तो सांप्रदायिक आधार पर ध्रुवीकरण के प्रयोग आजमाए। सफलता नहीं मिली तो अब यूटर्न ले लिया है। जाहिर है कि फिलहाल चिंता पंचायत चुनाव ने बढ़ा रखी है। कर्नाटक में एक भी मुसलमान को विधानसभा का टिकट भले न दिया हो पर पश्चिम बंगाल में तो पहली बार एक हजार से ज्यादा मुसलमानों को पंचायत चुनाव में उम्मीदवार बनाया है। हालांकि दिखावे को कुछ मुसलमानों को टिकट 2013 के चुनाव में भी दिए थे। उसके बाद 2016 में विधानसभा चुनाव हुए तो छह मुसलमानों को उम्मीदवार बनाया।

भले जीत एक भी न पाया था। भाजपा को बखूबी समझ आ चुका है कि पश्चिम बंगाल में उत्तर प्रदेश की तर्ज पर मुसलमानों को हाशिए पर धकेल कर कामयाबी नहीं पाई जा सकती। आखिर उनकी आबादी तीस फीसद जो ठहरी। मुसलमानों को अपने पाले में करके ही तो तृणमूल कांग्रेस 34 साल तक सूबे की सत्ता पर काबिज वाम मोर्चे को शिकस्त दे पाई। भाजपा का उत्साह माकपा और कांग्रेस के लगातार खिसक रहे जनाधार ने बढ़ाया है। वह तृणमूल कांग्रेस के मुकाबले दूसरे नंबर की पार्टी के तौर पर उभरने की लगातार जुगत भिड़ा रही है। ऐसे में मुसलमानों की नाराजगी से नुकसान होने का अहसास हो चुका है। मुसलमानों के प्रति नजरिए में बदलाव के संकेत पार्टी ने पिछले दिनों अल्पसंख्यक सम्मेलन के आयोजन से ही दे दिए थे। पार्टी के सूबेदार दिलीप घोष तो यहां तक फरमा रहे हैं कि नामांकन की प्रक्रिया के दौरान अगर हिंसा न हुई होती तो पार्टी कम से कम दो हजार मुसलमान उम्मीदवार मैदान में उतारती।

पार्टी के अल्पसंख्यक मोर्चे के अध्यक्ष अली हुसैन तो यहां तक दावा करने लगे हैं कि सूबे के मुसलमानों को अब भाजपा अपनी दुश्मन नहीं लगती। पार्टी की विकास परख नीतियों के चलते अल्पसंख्यकों का उसके प्रति भरोसा बढ़ा है। कहने को तो दिलीप घोष लोकसभा चुनाव में भी मुसलमानों की उम्मीदवारी पर सकारात्मक नजरिए से विचार का भरोसा दिला रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App