UPA में शामिल होने के सवाल पर राहुल गांधी से मिले राउत, बोले- कांग्रेस बगैर विपक्ष नहीं, उद्धव से मिलने के बाद ही कोई फैसला संभव

बैठक के बाद जब शिवसेना नेता संजय राउत बाहर आए तो उनसे पूछा गया कि क्‍या शिवसेना यूपीए में शामिल होगी? उन्‍होंने कहा कि, ‘ यह एक लंबी बैठक थी, वे पहले उद्धव ठाकरे से मिलेंगे और फिर इसके बारे में बात करेंगे।’ या इस बारे में फैसला उद्धव ठाकरे की ओर से किया जा सकता है।

UPA में शामिल होने के सवाल पर राहुल गांधी से मिले राउत (Photo- ANI/Twitter)

दिल्‍ली में राहुल गांधी के साथ शिवसेना नेता संजय राउत ने मुलाकात की। इस दौरान काफी देर तक दोनों नेताओं में बातचीत की हुई। बैठक के बाद जब शिवसेना नेता संजय राउत बाहर आए तो उनसे पूछा गया कि क्‍या शिवसेना यूपीए में शामिल होगी? उन्‍होंने कहा कि, ‘ यह एक लंबी बैठक थी, वे पहले उद्धव ठाकरे से मिलेंगे और फिर इसके बारे में बात करेंगे।’ या इस बारे में फैसला उद्धव ठाकरे की ओर से किया जा सकता है।

शिवसेना नेता संजय राउत ने आगे बोलते हुए कहा कि, ‘कांग्रेस के बिना विपक्षी मोर्चा संभव नहीं है। विपक्षी मोर्चे का चेहरा चर्चा का विषय हो सकता है। जिसे लेकर राहुल गांधी जल्द ही मुंबई जाएंगे। उन्‍होंने यह भी कहा कि केवल एक विपक्षी मोर्चा होना चाहिए।” हालाकि उन्‍होंने यूपीए में शिवसेना के शामिल होने की बात को स्‍पष्‍ट नहीं किया। लेकिन राहुल गांधी और संजय राउत के बीच हुई इस मुलाकात से दोनों पॉर्टी की नजदीकियां बढ़ रही हैं।

बता दें कि इससे पहले प्रशांत किशोर के द्वारा कांग्रेस को लेकर दिए गए बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवसेना के मुखपत्र सामना ने कहा था कि यूपीए का नेता कौन होगा, यह तय करने से पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ विपक्ष को एकजुट होकर लड़ना होगा।

यह भी पढ़ें: SKM कर रहा आंदोलन खत्म करने की बात, टिकैत बोले- सरकार ये 1 साल से कह रही, पर मुद्दों का निपटारा हुए बगैर कोई नहीं जाएगा अपने घर

इससे पूर्व में प्रशांत किशोर ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा था कि पूपीए पर किसी का दैवीय अधिकार नहीं है। उन्‍होंने बताया कि पॉर्टी पिछले 10 सालों में 90 प्रतिशत से अधिक चुनाव हार चुकी है। इसलिए यूपीए का नेता कौन हो इसपर विचार करना चाहिए।

जिसके बाद शिवसेना के मुख्‍यपत्र सामना ने कहा था, “कांग्रेस अभी भी कई राज्यों में है। गोवा और पूर्वोत्तर राज्यों में कांग्रेस नेता तृणमूल में शामिल हो गए हैं और आप के साथ भी ऐसा ही है।” संपादकीय में यह भी कहा गया है कि यूपीए जैसा गठबंधन बनाने से भाजपा को ही मजबूती मिलेगी।

पढें राजनीति समाचार (Politics News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट