ताज़ा खबर
 

राजनीति

नई इबारत लिखने का वक्त

भारत-पाकिस्तान के बीच मैत्रीपूर्ण संबंधों की जीवन भर वकालत करते रहे चोटी के शायर अहमद फराज का एक शेर है, ‘रात नाम लेती नहीं...

धर्म, समाज और स्त्री

परंपरा की दुहाई देते हुए या आस्था की बात करते हुए क्या समाज के एक हिस्से के साथ प्रगट भेदभाव किया जा सकता है?...

सुरक्षित यातायात की बात

तमाम विकासशील देश शहरी यातायात और समुदायों की सुरक्षा के पहलुओं पर न केवल आधी शताब्दी से विचार कर रहे हैं, बल्कि उन्हें दूर...

गणित में पिछड़ती भारतीय मेधा

रामानुजन की प्रतिभा के मद्देनजर 28 फरवरी 1918 को रॉयल सोसायटी ने उन्हें अपना सदस्य बना कर सम्मानित किया और ट्रिनिटी कॉलेज ने भी...

सफेद हाथी या विकास के सारथी

क्या देश को सार्वजिनक क्षेत्र के उपक्रमों (पीएसयू) की जरूरत है? क्या ये सफेद हाथी साबित हो रहे हैं? क्या इनकी देश को जरूरत...

धार्मिक शिक्षा का औचित्य क्या है

हालांकि हमारे देश के कई प्रखर विचारक तथा बुद्धिजीवी इस बारे में सचेत करते रहे हैं कि धर्म और राजनीति का रिश्ता किसी भी...

इस धुएं को कौन रोकेगा

दिल्ली में प्रदूषण काफी खतरनाक हद तक पहुंच गया है इस बारे में अब दो राय नहीं है। अनेक अध्ययन इसकी गवाही देते हैं।...

जेलों पर बढ़ते बोझ के मायने

दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के मेरठ मंडल की जेलों के ताजा आंकड़े जरा देखें। मेरठ जेल की क्षमता 1707, निरुद्ध बंदी 3357; गाजियाबाद...

किसान आयोग की जरूर क्यों

खेती और किसानी पर जितनी बातें हमारे देश में होतीं हैं, अगर उनका कुछ अंश भी साकार हो तो हमारे यहां खेती को वाकई...

पंचायतों में सुधार का आधार

गुजरात में स्थानीय निकाय चुनावों में मतदान को अनिवार्य करने संबंधी कानून के बाद अब राजस्थान सरकार ने पंचायत चुनावों के लिए एक नया...

असमानता की ओर तेज कदम

चार दिसंबर को दिल्ली विधानसभा ने शिक्षा संबंधी तीन विधेयक पारित किए। इन विधेयकों का उद्देश्य दिल्ली विद्यालय शिक्षा अधिनियम, 1973 (अब से अधिनियम...

समान नागरिक संहिता की जरूरत किसे है

हमारे देश में समान नागरिक संहिता को एक जटिल तथा विवादास्पद मुद्दा बना दिया गया है। हाल में फिर से एक जनहित याचिका की...

चुनावी चंदे की बिसात

चुनाव सुधार पर बरसों से चली आ रही बहस के बावजूद राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे का चरित्र ज्यों का त्यों है।

ऑटोबायोग्राफी: 91 में PM बनने वाले थे शरद पवार, सोनिया गांधी ने लगाया अड़ंगा

'ऑटोबायोग्राफी' में पवार ने लिखा, '10 जनपथ के वफादारों में शामिल अर्जुन सिंह खुद भी पीएम बनना चाहते थे, लेकिन उन्‍हें डर था कि...

संघर्षों का भूमंडलीकरण

संघर्ष ऐसा शब्द है, जो इंसान की नियति के साथ शुरू से ही बंधा हुआ है। जिंदा रहने का संघर्ष, बेहतरी का संघर्ष और...

जातिप्रथा से मिलता से भ्रष्टाचार को बढ़ावा

भ्रष्टाचार के कारण सारी व्यवस्था त्रस्त है। इसके उन्मूलन के लिए संसद से सड़क तक बहस छिड़ गई है। डॉक्टर लोहिया कहा करते थे...

सूचनाधिकार की सार्थकता पर सवाल

सूचनाधिकार यानी आरटीआइ कानून को लागू हुए पिछले अक्तूबर में दस वर्ष हो गए। इतने साल बाद यह सवाल उठना लाजिमी है कि मौजूदा...

प्राथमिक शिक्षा की चुनौतियां

साक्षरता और शिक्षा के मामले में भारत की गिनती दुनिया के पिछड़े देशों में होती है। अगर हम अपने देश की तुलना आसपास के...