ताज़ा खबर
 

राजनीति

राजनीति: आतंकियों का नया निशाना

इसी साल आतंकियों ने करीब चालीस पुलिस अधिकारियों की बेरहमी से हत्या कर दहशतगर्दी और दरिंदगी का नया रक्तरंजित खेल शुरू कर दिया है,...

राजनीति: शताब्दी के बड़े सवाल

जहां महाविनाशक हथियारों जैसे खतरों के प्रति सचेत होना जरूरी है, वहीं यह समझ बनाना भी जरूरी है कि इनके उपयोग की संभावना क्यों...

राजनीतिः बाढ़ और सूखे का चक्रव्यूह

देश में विशेषरूप से बिहार, झारखंड और असम ऐसे तीन राज्य हैं जिन्हें हर वर्ष बाढ़ से सबसे अधिक क्षति पहुंचती है। उत्तर प्रदेश...

राजनीतिः कानून लागू करने की चुनौती

कानून कुछ भी कहते रहें, कानून एक सहारा तो देता है। लेकिन समाज अपनी धारणाओं को क्यों नहीं बदल पाता, यह सोचने की बात...

राजनीतिः जरूरी है गांधी को समझना

सच्ची शिक्षा उस मनुष्य ने पाई है जिसके शरीर को ऐसी तालीम दी गई है कि वह उसके बस में रह सकता है, सौंपा...

राजनीतिः निवेशकों के हित और जोखिम

यदि सरकार भारत के शेयर और पूंजी बाजार को मजबूत बनाने की डगर पर आगे बढ़ना चाहती है, तो सेबी की भूमिका को और...

राजनीति: निष्पक्ष चुनाव और लोकतंत्र

चुनाव आयोग से उम्मीद की जाती है कि देश में जहां भी चुनाव हों वहां स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण मतदान कराया जाए। चुनाव से...

राजनीति: समाज में तिरस्कृत बुजुर्ग

देश में बुजुर्गों का एक तबका ऐसा भी है जो या तो अपने घरों में तिरस्कृत व उपेक्षित जीवन जी रहा है या फिर...

राजनीतिः दागियों को रोकने की चुनौती

दरअसल, राजनीतिक दलों को विश्वास हो गया है कि जो जितना बड़ा दागी है, उसके चुनाव जीतने की उतनी ही ज्यादा गारंटी है। पिछले...

राजनीतिः तबाह फसलों के बीच खड़ा किसान

डीजल की बढ़ती कीमतों ने देश के किसानों की हालत और खराब कर दी है। पिछले साल सितंबर में डीजल सत्तावन से साठ रुपए...

राजनीति: मालदीव का नया दौर

चीन पर्दे के पीछे से ऐसा जाल बुन रहा है, जिससे मालदीव और नई दिल्ली में दूरी बढ़ जाए। हिंद महासागर में भारत को...

राजनीति: ईरान-अमेरिका के बीच भारत

अमेरिका-ईरान संबंध उस वक्त बिगड़ने शुरू हुए थे जब 1979 की इस्लामी क्रांति के बाद अमेरिका के पिट्ठू कहे जाने वाले शाह मोहम्मद रजा...

राजनीति: मौत के सीवर से निकलते सवाल

जिस देश में स्वच्छ भारत योजना और स्मार्ट शहर परियोजना का ढिंढोरा पीटा जा रहा हो, वहां यह देखना सचमुच त्रासद है कि सीवर...

राजनीति: नशे के दलदल में नौजवान

पंजाब जैसा ही हाल अब दूसरे पड़ोसी राज्यों का भी होने लगा है। अब जहां हिमाचल को ‘उड़ता हिमाचल’ की संज्ञा दी जाने लगी...

दुनिया मेरे आगे: बातों का व्यापार

जब सबके घरों में टेलीफोन नहीं होते थे, तब लोग अपनी सुविधा के मुताबिक अपने किसी पड़ोसी का फोन नंबर अपने विजिटिंग कॉर्ड पर...

राजनीतिः अमीरी की मार झेलते गरीब

आर्थिक असमानता देश में गरीबी और लोगों की निराशा में वृद्धि करती है। इसके कारण निजीकरण बढ़ने से शोषण को बढ़ावा मिलता है, कम...

दुनिया मेरे आगेः शिक्षा की सूरत

कुछ समय पहले हमारी कक्षा में एक विषय पर कई दिनों तक विवाद रहा कि किसी देश का विकास वहां की शिक्षा से संभव...

राजनीतिः विकास की नैतिक बुनियाद

यदि विकास को सही पटरी पर लाना है और उसे टिकाऊ तौर पर समतावादी व पर्यावरण की रक्षा के अनुकूल, न्यायसंगत व सभी जीवों...