ताज़ा खबर
 

पहले भगवा दिवाली फिर मनाएंगे राममंदिर की दिवाली; चुनावी रैली में उद्धव ठाकरे का ऐलान

Maharashtra Assembly Elections 2019: 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र में चुनाव से पहले मोदी और ठाकरे ने जनता का विश्वास जीतने की कोशिश की। दोनों नेताओं ने कहा कि देश प्रगति और विकास के रास्ते पर है।

Author मुंबई | Published on: October 19, 2019 3:15 PM
मुंबई में सभा को संबोधित करते शिवसेना नेता उधव ठाकरे (फोटो सोर्स- ANI)

शिवसेना मुखिया उधव ठाकरे ने मुंबई में एक चुनावी रैली में कहा कि इस बार की दिवाली भगवा दिवाली होगी। अगले महीने एक दिवाली और होगी, जो खास तौर पर अयोध्या और दूसरे स्थानों पर भी मनाई जाएगी। वह राम मंदिर दिवाली होगी। उधव ठाकरे 21 अक्टूबर को होने जा रहे मतदान से पहले जनता को संबोधित कर रहे थे।

पीएम ने कहा, आतंकी डरे : उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को मुंबई में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पिछली कांग्रेस सरकारों ने 26/11 के आतंकी हमलों के खिलाफ कदम उठाने में नाकाम रहीं। मोदी ने कहा ऐसी स्थिति अब नहीं आएगी। क्योंकि आतंकियों को पता है कि उन्होंने अब ऐसा करने की कोशिश की तो उनके खिलाफ तेज और सख्त कार्रवाई होगी।
National Hindi News, 19 October 2019 Live Updates: दिन भर की बड़ी खबरों के लिए यहां करें क्लिक

देश से भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म होगा : मोदी ने कहा कि बीजेपी के नेतृत्व में केंद्र और राज्य की सरकारें भ्रष्टाचार मुक्त आर्थिक सुधारों को लाने का काम किया है। देश से भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करने के लिए सरकार कड़े कदम उठा रही है। पहले भ्रष्टाचार में लिप्त लोग अब सहमे हुए हैं। उनके कदम अब रुक गए हैं। वे अब एक अपराध करने के लिए सौ बार सोचते हैं।

आतंकियों की इंट्री नहीं : कहा कि मुंबई का समुद्री तट आतंकियों के लिए आने का सुरक्षित रास्ता था। लेकिन अब ऐसा नहीं है। उन्हें पता है कि इस रास्ते पर कड़ी निगरानी है। वे कहीं से भी इंट्री नहीं पाएंगे। 21 अक्टूबर को होने जा रहे चुनाव के मोदी का यह अंतिम रैली थी। दो दिन बाद मतदान होगा। इस बार शिवसेना और बीजेपी साथ-साथ चुनाव मैदान में हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 राजनीति: मध्य-पूर्व में कुर्दिस्तान की आहट
2 राजनीति: रोजगार से दूर होती महिलाएं
3 राजनीति: बिखरते परिवार और बुजुर्ग