ताज़ा खबर
 

पश्‍च‍िम बंगाल: पूर्व क्रिकेटर लक्ष्‍मीरतन शुक्‍ला बने मंत्री, क्रिकेट से जुड़ी कड़वी यादों पर जाहिर की राय

बंगाल के लिए आईपीएल में भी खेलने वाले शुक्ला ने सीजन के शुरू में कप्तानी छोड़ दी थी और फिर संन्यास भी ले लिया था। असल में जब वह कैब लीग में क्लब क्रिकेट खेल रहे थे तब बनर्जी ने उनसे कहा कि उन्हें हावड़ा से चुनाव लड़ना चाहिए।

Author May 27, 2016 7:12 PM
शुक्ला अब बंगाल में ममता बनर्जी के नव मंत्रिमंडल में सबसे युवा मंत्री बनकर राजनीतिक पिच पर खेलेंगे। (Photo Source: Facebook)

अपने क्रिकेट करियर की कुछ कसक उनके दिल में है लेकिन लक्ष्मी रतन शुक्ला इन सभी को भूलना चाहते हैं और अब अपनी नई पारी पर पूरा ध्यान देना चाहते हैं। शुक्ला अब बंगाल में ममता बनर्जी के नव मंत्रिमंडल में सबसे युवा मंत्री बनकर राजनीतिक पिच पर खेलेंगे। अपने 35वें जन्मदिन से तीन सप्ताह बाद ही बंगाल के पूर्व कप्तान और भारत की तरफ से तीन एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले शुक्ला क्रिकेट की अपनी सफेद पोशाक के बजाय सफेद कुर्ता पायजामा बनने वाले व्यक्ति बन गये।

बंगाल के लिए आईपीएल में भी खेलने वाले शुक्ला ने सीजन के शुरू में कप्तानी छोड़ दी थी और फिर संन्यास भी ले लिया था। असल में जब वह कैब लीग में क्लब क्रिकेट खेल रहे थे तब बनर्जी ने उनसे कहा कि उन्हें हावड़ा से चुनाव लड़ना चाहिए।

Read Also: ममता बनर्जी की शपथ ग्रहण में राष्ट्रगान के दौरान फोन पर बात करते दिखे फारुख अब्दुल्ला

शुक्ला ने बताया, ‘आज से मैं बीती बातों को भुलाना चाहता हूं। किन वजहों से मुझे संन्यास लेना पड़ा और भारत की तरफ से मैं तीन वनडे से अधिक मैच क्यों नहीं खेल पाया और 1999 के बाद मेरी राष्ट्रीय टीम में क्यों वापसी नहीं हुई। मैदान पर मेरे दिल में कुछ कसक रही होगी लेकिन मैदान से इतर अपनी दूसरी पारी मैं नए सिरे से शुरू करके लोगों के कल्याण के लिये काम कर रहा हूं।’

ईडन गार्डन्स की पिच ने शुक्ला को बंगाल का दिग्गज खिलाड़ी बनाया लेकिन अब वह सरकारी मुख्यालय में चले गए हैं । इसलिए उत्तरी हावड़ा के लोगों ने उन्हें जिस तरह बड़े अंतर से जिताया उसके साथ पूरा न्याय करना चाहते हैं।

Read Also: ममता की संपत्ति 5 साल में दोगुनी, 2.15 लाख की जिम मशीन, पर नहीं है गाड़ी, जानिए अन्य नेताओं के बारे में

शुक्ला ने साथ ही कहा, ‘यह अलग तरह की पिच है लेकिन मैं इसके लिए तैयार हूं। इससे पहले कवर ड्राइव के लिए मुझे गेंद की पिच तक पहुंचना पड़ता था। अब मुझे फिर से पहुंचना पड़ेगा लेकिन वे मेरे विधानसभा क्षेत्र और राज्य के लोग होंगे। हावड़ा (उत्तरी) के लोगों ने मुझे जितवाया क्योंकि उन्हें ममता बनर्जी के उम्मीद्वार पर भरोसा था।’

चर्चा है कि शुक्ला को खेल मंत्रालय सौंपा जा सकता है लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें मंत्रालय के बारे में नहीं बताया गया है। प्रथम श्रेणी मैचों में 6217 रन और 172 विकेट लेने वाले इस पूर्व आलराउंडर ने कहा, ‘दीदी (ममता बनर्जी) जो चाहेगी वही होगा। मैं लोगों के विकास के लिये कुछ भी करने के लिए तैयार हूं। यदि राज्य में विकास नहीं होता तो आपको इतनी बड़ी जीत नहीं मिलती। मेरा काम एक ऐसा सैनिक बनना है जो विकास का मशाल वाहक होगा।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X