ताज़ा खबर
 

वाजदा खान की कविताएं : वक्त का वजूद

सुर्ख चाहतों की जादुई दुनिया में, अंतिम तल पर उगे, मेरे अजीज रौशन रंगो, क्या शीर्षक दूं तुम्हें, धड़कनों पर लय के साथ, फैल रहे हो, उदास खयालों के दुनियावी

Author नई दिल्ली | Published on: July 24, 2016 1:12 AM
representative image

वक्त का वजूद

सुर्ख चाहतों की जादुई दुनिया में
अंतिम तल पर उगे
मेरे अजीज रौशन रंगो
क्या शीर्षक दूं तुम्हें
धड़कनों पर लय के साथ
फैल रहे हो
उदास खयालों के दुनियावी
कैनवस पर
सुनहरे ख्वाबों के साथ
चित्रित हो रहे हो
दहक रहे हो कपोलों पर
चमक रहे हो पलकों पर
खिल रहे हो अपने समूचे
अस्तित्व के साथ
मेरे भीतर उगी नई सृष्टि की
सूक्ष्म कोमल पंखुड़ियों में


क्या शीर्षक दूं तुम्हें

मेरे अजीज रोशन रंगो
बेखबर बिखरी पड़ी रूमानियत को
समेट रहे हो तुम अपने भीतर
एक एक रंग से रची जा रही हैं
काली रातों में भटकती हिरणी
इच्छाओं की संजीदा शबीहें
सज गई कायनात की दरो-दीवारों पर

नजर उठाई तो शोख रंगतों के नायाब
बिंब बेहद सादगी से उतर गए गहरे कहीं
अपरिवर्तनीय काल क्रम में

डरती हूं तब्दील न हो जाऊं कहीं
रंग-ए-दीवानगी से भरी तस्वीर में
समझ नहीं पाऊंगी फिर
बेहद गहरे और खामोश आकाश के
तमाम दृश्यात्मक और अदृश्य
सृजनात्मक जज्बातों का अर्थ

वे बदलने लगे हैं अब
वक्त के साथ कुछ कुछ
अपना दुनियावी अर्थ
क्योंकि तुम्हारी अनंतकाल से रूखी दुनिया में
वक्त के वजूद का
कोई रंग ही नहीं।


थोड़ा-सा करार

बस थोड़ी-सी राहत
बहुत थोड़ी-सी नमी
थोड़ा-सा करार
बहुत बेजा न था मेरा इस तरह
तुम्हारे सामने बैठ कर सोचना

कितना कुछ सामान्य दिखता है
दिन के पार
पर जब अंधेरा उतरता है
निर्जनता के निस्संग पलों में
आंखें अख्तियार करती हैं गीलापन

गूंजती वक्त की अनहद पुकार
सन्नाटे में चमकती अधैर्य की रेखा
कुछ पल के लिए

मापतौल के पल
जेहन में फड़फड़ाती बेचैनियां
विवेक से कोसों दूर

आखिर कितनी काट-छांट
कितनी धीरता
धरती की उपमा से भी बड़ी
कोई उपमा है क्या
खैर…।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 कौशल पंवार की कहानी : जोहड़ी
2 राजनीतिः पश्चिम का स्त्रीवाची चेहरा
3 ममता सिंह का लेखः हिमालय का बिगड़ता मिजाज
ये पढ़ा क्या?
X