ताज़ा खबर
 

राजनीति: लपटों से निकलते सवाल

दिल्ली, मुंबई जैसे महानगरों में पिछले एक-दो साल में जितने बड़े अग्निकांड हुए हैं उनसे यही साबित हुआ है कि चंद लापरवाहियों के चलते हम आग के आगे बेहद लाचार बन गए हैं। मर्ज आग की ताकत बढ़ जाना नहीं, बल्कि यह है कि आग से सुरक्षा के जितने उपाय जरूरी हैं, शहरीकरण की आंधी और अनियोजित विकास-नियोजन की नीतियों ने उन उपायों को हाशिये पर धकेल दिया है।

Author Published on: February 16, 2019 5:40 AM
delhi hotel fireदिल्ली के करोल बाग इसी होटल में मंगलवार तड़के आग लगी। (express photo)

अभिषेक कुमार सिंह

शहरों में आग की घटनाएं गंभीर समस्या बन गई हैं। तमाम लापरवाहियों और कायदे-कानून की अनदेखी ने आग को हमारे विनाश के हथियार में तब्दील कर डाला है। हाल में देश की राजधानी दिल्ली के एक होटल में आग ने सत्रह जिंदगियां लील लीं। यह बड़े अचरज की बात है कि कंक्रीट के जंगलों में तब्दील हो चुके दुनिया के तमाम आधुनिक शहर आग को न्योता दे रहे हैं। एक के बाद एक होने वाले शहरी अग्निकांडों पर कोई लगाम नहीं लग पा रही है। दिल्ली के होटल का दर्दनाक हादसा मालूम नहीं कि कितने दिनों तक हमारे जेहन में जिंदा रहेगा, क्योंकि हो सकता है कि तब तक उससे भी भीषण कोई नया अग्निकांड हमारी स्मृतियों पर हावी हो जाए। नए हों या पुराने, दुनिया भर के तमाम शहरों में आग से महफूज बनाने वाले उपायों पर तभी कुछ नजर जाती है, जब वहां की इमारतों में कोई बड़ा हादसा हो चुका होता है।

असल में, कथित विकास के नाम पर वास्तविक जंगलों से शहरों के कंक्रीट के जंगलों में पहुंची मानव सभ्यता के लिए आज आग उसकी ताकत के उलट कमजोरी साबित हो रही है। दिल्ली, मुंबई जैसे महानगरों में पिछले एक-दो साल में जितने बड़े अग्निकांड हुए हैं उनसे यही साबित हुआ है कि चंद लापरवाहियों के चलते हम आग के आगे बेहद लाचार बन गए हैं। मर्ज आग की ताकत बढ़ जाना नहीं, बल्कि यह है कि आग से सुरक्षा के जितने उपाय जरूरी हैं, शहरीकरण की आंधी और अनियोजित विकास-नियोजन की नीतियों ने उन उपायों को हाशिये पर धकेल दिया है। विडंबना यह है कि शहरीकरण के सारे कायदों को धता बताते हुए जो कथित विकास हमारे देश या बाकी दुनिया में हो रहा है और जिसके तहत रिहाइश ही नहीं, होटलों, पब, विभिन्न संस्थाओं और अस्पतालों के लिए ऊंची इमारतों के निर्माण का जो काम देश में हो रहा है, उसमें जरूरी सावधानियों की तरफ न तो शहरी प्रबंधन की नजर है और न ही उन संस्थाओं-विभागों को इसकी कोई फिक्र है जिन पर शहरों में आग से बचाव के कायदे बनाने और उन पर अमल सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी होती है।

असल में, आधुनिक वक्त के निर्माण का जो सबसे चिंताजनक पहलू इधर कुछ वर्षों में सामने आया है, वह यह है कि इमारतें बाहर से तो लकदक दिखाई देती हैं, लेकिन उनके अंदर मामूली चिंगारियों को हवा देकर भीषण अग्निकांडों में बदल देने वाली इतनी चीजें मौजूद रहती हैं कि एक बार कहीं कोई बिजली का तार भी सुलगता है तो वह भयानक हादसे का कारण बन जाता है। दिल्ली के होटल में लगी आग की शुरुआत इसके एक कमरे में ब्लोअर को शुरू करने और उसमें हुए शॉर्ट सर्किट से बताई जा रही है। ज्यादातर मामलों में आग किसी बेहद छोटे कारण से ही शुरू होती है। यह बात कई सौ साल पहले समझ में आ गई थी। पर अफसोस है कि ऐसी मामूली वजहों की असरदार रोकथाम अब तक नहीं हो सकी। जैसे, सन 1666 में लंदन की आग ‘ग्रेट फायर आॅफ लंदन’ के बारे में कहा जाता है कि वह लंदन की पुडिंग लेन स्थित एक छोटी बेकरी शॉप में शुरू हुई थी। इसी तरह अमेरिका के कैलिफोर्निया स्थित आॅकलैंड वेयरहाउस में एक आयोजन के दौरान लगी आग एक रेफ्रिजरेटर की देन बताई जाती है।

आज की आधुनिक रसोइयों में रखे फ्रिज-माइक्रोवेव से लेकर एसी, कंप्यूटर जैसे उपकरण और फाल्स सीलिंग के भीतर की जाने वाली वायरिंग महज एक शॉर्ट सर्किट के बाद काबू नहीं किए जा सकने वाले आग के शोले पैदा कर रही है। दिक्कत यह है कि आधुनिक शहरीकरण की जो मुहिम पूरी दुनिया में चल रही है, उसमें सावधानियों और आग से बचाव के उपायों पर ज्यादा काम नहीं किया गया है। आज इमारतें ऐसी निर्माण सामग्री से बन रही है जिसमें आग को न्योता देने वाली तमाम चीजों का इस्तेमाल होता है। आंतरिक साज-सज्जा के नाम पर फर्श और दीवारों पर लगाई जाने वाली सूखी लकड़ी, आग के प्रति बेहद संवेदनशील रसायनों से युक्त पेंट, रेफ्रिजरेटर, इनवर्टर, माइक्रोवेव, गैस का चूल्हा, चिमनी, एयर कंडीशनर, टीवी और सबसे प्रमुख पूरी इमारत की दीवारों के भीतर बिजली के तारों का संजाल है जो शॉर्ट सर्किट की सूरत में छोटी-सी आग को बड़े हादसे में बदल डालते हैं। इन सभी चीजों को आग से बचाने के इंतजाम भी प्राय: या तो किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, जैसे एमसीबी आदि के हवाले होते हैं या फिर फायर अलार्म के सहारे जो अक्सर ऐसी सूरत में काम करते नहीं मिलते हैं क्योंकि उनकी समय-समय पर जांच नहीं होती।

दूसरा बड़ा संकट तंग रास्तों के किनारे पर ऊंची इमारतें बनाने के चलन ने पैदा किया है। ऐसी ज्यादातर इमारतों में शायद ही इसकी गंभीरता से जांच होती हो कि यदि कभी अचानक आग लग जाई तो क्या बचाव के साधन आसपास मौजूद हैं। कोई आपात स्थिति पैदा हो तो वहां निकासी का रास्ता क्या है, क्या वहां मौजूद लोगों को समय पर चेतावनी देने की प्रणाली काम कर रही है। दिल्ली के होटल में आग की घटना के पीछे ये सारे कारण गिनाए जा रहे हैं। कुछ और अहम बातें भी हैं जो शहरों में आग को विनाशकारी ताकत दे रही हैं। जैसे, तकरीबन हर बड़े शहर में बिना यह जाने ऊंची इमारतों के निर्माण की इजाजत दे दी गई है कि क्या उन शहरों के दमकल विभाग के पास जरूरत पड़ने पर उन इमारतों की छत तक पहुंचने वाली सीढ़ियां (स्काईलिफ्ट) मौजूद हैं या नहीं। दिल्ली में दमकल विभाग के पास अधिकतम चालीस मीटर ऊंची स्काईलिफ्टें हैं, पर यहां इमारतों की ऊंचाई सौ मीटर तक पहुंच चुकी है। यही हाल, इसके एनसीआर इलाके का है। नोएडा में भी अधिकतम बयालीस मीटर ऊंची स्काईलिफ्ट उपलब्ध है, पर यहां जो करीब दो हजार गगनचुंबी इमारतें हैं या जिनका निर्माण चल रहा है, उनमें से कुछ की ऊंचाई तीन सौ मीटर तक है (निर्माणाधीन टावर- सुपरनोवा 300 मीटर ऊंचा होगा)। लगभग यही हाल देश के दूसरे बड़े शहरों में है।

कहने को तो देश के किसी भी हिस्से में कोई संस्था, फैक्टरी इत्यादि अग्निशमन विभाग की तरफ से मिले अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) के बिना नहीं चल सकती। यह एनओसी भी उन्हें सीधे नहीं मिलता। दिल्ली में अग्निशमन विभाग को जब एमसीडी, एनडीएमसी या अन्य संबंधित एजेंसियों से इसका आवदेन मिलता है, तो वे उन फैक्ट्रियों या संस्थानों की इमारतों में जाते हैं और जांच करने के बाद संतुष्ट होने पर एनओसी जारी करते हैं। लेकिन सभी जानते हैं कि इस प्रावधान की अनदेखी होती है। बताया तो यह भी जाता है कि इन विभागों के कर्मचारियों को पता भी रहता है कि किस संस्था या फैक्टरी में कौन-सा काम हो रहा है, लेकिन मिलीभगत कर सारी धांधलेबाजी की ओर से आंखें मूंद ली जाती हैं। यह भी नहीं भूलना होगा कि फैक्ट्रियों, होटलों, अस्पताओं आदि को समय-समय पर अग्निशमन विभाग की ओर से फायर सेफ्टी नोटिस तो जारी किए जाते रहे हैं, लेकिन राजनीतिक दखलंदाजी और कर्मचारियों-अधिकारियों की साठगांठ से मामला अक्सर ही ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है। वक्त आ गया है कि देश तय करे कि वह विकास की चमचमाती मीनारें खड़ी करने से पहले यह सुनिश्चित करेगा कि भविष्य में कोई शहरी इलाका या इमारत लापरवाही और नियमों की अनदेखी की वजह से पैदा होने वाली मानवनिर्मित आपदा यानी आग में नहीं घिरेगी और इस कारण बेकसूर लोगों की जान नहीं जाएगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नरेंद्र मोदी सरकार ने पांच साल में प्रचार पर खर्चे तीन हजार करोड़ रुपये, RTI के जवाब में खुलासा
2 राजनीति: खाली हाथ किसान
3 राजनीति: कृषि के लिए निर्यात जरूरी