ताज़ा खबर
 

राजनीति : जंगलों से उठती लपटें

जंगलों पर वन विभाग का अधिकार होने से पहले तक ज्ञान-परंपरा के अनुसार ग्रामीण इस पतझड़ से जैविक खाद बना लिया करते थे। यह पतझड़ मवेशियों के बिछौने के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता था। पर अव्यावहारिक वन कानूनों के वजूद में आने से वनोपज पर स्थानीय लोगों का अधिकार खत्म हो गया। स्थानीय ग्रामीणों और मवेशियों का जंगल में प्रवेश वर्जित हो जाने से पतझड़ यथास्थिति में पड़ा रह कर आग का प्रमुख कारण बन रहा है।

जंगल (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जब हमने जीवन में पाश्चात्य शैली और विकास की बाजारवादी अवधारणा का अनुसरण किया तो यूरोप की तर्ज पर अपने जंगलों की बाबत ‘विल्डरनेस’ की अवधारणा थोप दी। विल्डरनेस का अर्थ है मानवविहीन सन्नाटा! जंगल के वासियों को विस्थापित करके जिस तरह वनों को मानव-विहीन किया गया है, उसी का परिणाम है कि उत्तराखंड के जंगल पिछले तीन माह से सुलगते हुए अब दावानल का रूप ले चुके हैं। यदि इन वनों में मानव आबादियां रह रही होतीं तो इस भीषण दावानल का सामना नहीं करना पड़ता। क्योंकि जंगलों के साथ जो लोग सह-अस्तित्व का जीवन जी रहे थे, वे आग लगने पर आग बुझाना भी जानते थे। दुर्भाग्य से हमने आज हालात ऐसे बना दिए हैं कि सरकार और स्थानीय लोगों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला आग को बुझाने के बजाय भड़काने का काम कर रहा है। नतीजतन, पौड़ी-गढ़वाल से लेकर पिथौरागढ़ तक जंगल सुलग रहे हैं। यों तो जंगल में आग लगना एक सामान्य घटना है। लेकिन इस बार करीब तीन माह पहले सुलगी आग ने उत्तराखंड के जंगलों को विकराल लपटों के घेरे में ले लिया है। साफ है, मामूली चिनगारी से दावानल में तब्दील हुई इस आग को बुझाने में ऐसा पहली बार हुआ है, जब स्थानीय थल व वायु सेना के साथ राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन बल भी लगा है। यह आग चकराता में थलसेना के शिविर तक पहुंच गई है। इसे बुझाने में सेना के जवान लगे हुए हैं। एक हजार से ज्यादा स्थानों पर लगी यह जंगली आग सैकड़ों गांवों और घरों की दहलीज तक पहुंच गई है। बेकाबू होती इस आग पर नियंत्रण के लिए स्वयं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को मोर्चा संभालना पड़ा है। सरकारी आंकड़ों की ही बात मानें तो 3100 हेक्टेयर वन-खंड बारूद के ढेर की तरह सुलग रहे हैं। एक हजार से भी ज्यादा स्थानों पर आग ने तबाही की इबारत लिख दी है। ढाई सौ से भी ज्यादा गांव इसकी चपेट में हैं। उत्तराखंड का 64.79 प्रतिशत वनक्षेत्र है। चीड़ के जंगल और लैंटाना की झाड़ियां इस आग को फैलाने के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेवार हैं।

दरअसल, चीड़ के पत्तों में एक विशेष किस्म का ज्वनलशील पदार्थ होता है। इसकी पत्तियां पतझड़ के मौसम में आग में घी का काम करती हैं। गर्मियों में पत्तियां जब सूख जाती हैं तो इनकी ज्वलनशीलता और बढ़ जाती है। इसी तरह लैंटाना जैसी विषाक्त झाड़ियां आग को भड़काने का काम करती हैं। करीब 40 लाख हेक्टेयर वनक्षेत्र में ये झाड़ियां फैली हुई हैं। इस बार इन पत्तियों के भयावह दावाग्नि में बदलने के कारणों में वर्षा की कमी, जाड़ों का कम पड़ना, गर्मियों का जल्दी आना और तिस पर भी शुरुआत में ही तापमान का बढ़ जाना माना जा रहा है। इन वजहों से यहां पतझड़ की मात्रा बढ़ी, उसी अनुपात में मिट्टी की नमी घटती चली गई। ये ऐसे प्राकृतिक संकेत थे, जिन्हें वनाधिकारियों को समझने की जरूरत थी। लेकिन जब आग लगने की शुरुआत हुई तो नीचे के वन अमले से लेकर आला अधिकारियों तक ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। वैसे चीड़ और लैंटाना भारतीय मूल के पेड़ नहीं हैं। भारत आए अंग्रेजों ने जब पहाड़ों पर आशियाने बनाए, तब उन्हें बर्फ से आच्छादित पहाड़ियां अच्छी नहीं लगीं। इसलिए वे ब्रिटेन के बर्फीले क्षेत्र में उगने वाले पेड़ चीड़ की प्रजाति के पौधों को भारत ले आए और बर्फीली पहाड़ियों के बीच खाली पड़ी भूमि में रोप दिए। इन पेड़ों को जंगली जीव व मवेशी नहीं खाते हैं। अनुकूल प्राकृतिक वातावरण पाकर ये तेजी से फलने-फूलने लगे। लैंटाना भारत की दलदली और बंजर भूमि में पौधारोपण के लिए लाया गया था। यह विषैला पेड़ भारत के किसी काम तो नहीं आया, लेकिन देश की लाखों हेक्टेयर भूमि में फैल कर, लाखों हेक्टेयर उपजाऊ भूमि जरूर लील ली। ये दोनों प्रजातियां ऐसी हैं, जो अपनी छाया में किसी अन्य पेड़-पौधे को पनपने नहीं देती हैं। चीड़ की एक खासियत यह भी है कि जब इसमें आग लगती है तो इसकी पत्तियां ही नष्ट होती हैं, तना और डालियों को ज्यादा नुकसान नहीं होता है। पानी बरसने पर ये फिर से हरिया जाते हैं।

कमोबेश यही स्थिति लैंटाना की रहती है। चीड़ और लैंटाना को उत्तराखंड से निर्मूल करने की दृष्टि से कई मर्तबा सामाजिक संगठन आंदोलन कर चुके हैं, लेकिन सार्थक नतीजे नहीं निकले। अलबत्ता इनके पत्तोें से लगी आग से बचने के लिए चमोली जिले के उपरेवल गांव के लोगों ने जरूर चीड़ के पेड़ की जगह हिमालयी मूल के पेड़ लगाना शुरू कर दिए। जब ये पेड़ बड़े हो गए तो इस गांव में बीस साल से आग नहीं लगी। इनमें पीपल, देवदार, अखरोट और काफल के वृक्ष लगाए गए हैं। यदि वन-अमला ग्रामीणें के साथ मिलकर ऐसे उपाय करता तो आज उत्तराखंड के जंगलों की यह दुर्दशा देखने में नहीं आती। जंगल में आग लगने के कई कारण होते हैं। जब पहाड़ियां तपिश के चलते शुष्क हो जाती हैं और चट्टानें भी खिसकने लगती हैं, तो अकसर घर्षण से आग लग जाती है। तेज हवाएं चलने पर जब बांस परस्पर टकराते हैं तो इस टकराव से पैदा होने वाले घर्षण से भी आग लग जाती है। बिजली गिरना भी आग लगने के कारणों में शामिल है। ये कारण प्राकृतिक हैं, इन पर विराम लगाना नामुमकिन है। पर मानव-जनित जिन कारणों से आग लगती है, वे खतरनाक हैं। इनमें वन-संपदा के दोहन से अटाटूट मुनाफा कमाने की होड़ भी शामिल है। भू-माफिया, लकड़ी माफिया और भ्रष्ट अधिकारियों के गठजोड़ की तिकड़ी इस करोबार के फलने-फूलने में सहायक बनी हुई है।

सरकारों ने आजकल विकास का पैमाना भी आर्थिक उपलब्धि को माना हुआ है, इसलिए वे पर्यावरणीय क्षति को नजरअंदाज करती हैं। आग लगने की मानवजन्य अन्य वजहों में बीड़ी-सिगरेट भी हैं, तो कभी शरारती तत्त्व भी आग लगा देते हैं। कभी ग्रामीण पालतू पशुओं के चारे के लिए सूखी व कड़ी पड़ चुकी घास में आग लगाते हैं। ऐसा करने से धरती में जहां-जहां नमी होती है, वहां-वहां घास की नूतन कोंपलें फूटने लगती हैं जो मवेशियों के लिए पौष्टिक आहार का काम करती हैं। पर्यटन-वाहनों के साइलेंसरों से निकली चिनगारी भी आग की वजह बनती है। आग से बचने के कारगर उपायों में पतझड़ के दिनों में टूट कर गिर जाने वाले जो पत्ते और टहनियां आग के कारक बनते हैं, उन्हें जैविक खाद में बदलने के उपाय किए जाएं। केंद्रीय हिमालय में 2.1 टन प्रति हेक्टेयर से लेकर 3.8 टन प्रति हेक्टेयर पतझड़ होता है। इसमें 82 प्रतिशत सूखी पत्तियां और बाकी टहनियां होती हैं। जंगलों पर वन विभाग का अधिकार होने से पहले तक ज्ञान-परंपरा के अनुसार ग्रामीण इस पतझड़ से जैविक खाद बना लिया करते थे। यह पतझड़ मवेशियों के बिछौने के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता था। मवेशियों के मल-मूत्र से यह पतझड़ उत्तम किस्म की खाद में बदल जाता था। पर अव्यावहारिक वन कानूनों के वजूद में आने से वनोपज पर स्थानीय लोगों का अधिकार खत्म हो गया। स्थानीय ग्रामीणों और मवेशियों का जंगल में प्रवेश वर्जित हो जाने से पतझड़ यथास्थिति में पड़ा रह कर आग का प्रमुख कारण बन रहा है। इस सबके बावजूद जंगल में लगी आग को बुझाने के तरीके परंपरागत हैं। वन अमला हरी टहनियों की झाड़ू बनाता है और उसकी फटकार से आग बुझाने का काम करता है। इस तरीके से दावानल में बदली वनाग्नि को नहीं बुझाया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App