ताज़ा खबर
 

बुझाए न बुझे

लाल्टू एक वक्तथा, बहुत पहले नहीं- बस सौ साल पहले, जब भारत में अधिकतर शादियां बीस की उम्र के पहले हो जाती थीं। गांवों में लड़के की उम्र बीस होने तक बच्चे पैदा हो जाते थे। वह स्थिति बच्चों और मां-बाप दोनों के लिए बहुत अच्छी नहीं थी। स्त्रियों के लिए वह आज से बदतर […]

लाल्टू

एक वक्तथा, बहुत पहले नहीं- बस सौ साल पहले, जब भारत में अधिकतर शादियां बीस की उम्र के पहले हो जाती थीं। गांवों में लड़के की उम्र बीस होने तक बच्चे पैदा हो जाते थे। वह स्थिति बच्चों और मां-बाप दोनों के लिए बहुत अच्छी नहीं थी। स्त्रियों के लिए वह आज से बदतर गुलामी की स्थिति थी। यह अलग बात है कि कई लोग उन दिनों के जीवन में सुख ढूंढ़ते हैं और आधुनिक जीवन को दुखों से भरा पाते हैं। जैसा भी वह जीवन था, एक बात तो जाहिर है कि प्राणी के रूप में मानव के जीवन में किशोरावस्था से ही शारीरिक परिपक्वता के ऐसे बदलाव होते हैं कि जैविक रूप से वह यौन-संपर्क के लिए न केवल तैयार, बल्कि बेचैन रहता है। इस बात को यौन-संबंधी साहित्य या दृश्य-सामग्री का व्यापार करने वाले अच्छी तरह जानते हैं। हिंसक शस्त्रों और यौन-संबंधित सामग्री का व्यापार ही आज की आर्थिक दुनिया के सबसे बड़े धंधे हैं। अरबों-खरबों की तादाद में डॉलर-यूरो-येन और बिटसिक्कों का लेन-देन इन्हीं दो क्षेत्रों में होता है।

पता नहीं कैसे हम लोगों को कुदरत के नियमों के विपरीत यह बात समझा दी गई कि भले लोग खासी उम्र तक यौन-संबंध से परहेज करते हैं। खूब ब्रह्मचर्य का पाठ पढ़ा। कुछ तो हमारी अपनी परंपरा में था, कुछ ऐतिहासिक कारणों से मिला। पर इस कुछ से अलग परंपरा में और भी बहुत कुछ रहा है। मुक्त-प्रेम को धार्मिकता के साथ जोड़ कर कुदरत की इस अनोखी देन- प्रेम- को जिस तरह हमारी परंपरा में देखा और जाना-समझा गया है, ऐसा और कहां है। शंकर के सौंदर्यलहरी से लेकर सूर के कृष्णकाव्य तक अनोखे मिथक हमारी हर भाषा में गढ़े गए हैं। अनपढ़ लोग इस खुलेपन को पश्चिम की देन कहते रहते हैं, जबकि आज के हमारे समाज जैसी ही कुंठित स्थिति कभी पश्चिमी देशों में भी थी।

नब्बे साल पहले विलहेल्म राइख नामक एक आॅस्ट्रियन मनश्चिकित्सक ने ‘द सेक्सुअल स्ट्रगल इन यूथ’ (युवाओं में यौनिकता के मुश्किलात) नामक किताब लिख कर वहां मौजूद कुंठा के माहौल के खिलाफ शंखनाद किया था। रोचक बात यह है कि यौनिकता पर रोक लगा कर कुदरती प्रक्रियाएं रुकती नहीं हैं। यह बात हमारे यहां भी उतनी ही सही है जितनी कहीं और। इसीलिए तो अभिसारिका और शृंगार के विवरणों से हमारा साहित्य भरा पड़ा है। वारेन बीटी की प्रसिद्ध फिल्म ‘रेड्स’ में हेनरी मिलर एक सवाल के जवाब में कहते हैं कि उस जमाने में भी अमेरिका में जिस्मानी संबंध खूब थे, बस यही कि उन्हें सामाजिक मान्यता न थी। फ्रांस जैसे देश में मारी कूरी जैसी नोबेल विजेता को अपने पति की मौत के कुछ साल बाद साथी वैज्ञानिक लांजवां के साथ प्रेम की वजह से कई यातनाएं सहनी पड़ी थीं।

बड़ी आलमी जंगों का एक असर यह था कि पश्चिम में इन जड़ताओं के टूटने में आसानी रही। बीसवीं सदी के बीचोंबीच उन मुल्कों में भारी बदलाव आए। ब्रह्मचर्य को कुंठाओं से जोड़ कर देखा जाने लगा। पर बदलाव ऐसे अपने आप तो आने न थे। साठ के दशक में युवाओं ने हल्ला बोला और जिस्मानी-प्रेम का परचम बुलंद हो गया। एक दशक में ही कॉलेजों-विश्वविद्यालयों में युवाओं में यौन-संबंधों पर पूरी तरह रोक से हट कर पूरी छूट की स्थिति बन गई। अब बात इतनी रह गई थी कि युवाओं को यौन-संबंधों से होने वाले मानसिक और शारीरिक समस्याओं के लिए कैसे तैयार किया जाए। अनचाहे गर्भ से युवा स्त्रियों को कैसे बचाया जाए। स्कूलों-कॉलेजों में बड़े पैमाने पर यौन-शिक्षा शुरू हुई। साहित्य, कला आदि हर क्षेत्र से यौनिकता की अभिव्यक्तिपर से पाबंदी हटी। जनांदोलनों ने यौन-शिक्षा के परचे निकाले। स्त्रियों ने खुल कर यौनिकता पर बातें शुरू कीं।

अब स्थिति ऐसी है कि उन मुल्कों में युवाओं में स्नेह से लेकर संभोग तक प्रेम की हर संभावना को स्वीकृति है। अगर कोई इस पर सवाल खड़ा करे तो उसे सिरफिरा ही माना जाएगा। और हमारे यहां के संस्कृति के ठेकेदारों के तमाम फतवों के बावजूद उन मुल्कों में कोई भयानक अस्थिरता नहीं दिखती। संबंध बनते और टूटते हैं, पर ऐसी मारकाट वहां नहीं दिखती, जितनी हमारे यहां है।

पश्चिमी देशों में ये बदलाव समाज में पहले बड़े शहरों में, फिर धीरे-धीरे अंदरूनी इलाकों में हुए। कॉलेज कैंपसों में पुराने अनुशासन का विरोध हुआ, पर वह समाज से अलग नहीं था। जैसे-जैसे समाज बदला, कैंपस का माहौल भी बदला। हमारे यहां स्थिति कुछ और है। यहां कैंपस सरगर्म हैं। कुछ हद तक खुला माहौल है। व्यवस्था अभी बदली नहीं है, पर कई संस्थानों में प्रबंधन युवाओं में संबंधों को उदारता के साथ देखते हैं। यह सही है कि यौनिकता का खुला प्रदर्शन नहीं है, पर पहले की तुलना में माहौल काफी उदार है। कैंपस से बाहर समाज में कुंठाओं का समुद्र है।

एक ओर तो सच्चाई यह है कि पुरुषों में जिसको मौका मिलता है, एमएमएस में हर तरह का यौन-प्रदर्शन देख रहा है। आभासी दुनिया में जिस्म के कारोबार का बाजार बढ़ता जा रहा है। हिंसा बढ़ रही है। सभ्य, शालीन माने जाने वाले पुरुषों में भी कई, पेशे में अपने वरिष्ठ पद से मिली ताकत का गलत फायदा उठा कर, स्त्रियों पर जबरन अपनी यौनेच्छा थोपते हैं। वयस्क स्त्रियां ही नहीं, बच्चों तक पर हमले बढ़ते जा रहे हैं। दूसरी ओर मजाल क्या है कि आप संबंधों में खुलेपन की बात कर लें। कहीं संगठित खाप हैं, तो कहीं अकेला मर्द सीना पीट रहा है। कोई सेना का तो कोई संघ का सिपाही है, जो स्वस्थ संबंधों पर हमला करने के लिए अपने एमएमएस को रोक कर सड़क पर उतरा है। खुले प्रेम को चुनौती देती ललकार यह कि हम बलात्कार करने आ रहे हैं।

जिन भले लोगों के समर्थन की वजह से आज ये हिंसक ताकतें इतनी मुखर हैं, उनमें से कइयों को अचंभा होता है। कैसे लोगों को सत्ता दे दी। पर क्यों, क्या उन्हें सूचनाओं की कमी थी, क्या वे इन ताकतों के बारे में नहीं जानते थे? आज अचंभे में डूबे ये लोग भूल गए हैं कि जानबूझ कर ही इन्हें सत्तासीन किया था, तब ऐसा लगता नहीं था कि लघु-संख्यकों के अलावा ये किसी और पर भी हमला करेंगे। जब तक हम खुद लघु-संख्यक समुदाय के नहीं हैं तो क्या फिक्र। उनकी नीतियों से हम प्रभावित नहीं होते और गरीब-गुरबे छले जा रहे हैं तो हमें क्या! अब भी वे भले लोग प्रधानमंत्री पर बहस करते हैं, कि बयानबाजी से अलग सरकार ने क्या कुछ किया आदि।

प्रधानमंत्री और उनकी सरकार ने सचमुच बहुत कुछ कर दिया है, जैसा उनसे अपेक्षित था, वे करते जा रहे हैं। पूंजी की लूट और सांप्रदायिक जहर का घोल उनका धर्म है, वे और उनके परिवार के सदस्य मजे से वह खेल खेल रहे हैं। साथ में वह सारी कुंठित भीड़ खूंखार होती जा रही है, जिनको एमएमएस में जिस्मों की चीरफाड़ देखने के अलावा सिर्फ ऐसे मौकों की तलाश है कि वे कब किसी अकेली स्त्री या कमजोर बच्चे पर हमला कर सकें। स्त्री को वस्तु मात्र नहीं, बल्कि उसे अपनी कुंठाओं का लक्ष्य मानना इन लोगों की मजबूरी है। ये भयंकर बीमार लोग हैं। इसलिए वे प्रेम के दुश्मन हैं।

प्रेम- स्नेह से संभोग तक- प्राणियों को कुदरत की सबसे अनोखी देन है। आखिर हममें से हर कोई धरती पर अपने मां-बाप के जिस्मानी उन्माद से ही आया है। शरीरों का वह मिलन इतना खूबसूरत है कि हम देवी-देवताओं तक को जिस्मानी प्रेम में लिप्त देखना चाहते हैं। सूफी मत में इश्क ही मोक्ष का साधन है। भक्तिमें खोया प्रेमी पूछता है कि मैं बीच सड़क में खड़ा उलझन में हूं कि एक ओर तो रब का घर है और दूसरी ओर यार का, मैं किधर जाऊं। आखिर वह यार को चुनता है, क्योंकि रब तो यार के दिल में है।

आज जब चारों तरफ से जिस्म का कारोबार हमारी संवेदना को हर तरह से खोखला करता जा रहा है, यह सोचने की जरूरत है कि युवाओं में प्रेम की मांग को हम कैसे देखें। हमें इस बात को समझना होगा कि युवाओं में प्रेम एक स्वस्थ प्रवृत्ति है, और इस समझ के साथ हमें स्कूलों-कॉलेजों में ऐसे इंतजाम करने होंगे कि युवा मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रहें और अपने संबंधों की वजह से जीवन के दूसरे पहलुओं को बिगड़ने न दें। हमें युवाओं से यह भी कहना होगा कि प्रेम के बगैर जिस्मानी संबंध जीवन को अंधेरे की ओर धकेलता है। यह भी कि हम अपनी परंपरा को जानें- टीवी और विकीपीडिया से नहीं, जरा मेहनत करें और पुस्तकालयों में जाकर पढ़ें कि शिव ने पार्वती की स्तुति में क्या कहा है, भ्रमर गीत पढ़ें, लोगों से जानें कि हमारी लोक परंपराओं में प्रेम का क्या महत्त्व है। आखिर क्या वजह है कि हीर-रांझा, सोहनी-महीवाल या शीरीं-फरहाद आज भी गांवों में गाए जाते हैं। और अंगरेजी में नहीं, भारतीय भाषाओं में पढ़ें। अंगरेजी में प्यार भी क्या प्यार है!

सांस्कृतिक फासीवाद अभी पूरी तरह हावी हुआ नहीं है। उसके पंजे लगातार बढ़ते चले आ रहे हैं। संवेदना की घोर कमी ने ऐसा सांप्रदायिक माहौल बनाया है कि हम अपने ही रचे झूठ में फंसते जा रहे हैं। समाज के दबे, कुचले, मेहनतकश तबकों को भड़का कर एक-दूसरे के साथ भिड़ंत करवा कर एक के बाद एक चुनाव जीतने की कोशिशें हैं। जब व्यवस्था पर निरंकुश नियंत्रण हो जाएगा, तब ये क्या करेंगे? कुंठित ताकतें खुला प्रेम नहीं सह सकतीं। युवाओं को यह समझना होगा कि हमारा भविष्य दुरुस्त और खुशहाल हो, उसके लिए हमें इन कुंठित ताकतों के खिलाफ लड़ना होगा।

अभी जुल्म की शुरुआत है। वे हमारी शक्लें, हमारे पहनावे, हमारी जुबान, हमारे विश्वास, हमारी हर सांस पर हमला करेंगे। आखिरी जीत प्रेम की होगी, पर उसके पहले जो तबाही होने वाली है, उसकी कल्पना से आतंक होता है। इसलिए युवाओं को संगठित होना होगा कि इस हमले के खिलाफ आवाज उठाएं। यह लड़ाई सिर्फ कैंपसों में रह कर नहीं लड़ी जाएगी, इसे व्यापक समाज में फैलाना होगा। प्यार की प्रतिष्ठा के लिए उनके खिलाफ भी आवाज उठानी होगी, जो प्यार और चाहत को शोषण का जरिया बनाते हैं। यह समझना होगा कि संस्कृति के ठेकेदारों को उस बहुराष्ट्रीय जिस्मानी धंधे से कोई एतराज नहीं, जिनसे उन्हें फायदा मिलता है। नहीं तो देश में हर साल गरीबी से लाचार हजारों युवा, किशोरियां बिकती हैं, उसके खिलाफ ये फतवेबाज कभी कुछ क्यों नहीं करते।

इन्हें प्रेम से एतराज है, क्योंकि प्रेम हमारी गायब होती मानवता को वापस ले आता है। प्रेम हमें अन्याय के खिलाफ सचेत करता है। प्रेम में रोते हुए हम हर उत्पीड़ित का दुख अपनाने लगते हैं। इसी मानवता को फासीवादी सह नहीं पाते। वे प्रेम के खिलाफ धर्म, जाति और हर तरह के रस्मों की दीवारें खड़ी करते हैं। पर बकौल गालिब- ये वो आतिश ग़ालिब, जो लगाए न लगे और बुझाए न बुझे।

 

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

 

 

 

 

Next Stories
1 अनिवार्य मतदान से फायदा या नुकसान
2 आतंकवाद का अर्धसत्य
3 लूट की एक और सुरंग
यह पढ़ा क्या?
X