ताज़ा खबर
 

कोहली ने कहा, टीम को हमेशा पता था कि कैसे जीते जाते हैं मैच

विराट कोहली ने सोमवार को यहां मजाकिया लहजे में मीडिया पर निशाना साधते हुए कहा कि खेलने की परिस्थितियां कैसी भी हो उनकी टीम के पास हमेशा ‘जवाब’ था कि मैच कैसे जीते जाते हैं..

Author नई दिल्ली | December 8, 2015 1:52 AM
भारतीय टैस्ट क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली। (पीटीआई फोटो)

भारतीय टैस्ट कप्तान विराट कोहली ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मिली जीत के बाद यहां मजाकिया लहजे में मीडिया पर निशना साधते हुए कहा कि खेलने की परिस्थितियां कैसी भी हों, उनकी टीम के पास हमेशा ‘जवाब’ था कि मैच कैसे जीते जाते हैं। कोहली को इस सीरीज के दौरान सबसे ज्यादा जवाब मोहाली और नागपुर की स्पिन की अनुकूल पिच को लेकर देने पड़े हैं जहां टैस्ट मैच तीन दिन के भीतर खत्म हो गए थे।

कोहली से जब पूछा गया कि क्या उन्होंने उन सभी लोगों को जवाब दे दिया है जो जानना चाहते थे कि टीम विपरीत हालात में कैसे खेलती है तो उन्होंने कहा कि हमें हमेशा से जवाब पता था। आप लोगों को शायद जवाब नहीं मिल रहा था लेकिन आज मुझे लगता है कि आपको जवाब मिल गया। मुझे इस सवाल का इंतजार था (हंसते हैं), पांच से छह सवाल और पिच को लेकर कोई सवाल नहीं। कोई सवाल नहीं कि गेंद टर्न कर रही थी या नहीं।

भारतीय कप्तान ने कहा कि जो भी लिखा जा रहा है वह उनके नियंत्रण में नहीं है लेकिन तैयार की गई पिचों के आधार पर जीत को आंकना अनुचित है। उन्होंने कहा कि जो लेख लिखे गए और जो लोगों ने पढ़ा, वह भी एक तरह की प्रतिक्रिया है। आप कुछ देखते हो और लेख लिखते हो। इसलिए जब आप किसी खास मुद्दे पर सवाल पूछते हो तो आपको खास जवाब (मेरे से) मिलता है। ऐसा नहीं है कि आप सवाल पूछते हो और मैं कहता हूं ‘अगला सवाल’। बेशक मैं इसका जवाब देता हूं लेकिन जवाब देने का मेरा तरीका है।

कप्तान ने कहा कि हमें विश्वास है कि हम किसी भी विरोधी के खिलाफ दुनिया में किसी भी जगह पर जीत सकते हैं। अब इसे किस तरह पेश किया जाता है, यह हमारे नियंत्रण में नहीं है। हम सिर्फ बल्ले और गेंद से अपने प्रदर्शन को नियंत्रित कर सकते हैं। लोग क्या सुनते या पढ़ते हैं, इस पर हमारा बस नहीं है।

कोहली ने दक्षिण अफ्रीका के अति रक्षात्मक खेल की सराहना की और कहा कि यह ‘मुश्किल कौशल’ है क्योंकि इससे उनके गेंदबाजों की क्षमता की परीक्षा हुई। उन्होंने कहा कि इस तरह खेलना मुश्किल कौशल है। मैं उनके रवैये से हैरान था। इससे ज्यादा हम इस बात से खुश थे कि गेंदबाज ऐसे चरण से गुजर रहे हैं जहां उनके धैर्य और जज्बे की परीक्षा हो रही है। अंत में हम बाजी मारने में सफल रहे। कप्तान ने कहा कि हमें पता है कि टैस्ट क्रिकेट तीन सत्र का खेल है और हमें पता था कि मौका मिलेगा। हमें सुनिश्चित करना था कि हम इसका फायदा उठाएं। सभी जज्बे के साथ खेले और हम मैच को खत्म करने में सफल रहे।

कोहली ने कहा कि मैच के दौरान उन्हें कभी अमित मिश्रा की कमी महसूस नहीं हुई विशेषकर उस समय जब ऐसा लग रहा था कि दक्षिण अफ्रीका मैच को ड्रा की ओर खींच रहा है और उन्हें मुरली विजय और चेतेश्वर पुजारा से गेंदबाजी करानी पड़ी। उन्होंने कहा- बिलकुल भी कमी नहीं खली। हम अपने कामचलाऊ गेंदबाजों का इस्तेमाल इसलिए कर पाए क्योंकि दक्षिण अफ्रीका काफी धीमी बल्लेबाजी कर रहा था। उन्होंने ऐसा कोई रवैया नहीं अपनाया जिससे लगे कि वे रन बनाना चाहते हैं। इसलिए मुख्य गेंदबाजों को आराम देना और कामचलाऊ गेंदबाजों को इस्तेमाल करना आसान था।

कोहली ने हालांकि कहा कि मैच बचाने के लिए दक्षिण अफ्रीका के इस रवैये में उन्हें कुछ भी गलत नहीं लगता। भारतीय कप्तान का साथ ही मानना है कि इस जीत का उनकी युवा टीम पर सकारात्मक असर पड़ेगा। आस्ट्रेलिया के संदर्भ में कोहली का मानना है कि उनकी टीम ने वहां जिस तरह की चुनौती पेश की थी, उसने इस युवा टीम के लिए भूमिका तैयार की।

कोहली से कप्तानी की शैली पर सवाल पूछा गया जिसमें पूर्व टैस्ट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का नाम लिए बगैर उनकी शैली को लेकर संकेत दिए गए थे लेकिन मौजूदा कप्तान ने कूटनीतिक जवाब दिया। और वह भी धोनी का नाम लिए बगैर। उन्होंने कहा- अच्छा प्रयास। मेरी अपनी शैली है। जब अलग अलग व्यक्ति कप्तानी करते हैं तो ऐसा ही होता है। ऐसा नहीं है कि यह काम नहीं करता। अलग अलग लोगों का इसे सफल बनाने का अलग तरीका होता है। मुझे नहीं लगता कि हमें दो व्यक्तियों की तुलना करनी चाहिए जब वे एक ही देश के लिए खेल रहे हों।

कोहली ने कहा कि सभी जीत खास होती है लेकिन यह सबसे खास है क्योंकि हमें काफी मेहनत करनी पड़ी। मैंने अपने गेंदबाजों को आक्रामक गेंदबाजी के लिए कहा और यही चाय के बाद हुआ। गेंदबाजों ने संयम नहीं खोया और वे अपने प्रदर्शन पर गर्व कर सकते हैं। यही टेस्ट क्रिकेट है …संयम।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App