ताज़ा खबर
 

केंद्रीय मंत्री का आरोप- ‘भ्रष्टाचार के दानव’ को पाल-पोस रहे हैं ओडिशा CM

प्रधान ने पटनायक के निवास पर काम करने वाले एक कर्मचारी सरोज साहू को ‘‘भ्रष्टाचार का छोटा दानव’’ बताया है।

Author Published on: December 27, 2018 4:20 PM
ओडिशा सीएम नवीन पटनायक। (file pic)

वरिष्ठ भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बुधवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक पर ‘भ्रष्टाचार के दानव’ को बड़ा करने का आरोप लगाया है और राज्य की बीजद सरकार पर ‘भ्रष्टाचार में पूरी तरह से डूबे होने’ का आरोप लगाया है। प्रधान का यह बयान ऐसे समय में आया है जब दो दिन पहले ही 24 दिसंबर को ओडिशा में एक जनसभा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आरोप लगाया था कि राज्य में ‘भ्रष्टाचार का दानव’ मजबूत हो रहा है और सवाल खड़ा किया कि इन ‘‘दानवों’’ को कौन पाल-पोस रहा है। प्रधान ने पटनायक के निवास पर काम करने वाले एक कर्मचारी सरोज साहू को ‘‘भ्रष्टाचार का छोटा दानव’’ बताया है। प्रधान ने पार्टी की एक बैठक को संबोधित करते हुये कहा, ‘‘मुख्यमंत्री नवीन पटनायक स्पष्ट करिये कि आपका सरोज साहू के साथ क्या रिश्ता है।’’ गौरतलब है कि हाल ही में चिटफंड घोटाले के सिलसिले में सीबीआई ने साहू से पूछताछी की है।

बता दें कि दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को राज्य में भ्रष्टाचार बढ़ने के लिए अप्रत्यक्ष रूप से ओडिशा सरकार पर निशाना साधा था। हालांकि उन्होंने मुख्यमंत्री नवीन पटनायक का नाम नहीं लिया था। लेकिन उन्होंने पूछा कि क्या वजह है कि चिट फंड से पीसी (प्रतिशत कमीशन) संस्कृति तक, ओडिशा में भ्रष्टाचार का राक्षस इतना मजबूत हो गया है? कौन राक्षस को खाद-पानी दे रहा है?” उन्होंने आरोप लगाया था कि ओडिशा में किसानों को कृषि उत्पादों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिल रहा है, जबकि केंद्र ने एमएसपी उत्पादन शुल्क का डेढ़ गुणा बढ़ा दिया है। प्रधानमंत्री ने पूछा, “आखिर क्यों ओडिशा के किसानों को पानी के लिए जद्दोजहद करना पड़ रहा है। क्यों शिक्षकों को अपना वेतन लेने के लिए धरना देना पड़ता है?”

मोदी ने कहा, “आज ओडिशा के लोग पूछ रहे हैं कि क्यों ओडिशा ने प्रधानमंत्री ने जन आरोग्य योजना को नहीं स्वीकारा। जबकि लोगों को इस योजना से पूरे भारत में मुफ्त में मेडिकल सेवा मिलेगा।” प्रधानमंत्री ने यह भी कहा था कि जब देश में स्वच्छता का दायरा 97 प्रतिशत तक बढ़ रहा है, तो फिर ओडिशा खुले में शौच से मुक्त अभियान में कैसे पीछे बना हुआ है।   (आईएएनएस इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 तीन तलाक विधेयक पारित कराने में जुटी सरकार, कांग्रेस बोली- धार्मिक मामलों में मत दीजिये दखल
2 पत्रकार को दी थी सर फोड़ने की धमकी, अब बदरुद्दीन अजमल ने मांगी माफ़ी