ताज़ा खबर
 

आठ महीने से नहीं मिली उज्ज्वला गैस की सब्सिडी, दाम भी बढ़े: विरोध में सिलेंडर बेचने उतरीं महिलाएं

महिलाओं का कहना था कि तीन महीने में सिलेंडर की कीमत 2 सौ रुपए बढ़ा दी गई। पहले सिलेंडर 742 रुपए का था तो सब्सिडी 245.20 रुपए मिलती थी। अब सिलेंडर का दाम 892.50 रुपए हो गया है, लेकिन सब्सिडी घटाकर 79.26 रुपए कर दी गई है।

LPG Gasघरेलू गैस के दाम पिछले दाम माह में 200 रुपए तक बढ़ गए (फोटो सोर्सः ट्विटर@BT_India)

रसोई गैस की कीमतों में लगातार वृद्धि के खिलाफ पटना सिटी में उज्जवला योजना के तहत कनेक्शन लेने वाली महिलाएं सड़क पर उतर आईं। कतार में बैठी महिलाएं सिलेंडर खरीदो-सिलेंडर खरीदो की आवाज लगा रही थीं। उनका कहना है कि सरकार ने पिछले 8 महीने से सब्सिडी बंद कर रखी है। अब रसोई गैस के दाम बढ़ाकर आम आदमी की कमर तोड़ दी है।

महिलाओं का कहना था कि तीन महीने में सिलेंडर की कीमत 2 सौ रुपए बढ़ा दी गई। पहले सिलेंडर 742 रुपए का था तो सब्सिडी 245.20 रुपए मिलती थी। अब सिलेंडर का दाम 892.50 रुपए हो गया है, लेकिन सब्सिडी घटाकर 79.26 रुपए कर दी गई है। महिलाओं का कहना था कि जब वो सिलेंडर को भरवा नहीं सकतीं तो खाली सिलेंडर घर में रखने का क्या फायदा है। इसलिए वो सड़क पर बैठकर सिलेंडर खरीदने के लिए लोगों को आवाज लगा रही हैं।

गौरतलब है कि मोदी सरकार ने 2016 में उज्ज्वला योजना शुरू की थी। इसका मक़सद ग्रामीण क्षेत्रों के गरीब लोगों को चूल्हे से निजात दिलाना और गैस सिलेंडर मुहैया कराना था। पीएम मोदी ने यह योजना पूर्वी उत्तर प्रदेश के बलिया ज़िले से शुरू की थी। हालांकि सरकार उज्जवला योजना को अपनी बड़ी उपलब्धि के तौर पर प्रचारित करती रही है, लेकिन हक़ीक़त यह है कि गैस चूल्हा और सिलेंडर तो घरों में पहुंच चुका है, लेकिन खाना पकाने के पारंपरिक तौर-तरीक़े ही प्रचलित हैं।

सीईईडब्ल्यू- यानी काउंसिल ऑन एनर्जी, एनवायरॉन्मेंट ऐंड वाटर- की ओर से कराए गए सर्वेक्षण के मुताबिक खाना पकाने के लिए कोयले-लकड़ी का इस्तेमाल करने वाले घरों का अनुपात 2015 में 85% था जो 2018 में घट कर 61% रह गया। रिपोर्ट के मुताबिक, 2015 में 88% घरों का कहना था कि एलजीपी कनेक्शन का इस्तेमाल न करने की वजह इसका महंगा पड़ना है। 2018 में ये तादाद बस एक फ़ीसदी घट कर 87% रह गई। यानि महंगा होने की वजह से मुफ्त में मिले सिलेंडर का भी लोग इस्तेमाल नहीं कर रहे।

2018 के मुकाबले 2021 की स्थिति देखी जाए तो सिलेंडर की दरें काफी ज्यादा हो चुकी हैं। सरकार ने दिसंबर से लेकर अभी तक सिलेंडर के दाम में दो सौ रुपए की बढ़ोतरी की है। पहले दिसंबर में सिलेंडर के दाम 100 रुपए बढ़े थे तो अब फरवरी में फिर से इसकी कीमत में 100 रुपए का इजाफा कर दिया गया है। आम लोगों का कहना है कि पेट्रोल-डीजल की कीमतें पहले से ही कमर तोड़ रही थीं, सरकार ने सिलेंडर महंगा करके उनके घर का बजट चौपट कर दिया है।

Next Stories
1 अदार पूनावाला की SII ने सरकारी मंज़ूरी से पहले ही बना लिए थे 20 करोड़ कोरोना वैक्सीन डोज, अगले महीने एक्सपायर हो जाएंगे 5 करोड़ कोविशील्ड
2 किसान महापंचायत में AAP की एंट्री, अरविंद केजरीवाल करेंगे संबोधित, राकेश टिकैत जाएंगे सहारनपुर
3 तमिलनाडु में प्रशांत किशोर को टक्कर दे रहे 2014 चुनाव में साथ काम कर चुके सुनील, PK डीएमके तो सुनील AIADMK को दे रहे सर्विस
ये पढ़ा क्या?
X