गेंदबाजों को गलतियों से सीखना होगा : शास्त्री - Jansatta
ताज़ा खबर
 

गेंदबाजों को गलतियों से सीखना होगा : शास्त्री

पांच मैचों की वनडे शृंखला में आस्ट्रेलिया के विजय अभियान पर नकेल कसने की जिम्मेदारी गेंदबाजों को सौंपते हुए टीम निदेशक रवि शास्त्री ने कहा कि अनुभवहीन भारतीय गेंदबाजों को अपनी गलतियों से सबक लेना होगा।

Author कैनबरा | January 20, 2016 1:22 AM
भारतीय टीम के पूर्व निदेशक रवि शास्त्री। (पीटीआई फाइल फोटो)

पांच मैचों की वनडे शृंखला में आस्ट्रेलिया के विजय अभियान पर नकेल कसने की जिम्मेदारी गेंदबाजों को सौंपते हुए टीम निदेशक रवि शास्त्री ने कहा कि अनुभवहीन भारतीय गेंदबाजों को अपनी गलतियों से सबक लेना होगा। लगातार तीन हार के साथ भारत शृंखला गंवा चुका है और बुधवार को चौथे वनडे में वह प्रतिष्ठा के लिए खेलेगा।

यह पूछने पर कि क्या मौजूदा गेंदबाजी आक्रमण क्लीन स्वीप रोक सकता है, शास्त्री ने पत्रकारों से कहा, ‘यदि उन्होंने अपनी गलतियों से सबक लिया तो हार का ये सिलसिला टूट सकता है।’ उन्होंने कहा, ‘गेंदबाज निराश होंगे क्योंकि मैच जीतने के लिए एक या दो गेंदबाजों के अच्छे प्रदर्शन से काम नहीं चलता। एक ईकाई के रूप में अच्छी गेंदबाजी करनी होती है। पिछले साल विश्व कप में हम इसलिए अच्छा प्रदर्शन कर सके क्योंकि पांचों गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी की।’

उन्होंने कहा, ‘जब ऐसा होता है तभी आप दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों को हरा सकते हैं। लेकिन वाइड गेंदें फेंकने की कोई सफाई नहीं हो सकती। हमारे गेंदबाजों को अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना ही होगा।’ उन्होंने कहा, ‘करीबी मैचों में फिनिशिंग टच देने के लिए बेहतर गेंदबाजी जरूरी है। एमएस धोनी ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि चौके आसानी से पड़ रहे हैं। इन पर नियंत्रण करना होगा। यदि 60-70 फीसद भी काबू कर लिया तो मुकाबले करीबी होंगे।’ पहले दो मैचों में एकतरफा हार के बाद भारत ने तीसरे मैच में टक्कर दी लेकिन तीन विकेट से हार गया।

शास्त्री ने कहा, ‘हालिया नतीजों के बावजूद उनका प्रदर्शन शर्मनाक नहीं है क्योंकि मुझे पता है कि आस्ट्रेलिया दौरे के बाद हमें सिर्फ ऊपर जाना है। मुझे पता है कि 12 महीने पहले टैस्ट शृंखला के बाद क्या हुआ था और मुझे पता है कि हमारी टैस्ट टीम आज किस स्थिति में है।’ उन्होंने कहा, ‘मुझे यकीन है कि हमारे गेंदबाज अपनी गलतियों से सबक लेकर तरक्की करेंगे। मैं निराश हूं लेकिन यह स्वीकार करना होगा कि हम मेलबर्न में जीत सकते थे हालांकि ऐसा हुआ नहीं।’

शास्त्री ने कहा कि बेंच स्ट्रेंथ को मजबूत बनाने की जरूरत है। बीसीसीआइ को विदेश दौरों पर अतिरिक्त खिलाड़ियों को भेजना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘हमें बेंच स्ट्रेंथ की जरूरत है क्योंकि यह सबसे कठिन दौरों में से एक है। मैं कई बार आस्ट्रेलिया आ चुका हूं लेकिन पिछले कुछ दिन में हम तीन अलग अलग टाइम जोन में थे। ऐसे हालात का अक्सर सामना नहीं करना पड़ता।’

उन्होंने कहा ,‘पर्थ में खेलने के बाद आप ब्रिसबेन पहुंचे जिसका समय अलग है। इसके बाद मेलबर्न गए जिसका समय अलग है। यह सभी छह दिन के भीतर। इन सभी को देखते हुए टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया है।’ शास्त्री ने कहा, ‘मैं सलाह दूंगा कि भविष्य में बीसीसीआइ दूर देशों के दौरों पर कुछ अतिरिक्त खिलाड़ियों को भेजे। दौरे पर सिर्फ 15 खिलाड़ियों की बजाय 16 को भेजना चाहिए। श्रीलंका, बांग्लादेश या मध्य पूर्व में 15 खिलाड़ी ठीक हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App