ताज़ा खबर
 

भारतीय कंपनी TCS के 100 से ज्यादा कर्मचारियों ने इस साल कमाए एक करोड़ रुपये से ज्यादा

टीसीएस की सफलता के पीछे इसमें काम करने वाले कर्मचारियों का लंबे समय तक कंपनी के साथ जुड़े रहना है। यहां पर काम करने वाले कर्मचारी लंबे समय के साथ कंपनी के लिए काम करते हैं।

Author नई दिल्ली | June 13, 2019 10:29 PM
प्रतीकात्मक चित्र फोटो सोर्स- जनसत्ता

देश की दिग्गज आईटी सेवा प्रदाता कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विस (टीसीएस) के 100 से ज्यादा कर्मचारियों की सालाना आमदनी एक करोड़ रुपये से ज्यादा है। इनमें से एक चौथाई कर्मचारी ऐसे हैं जिन्होंने कंपनी के साथ अपना करियर शुरू किया था।

इकनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक टीसीएस में वित्त वर्ष 2019 में 103 कर्मचारियों को 1 करोड़ रुपये से अधिक का पैकेज दिया जा रहा है। इस सूची में कंपनी के सीईओ राजेश गोपीनाथन और सीओओ एनजी सुब्रमण्यम को नहीं जोड़ा गया। इसके साथ ही विदेश में कार्यरत कर्मचारी भी इस सूची में शामिल नहीं किए गए। रिपोर्ट में कहा गया कि वित्त वर्ष 2017 में ऐसे कर्मचारियों की संख्या 91 थी। इस तरह टीएसएस में काम करने वाले करोड़पति कर्मचारियों की संख्या में 15 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

वहीं बात करें आईटी कंपनी इंफोसिस की तो कंपनी में 60 कर्मचारी ऐसे हैं जिनका सालाना पैकेज 1.02 करोड़ रुपए है। ईटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि टीसीएस के लाइफ साइंस, हेल्थकेयर और पब्लिक सर्विस के देबाशीष घोष का सालाना सैलरी पैकेज 4.7 करोड़ रुपये है। वहीं बिजनेस और टेक्नॉलजी सर्विसेज हेड कृष्णन रामानुजम की आमदनी 4.1 करोड़ वार्षिक है। कंपनी के बैंकिंग, फाइनेंनशियल सर्विस और इंश्योरेंस बिजनेस हेड के कृतिवासन की सालान सैलरी 4.3 करोड़ है। जबकि कंपनी चीफ टेक्नॉलजी ऑफिसर के अनंत कृष्णन का सालाना पैकज 3.5 करोड़ रुपए है।

टीसीएस की सफलता का राज: एक्सपर्ट्स का मानना है कि टीसीएस की सफलता के पीछे इसमें काम करने वाले कर्मचारियों का लंबे समय तक कंपनी के साथ जुड़े रहना है। यहां पर काम करने वाले कर्मचारी लंबे समय के लिए कंपनी के लिए काम करते हैं। इसके अलावा कंपनी अपने सीनियर एग्जीक्यूटिव स्तर के अधिकारियों के साथ बेहरतीन रिलशेनशिप बनाए रखती है। कंपनी अपने कर्मचारियों को करियर में आगे बढ़ाने के लिए ऐसे रास्ते बनाती है जिससे वह प्रतिद्वंदी कंपनियों की तरफ रुख नहीं करते।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X