ताज़ा खबर
 

गुजरात समेत 4 सूबों में कुपोषण पर लिखा था शिकायती पेपर, तो नरेंद्र मोदी के दफ्तर से प्रशांत किशोर को मिल गया था ऑफर, जानें- पूरी कहानी

प्रशांत किशोर ने बताया था कि उन्होंने भारत के 4 सूबों में कुपोषण के हालात पर एक पेपर लिखा था, जिसमें गुजरात भी शामिल था। पेपर में गुजरात की भी शिकायत हुई थी।

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर। (Indian Express)।

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने हाल ही में अपने आप को चुनावी रणनीति के काम से अलग करने का फैसला लिया है। उन्होंने 2014 के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के लिए रणनीति बनायी थी जिसके बाद वो चर्चाओं में आए थे। द लल्लनटॉप न्यूज वेबसाइट को 2109 में दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि उनका नरेंद्र मोदी के साथ कैसे संपर्क हुआ था।

प्रशांत किशोर ने बताया था कि उन्होंने भारत के 4 सूबों में कुपोषण के हालात पर एक पेपर लिखा था, जिसमें गुजरात भी शामिल था। पेपर में गुजरात की भी शिकायत हुई थी। उसके बाद मैं मोदी जी के संपर्क में आ गया था। हालांकि मैंने उसमें मोदी जी की कोई शिकायत नहीं लिखी थी। उसमें लिखा गया था कि भारत के उच्च विकास दर वाले राज्यों में कुपोषण के क्या हालात हैं। उसमें 4 राज्यों की तुलना की गयी थी। हरियाणा, गुजरात, महाराष्ट्र और कर्नाटक। उनमें गुजरात सबसे नीचे था।

पीके ने कहा कि मेरे उस पेपर के बाद नरेंद्र मोदी जी के ऑफिस से मुझे 2011 में फोन आ गया। ऐसा नहीं था कि वो कुपोषण को लेकर बहुत अधिक चिंता में थे बस ये जानना चाहते थे कि कौन ऐसा आदमी है जो ऐसी बातें लिख रहा है। फिर धीरे-धीरे संपर्क बढ़ता चला गया।

उनके तरफ से कहा गया कि शिकायत क्यों कर रहे हैं आइए मिलकर काम करते हैं। उस समय मेरी नौकरी यूएन में लग गयी थी उसे छोड़कर आना एक बड़ा फैसला हो सकता था। घर वालों ने भी मेरे फैसले का विरोध किया था।

पत्रकार ने प्रशांत किशोर से सवाल किया कि ये सब इतना आसान कैसे हो गया? प्रशांत किशोर ने कहा कि मैं गुजरात का हूं नहीं, उनके जाति का हूं नहीं, संघ से आता नहीं हूं। अधिकतर ये सब बातें जरूरी होती है जिससे लोग आप पर विश्वास कर सके। मुझे नहीं पता उन्होंने क्यों मेरे पर विश्वास किया। शायद उन्होंने देखा हो कि इस लड़के में कुछ क्षमता होगी।

Next Stories
1 प्रभु चावला ने पूछा-मजबूत विपक्ष का नेतृत्व कौन कर सकता है? कमलनाथ ने कहा- बार-बार…आप भी बाज नहीं आ रहे
2 Delhi’s Lockdown Guidelines: सख्त है इस बार दिल्ली का लॉकडाउन! जानें- क्या खुलेगा और क्या नहीं
यह पढ़ा क्या?
X