ताज़ा खबर
 

नीतीश से दूरी का साइड इफेक्ट? PK के मकान पर बिहार में चला बुल्डोजर, 10 मिनट में उखाड़ी गई बाउंड्री और दरवाजा

प्रशांत किशोर का ये पुश्तैनी मकान है। इसका निर्माण उनके पिता श्रीकांत पांडेय ने करवाया था। प्रशांत अब यहां पर नहीं रहते हैं। प्रशासन के अनुसार एनएच 84 के फोर लेन किए जाने के दौरान इस भूमि को अधिग्रहित कर लिया गया था, लेकिन प्रशांत किशोर ने इसका मुआवजा अभी तक नहीं लिया है।

Prashant Kishore, Biharचुनाव रणनीतिकार व जेडीयू के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (फोटो सोर्सः ट्विटर/@ndtv)

सियासत में नजदीकी और दूरी के खास मायने होते हैं। प्रशांत किशोर जब बिहार के सीएम नीतीश कुमार के करीबी थे तो उन्हें जेडीयू में उपाध्यक्ष जैसे पद से नवाजा गया, लेकिन संबंधों में तल्खी आने के साथ दूरियां बढ़ीं तो बिहार में उनके मकान पर बुल्डोजर चला दिया गया। 10 मिनट में बाउंड्री और दरवाजा उखाड़ फेंका गया।

प्रशांत किशोर का ये पुश्तैनी मकान है। इसका निर्माण उनके पिता श्रीकांत पांडेय ने करवाया था। हालांकि प्रशांत अब यहां पर नहीं रहते हैं। प्रशासन को अनुसार एनएच 84 के फोर लेन किए जाने के दौरान इस भूमि को अधिग्रहित कर लिया गया था, लेकिन प्रशांत किशोर ने इसका मुआवजा अभी तक नहीं लिया है। जानकारी के अनुसार चारदीवारी के साथ ही घर के ब्रह्म स्‍थान को भी पूरी तरह से तोड़ दिया गया है। PK की तरफ से इस संबंध में कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

जैसे ही प्रशासनिक अधिकारी सरकारी लावलश्कर के साथ प्रशांत किशोर के घर के बाहर पहुंचे तो लोगों की भीड़ वहां पर लग गई। प्रशासन ने तेजी दिखाते हुए काम किया और सिर्फ दस से पंद्रह मिनट के अंदर ही किशोर के घर की चारदीवारी और गेट को तोड़ दिया। इस दौरान प्रशासन के इस कार्य का किसी ने विरोध नहीं किया। लोगों के बीच यह चर्चा होती रही कि आखिर ऐसा क्यों किया गया।

उल्लेखनीय है कि कभी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बेहद करीबी प्रशांत किशोर को उनकी राणनीतिकार की भूमिका के लिए जाना जाता है। वे जेडीयू में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं। बिहार में उन्हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिया गया था, लेकिन एनआरसी के मुद्दे पर उनके और सीएम के बीच मतभेद हुए। उसके बाद वो जेडीयू को छोड़कर चले गए। उस दौरान काफी बयानबाजी भी हुई थी।

वैसे 2015 के चुनाव में नीतीश की जीत का श्रेय PKको दिया जाता रहा। तब यह चर्चा आम थी कि जो रणनीति उन्होंने बनाई, वो कामयाब रही। बाद में प्रशांत किशोर को कैबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिया गया। उनकी चुनावी रणनीति का लोहा राजनीतिक गलियारे में अक्सर माना जाता है। यही वजह है कि दिल्ली के चुनाव में अरविंद केजरीवाल और अब बंगाल चुनाव में ममता बनर्जी उनकी सेवाएं ले रही हैं।

Next Stories
1 मान्या सिंहः रेस्त्रां में तब जूठे बर्तन धोए, उधारी से भरी कॉलेज फीस, पिता हैं रिक्शा ड्राइवर; अब बनीं Miss India रनर-अप
2 WHO ने कहा-86 देशों तक पहुंच चुका है कोरोना का नया वेरिएंट, रोग की गंभीरता में वृद्धि के प्रमाण सामने आए
3 ‘मैं उखाड़ने ही आया हूं बंगाल सरकार’, इधर बोले शाह; उधर टिकैत ने कहा- केंद्र के काबू में है गुजरात, हम कराएंगे आजाद
ये पढ़ा क्या?
X