ताज़ा खबर
 

J&K: चिनाब घाटी में आम नागरिकों को हथियारबंद करेगी सरकार? मुफ्ती बोलीं- गंभीर परिणाम होंगे

महबूबा ने कहा कि कहा कि 1990 के दशक में आतंकवाद रोधी अभियान के तहत नागरिकों को सशस्त्र बनाने के ऐसे ही प्रयोगों से पूरी तरह अफरा-तफरी मच गई थी और आम लोगों को उससे मिले घाव अब भी ताजा हैं।

Author नई दिल्ली | July 21, 2019 10:55 AM
पीडीपी प्रमुख ने एक बयान में यहां कहा, ‘‘चेनाब घाटी में ग्राम रक्षा समिति (वीडीसी) बनाने के नाम पर प्रशासन द्वारा नागरिकों को हथियार दिए जाने की कोशिशों से जुड़ी खबरें परेशान करने वाली और खतरनाक हैं, खास तौर पर ऐसे वक्त में जब युवाओं को और अलग-थलग महसूस न करने देने के लिए सरकार को समावेशी होने की जरूरत है।’’

संवेदनशील चेनाब घाटी में नागरिकों को हथियार उपलब्ध कराने की केंद्र और जम्मू कश्मीर प्रशासन की कथित योजना को ‘‘खतरनाक’’ करार देते हुए पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को चेतावनी दी कि इस कदम के ‘‘खौफनाक नतीजे’’ होंगे। उन्होंने कहा कि 1990 के दशक में आतंकवाद रोधी अभियान के तहत नागरिकों को सशस्त्र बनाने के ऐसे ही प्रयोगों से पूरी तरह अफरा-तफरी मच गई थी और आम लोगों को उससे मिले घाव अब भी ताजा हैं।

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख ने एक बयान में यहां कहा, ‘‘चेनाब घाटी में ग्राम रक्षा समिति (वीडीसी) बनाने के नाम पर प्रशासन द्वारा नागरिकों को हथियार दिए जाने की कोशिशों से जुड़ी खबरें परेशान करने वाली और खतरनाक हैं, खास तौर पर ऐसे वक्त में जब युवाओं को और अलग-थलग महसूस न करने देने के लिए सरकार को समावेशी होने की जरूरत है।’’ इन समितियों का गठन 1990 के दशक के मध्य में डोडा, किश्तवाड़, रांबा, राजौरी, रियासी, कठुआ और पुंछ जिलों के सुदूरवर्ती और पहाड़ी इलाकों में रहने वाले लोगों की सुरक्षा को मजबूत करने के उद्देश्य से किया गया था।

वहीं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि जम्मू कश्मीर जल्द ही ‘‘आतंकवाद मुक्त राज्य’’ बन जाएगा क्योंकि भारतीय सेना ने घाटी को ‘‘नरक’’ बनाने वाले आतंकवादियों को सफलतापूर्वक काबू में किया है। द्रास सेक्टर में करगिल युद्ध स्मारक का दौरा करने आए सिंह ने कहा कि कश्मीर मुद्दे का समाधान होकर रहेगा और धरती पर कोई भी ताकत इसे नहीं रोक सकती है। सिंह ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘इसमें कोई दो राय नहीं है। जम्मू कश्मीर (जल्द ही) आतंकवाद से छुटकारा पाकर रहेगा।’’

उन्होंने कहा कि न केवल भारत बल्कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने भी आतंकवाद के खिलाफ सामूहिक रूप से लड़ने का निर्णय लिया है। उन्होंने इसे एक वैश्विक चिंता का विषय बताया है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद से ग्रस्त सभी देश इससे लड़ने के लिए तैयार हैं। सिंह ने कहा, ‘‘सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत मेरे साथ बैठे हैं। जिस तरह से आतंकवादियों ने कश्मीर की इस घाटी को नरक बनाने का फैसला किया था, वह (सेना) काफी हद तक उन पर जीत हासिल करने में सफल रही है।’’

पाकिस्तान द्वारा लगातार किये जा रहे संघर्ष विराम के उल्लंघन के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा कि भारत के लोगों को आश्वस्त किया जाता है कि इस देश का नेतृत्व एक मजबूत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किया जा रहा है और सेना के बहादुर जवानों और अधिकारियों द्वारा इसकी रक्षा की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App