ताज़ा खबर
 

राष्ट्रीय स्कूल खेलों की रंगारंग शुरुआत, मुकाबले आज से

स्कूली खेलों का महाकुंभ कहे जाने वाले 61वें राष्ट्रीय स्कूल खेलों की राजधानी के छत्रसाल स्टेडियम में शनिवार को रंगारंंग शुरुआत हुई।

Author नई दिल्ली | January 3, 2016 00:12 am

स्कूली खेलों का महाकुंभ कहे जाने वाले 61वें राष्ट्रीय स्कूल खेलों की राजधानी के छत्रसाल स्टेडियम में शनिवार को रंगारंंग शुरुआत हुई। इन खेलों में विभिन्न राज्यों से लगभग पंद्रह हजार खिलाड़ी व अधिकारी हिस्सा ले रहे हैं। मुकाबले रविवार से शुरू होंगे। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इन खेलों का उद्घाटन किया। इस अवसर पर भारतीय स्कूल खेल महासंघ के अध्यक्ष महाबली सतपाल और दिल्ली सरकार में विशेष खेल अधिकारी सुशील कुमार भी मौजूद थे। राष्य्रीय स्कूल खेलों का समापन नौ जनवरी को होगा।

सिसोदिया ने खिलाड़ियों के मार्च पास्ट की सलामी ली और खेलों के शुरू होने की आधिकारिक घोषणा की। सिसोदिया ने खेलों का उद्घाटन करते हए कहाकि मेरे लिए बड़े गर्व की बात है कि मैं स्कूली खेलों के महाकुंभ का उद्घाटन कर रहा हूं। मैं यहां देश के कोने-कोने से आए खिलाड़ियों को बधाई देता हूं। आज जैसे पूरा हिंदुस्तान ही छत्रसाल स्टेडियम में उतर आया है। यकीनन इन खेलों में मुकाबला कड़ा होगा लेकिन आपको खेल भावना से खेलना होगा। देश को आप में से ही भविष्य के चैंपियन मिलेंगे। उप मुख्यमंत्री ने खिलाड़ियों से कहा कि आप में भविष्य के चैंपियन छिपे हुए हैं। आप को दुनिया को बताना है कि हम अनाड़ी नहीं बल्कि खिलाड़ी हैं। हमें इसी भावना के साथ आगे बढ़ना है। सिसोदिया की घोषणा के बाद राष्ट्रीय ध्वज के रंग के गुब्बारे आसमान में छोड़े गए।

अपने संबोधन से पहले सिसोदिया ने भव्य मार्च पास्ट की सलामी ली। खिलाड़ियों ने भी बड़े सधे अंदाज में मार्च पास्ट पेश किया। असम का 190 सदस्यीय दल मार्च पास्ट में सबसे आगे था, जबकि मेजबान दिल्ली का 579 सदस्यीय सबसे बड़ा दल आखिर में मार्च पास्ट से गुजरा। दिल्ली के दल के गुजरते समय पूरा छत्रसाल स्टेडियम तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। स्कूल खेलों की शुरुआत की घोषणा के बाद एशियाई कैडेट स्वर्ण विजेता पहलवान नवीन और फुटबाल टेनिस खिलाड़ी निकिता ने मशाल थामी और यह मशाल विभिन्न खिलाड़ियों के हाथ से गुजरने के बाद मशाल प्रज्ज्वलन के स्थान पर पहुंची। खेलों की ज्योति प्रज्ज्वलित की गई जो नौ जनवरी तक चलने वाले इन खेलों के दौरान जलती रहेगी।

इसके बाद हर टीम के ध्वजवाहक सामने आए और उन्होंने खेल भावना से खेलने की शपथ ली। पल्लवी शर्मा ने सभी खिलाड़ियों की तरफ से शपथ लेते हुए कहाकि हम पूरी खेल भावना के साथ खेलेंगे और अपने प्रदेश और देश का गौरव बढ़ाएंगे। हम प्रतिबंधित दवाओं से भी दूर रहेंगे। उद्घाटन समारोह में इसके बाद सेंट एंजेल स्कूल (रोहिणी) ने संथाली नृत्य पेश किया जबकि राजकीय स्कूल (नत्थूपुरा) के बच्चों ने स्वच्छ भारत का संदेश देते हुए नृत्य पेश किया।

स्कूल खेलों में 22 स्पर्धाओं का आयोजन किया जाएगा जिनमें बेसबाल, बास्केबाल, मुक्केबाजी, फ्लोरबाल, फुटबाल टेनिस, हैंडबाल, जीत कुन डो, जूडो, किक बाक्सिंग, कुराश, नेटबाल, रस्सीकूद, सेपक टकरा, स्के मार्शल आर्ट, साफ्टबाल, टेबल सॉकर, टेबल टेनिस, थांग ता, तेंग शू डो, रस्साकशी, कुश्ती और योग शामिल हैं। खेलों में दिल्ली के 579 सदस्य दल के अलावा महाराष्ट्र से 568, गुजरात ने 548, पंजाब से 507, छत्तीसगढ़ से 440, मध्यप्रदेश से 412, हरियाणा से 408, उत्तर प्रदेश से 302, विद्या भारती से 490, सीबीएसई से 312 और चंडीगढ़ से 278 सदस्यीय दल हिस्सा ले रहा है। सबसे छोटा दल दादर का नागर हवेली का नौ सदस्यीय दल है। बिहार ने 28 सदस्यीय दल उतारा है जबकि झारखंड ने 86 सदस्यीय दल उतारा है। जम्मू कश्मीर की ओर से 247 सदस्यीय दल उतर रहा है। गोवा का 334 सदस्यीय दल है। अंडमान-निकोबार द्वीप समूह से 55 खिलाड़ी आए हैं। इन खेलों में 4800 अधिकारी भी हिस्सा ले रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App