ताज़ा खबर
 

मणिपुर में बीजेपी की अगुआई वाली सरकार में बगावत, मंत्रियों ने सीएम के खिलाफ दिल्ली आकर खोला मोर्चा

आरोप है कि आर्थिक दिक्कतों से जूझती प्रदेश सरकार के विभागों ने जरूरत से ज्यादा फंड इस्तेमाल किए। अब सीएम एन बीरेन सिंह खुद इन विभागों का कामकाज देख रहे हैं।

Author नई दिल्ली | Published on: June 15, 2019 8:48 AM
मणिपुर के मुख्यमंत्री बीरेन सिंह। (Express Photo: Renuka Puri/File)

मणिपुर की एन बीरेन सिंह की अगुआई वाली सरकार में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। सूबे के डिप्टी सीएम वाई जॉयकुमार सिंह और मंत्री टीएच बिस्वजीत सिंह से उनके विभाग छीन लिए गए हैं। इसके बाद, दोनों नेताओं ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। जॉयकुमार से वित्त जबकि बिस्वजीत से कार्य एवं ऊर्जा आदि विभाग छीन लिए गए हैं। आरोप है कि आर्थिक दिक्कतों से जूझती प्रदेश सरकार के इन विभागों ने जरूरत से ज्यादा फंड इस्तेमाल किए। अब सीएम एन बीरेन सिंह खुद इन विभागों का कामकाज देख रहे हैं। सीएम ऑफिस की ओर से बताया गया है कि यह कैबिनेट का फैसला है।

हालांकि, कैबिनेट मीटिंग में शामिल हुए डिप्टी सीएम ने दावा किया कि बैठक में सिर्फ ओवरड्राफ्ट के मुद्दे पर चर्चा हुई। जॉयकुमार ने आरोप लगाया कि ओवरड्राफ्ट के लिए सीएम जिम्मेदार हैं। उन्होंने मांग की कि अगर कोई ऐक्शन लिया जाना चाहिए तो वह सीएम के खिलाफ लिया जाना चाहिए था। वहीं, बिस्वजीत ने उन आरोपों को खारिज किया कि फंड्स के ज्यादा इस्तेमाल करने की वजह से उन्हें अपने विभाग गंवाने पड़े। उन्होंने कहा, ‘पूर्व में भी सरकारों को ओवरड्राफ्ट के ऐसे हालात का सामना करना पड़ा, लेकिन इस बार इसे बढ़ाचढ़ाकर पेश किया जा रहा है। इसकी वजह क्या है, वे ही बेहतर बता सकते हैं।’

बता दें कि यह टकराव बीजेपी की अगुआई वाली मणिपुर सरकार के लिए सिरदर्द बन सकता है। सीएम की कार्रवाई के बाद दोनों मंत्री केंद्रीय आलाकमान को हालात की जानकारी देने के लिए दिल्ली पहुंच गए। इसके अलावा, सत्ताधारी पार्टी के 10 विधायक, तीन मंत्री और दो सांसद भी शुक्रवार को दिल्ली पहुंचे। हालांकि, इनके जाने के मकसद के बारे में स्पष्ट जानकारी सामने नहीं आई है। बीजेपी के मंत्री नेमचा किपगेन, एनसीपी के मंत्री एल जयंतकुमार और एनपीएफ के मंत्री एल दिखो दिल्ली में पहुंचे नेताओं में प्रमुख हैं। दिल्ली पहुंचे किसी भी विधायक या मंत्री से उनकी टिप्पणी के लिए संपर्क नहीं किया जा सका।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ओडिशा: इलाज न होने से जुड़वां बच्चों समेत गर्भवती की मौत, शव को कंधे पर रख परिजनों का हंगामा