ताज़ा खबर
 

पीएनबी घोटालाः ममता बनर्जी का दावा, घोटाले में और भी बैंक हैं शामिल, कहा – ‘मामले की पूरी जांच हो’

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पीएनबी घोटाले में अन्य बैंकों के शामिल होने का आरोप लगाते हुये पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की एक पूरी जांच कराने की मांग की है।

Author कोलकाता | February 18, 2018 20:11 pm
ममता बनर्जी केंद्र सरकार की विमुद्रीकरण योजना तथा जीएसटी के मौजूदा स्वरूप को लागू करने के भी खिलाफ थीं।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पीएनबी घोटाले में अन्य बैंकों के शामिल होने का आरोप लगाते हुये पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की एक पूरी जांच कराने की मांग की है। तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘नोटबंदी के दौरान बहुत बड़ा धन शोधन हुआ। इसमें और बैंक शामिल हैं। पूरी सच्चाई सामने आनी चाहिए। भाजपा की अगुवाई वाली राजग सरकार ने काले धन पर रोक लगाने के लिए आठ नवंबर 2016 को 500 और 1,000 रूपये के नोट को चलन से बाहर कर दिया था। नोटबंदी के दौरान कुछ बैंकों में प्रमुख अधिकारियों को बदलने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री ने कर्मचारियों का तबादला करने और उन्हें स्थानांतरित करने या हटाने में शामिल लोगों की भी जांच करने की मांग की।

पीएनबी घोटाले को लेकर भाजपा और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में भाजपा एक बड़ी विपक्षी दल बन कर उभरी है जहां पर तृणमूल कांग्रेस 2016 में दूसरी बार विधानसभा चुनाव जीत कर सत्ता पर काबिज है। ममता बनर्जी केंद्र सरकार की विमुद्रीकरण योजना तथा जीएसटी के मौजूदा स्वरूप को लागू करने के भी खिलाफ थीं। इससे पहले भी ममता ने एक रैली में प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए कहा था कि केंद्र की जन-विरोधी वित्तीय नीतियों के कारण बैंकिंग प्रणाली से जनता का भरोसा उठता जा रहा है। बनर्जी ने पिछले दिनों पश्चिम बंगाल में एक रैली के दौरान 11 हजार करोड़ रुपए के इस घोटाले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की थी।

जाहिर है कि 11 हजार करोड़ रूपए के पीएनबी महाघोटाले के बाद से केंद्र सरकार लगातार विपक्षी पार्टियों के निशाने पर है। हाल ही में जहां सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने मोदी सरकार पर उद्योगपतियों से मिलीभगत का आरोप लगाया वहीं बसपा प्रमुख मायावती ने भी केंद्र सरकार पर भ्रष्टाचारियों को शह देने का आरोप लगाते हुए हमला बोला था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App