ताज़ा खबर
 

1000 की शापिंग करो और एक किलो प्याज मुफ्त पाओ, ठाणे के दुकानदार ने शुरू की अनोखी स्कीम; उमड़ी भीड़

यह योजना शनिवार से शुरू हुई और कुछ देर में ही दुकान पर आने वाले लोगों की संख्या बढ़ गई। लोगों का यह अच्छा लग रहा है।

Author ठाणे | Updated: December 15, 2019 2:00 PM
150 रुपए किलो तक पहुंच चुके हैं प्याज के दाम, प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

महाराष्ट्र के ठाणे में कपड़े का एक दुकानदार एक हजार रुपए की खरीदारी पर एक किलो प्याज फ्री दे रहा है। इससे दुकान पर लोगों की भीड़ उमड़ रही है। वहां पर बाजार में प्याज की कीमत 130 रुपए प्रति किलो है। ऐसे में लोग एक हजार रुपए की खरीदारी करके 130 रुपए का प्याज फ्री में पा रहे हैं। यह योजना शनिवार से शुरू हुई और कुछ देर में ही आने वाले लोगों की संख्या बढ़ गई।

प्याज की कीमतों में तेजी से उछाल आया दरअसल पिछले कुछ दिनों से देश में प्याज की कीमतों में तेजी से उछाल आया है। इसकी वजह से बाजार में प्याज के लिए लोग परेशान हैं। ऊंचा भाव और माल की किल्लत से लोगों को प्याज मिल नहीं पा रहा है। घरों में लोगों को प्याज के बिना खाना खाना पड़ रहा है। छोटे रेस्टोरेंट और ढाबे वालों ने भी खाने के साथ सलाद में प्याज देना बंद कर दिया है।

Hindi News Today, 15 December 2019, Hindi Samachar LIVE Updates: आज की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

सरकार का कहना है कि घरेलू उत्पादन में कमी सरकार का कहना है कि इस बार खरीफ और लेट-खरीफ सत्र (गर्मी में होने वाली बुआई) में प्याज के घरेलू उत्पादन में 22 फीसदी की कमी आने का अनुमान है। इससे प्याज का संकट बरकरार है। सरकार ने शुक्रवार को राज्यसभा में बताया था कि पिछले एक महीने में ही कीमतों में 81 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है। खाद्य और उपभोक्ता मामलों के राज्य मंत्री दानवे रावसाहेब दादाराव ने बताया कि मंगलवार (10 दिसंबर) को प्याज का दैनिक औसत मूल्य 101.35 रुपये प्रति किलो रहा, जबकि एक महीने पहले 55.95 रुपये और एक साल पहले 19.69 रुपये प्रति किलो रहा था।

अनुमान से कम हुआ उत्पादन उनके मुताबिक ‘2019-20 के लिए कुल खरीफ और लेट खरीफ उत्पादन 54.73 लाख टन होने का अनुमान है, जबकि 2018-19 में यह 69.91 लाख टन रहा था।’ प्याज एक मौसमी फसल है और इसकी खेती रबी (मार्च से जून), खरीफ (अक्तूबर से दिसंबर) और लेट खरीफ (जनवरी से मार्च) के दौरान होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्‍या!
X