ताज़ा खबर
 

लालकृष्‍ण आडवाणी हो सकते हैं देश के अगले राष्‍ट्रपति, एक मीटिंग में खुद मोदी ने आगे बढ़ाया नाम

सोमनाथ में आडवाणी और मोदी की मुलाकात कई मायनों में अहम है। 1990 में आडवाणी ने सोमनाथ से अयोध्या की यात्रा शुरू की थी, तब उन्होंने अपने सारथी के रूप में मोदी को प्रोजेक्ट किया था।

भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (पीटीआई फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में प्रचंड बहुमत से जीत दर्ज कराने के बाद अब भाजपा राष्ट्रपति चुनाव के लिए तैयारी करना चाहती है। इसी साल जून में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए 8 मार्च को सोमनाथ में एक बैठक बुलाई गई थी। जिसमें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा लाल कृष्ण अआडवाणी को भी बुलाया गया था। चर्चा के दौरान संकेत मिला कि लाल कृष्ण आडवाणी को गुरु दक्षिणा के तौर पर राष्ट्रपति बनाया जा सकता है। हालांकि, अब पांचों राज्यों के नतीजे आ गए हैं तो भाजपा आडवाणी के नाम पर मुहर लगा सकती है। बीजेपी सूत्रों ने बताया कि सोमनाथ में हुई बैठक में मोदी और आडवाणी के अलावा केशुभाई पटेल भी मौजूद थे। उसी दौरान मोदी ने यह संकेत दिया था कि अगर उत्तर प्रदेश के चुनाव नतीजे बीजेपी के मन मुताबिक हुए, तो वे अपने गुरु आडवाणी को राष्ट्रपति पद पर देखना चाहेंगे।

HOT DEALS
  • Samsung Galaxy J6 2018 32GB Gold
    ₹ 12990 MRP ₹ 14990 -13%
    ₹0 Cashback
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 24990 MRP ₹ 30780 -19%
    ₹3750 Cashback

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो सोमनाथ में आडवाणी और मोदी की मुलाकात कई मायनों में अहम है। 1990 में आडवाणी ने सोमनाथ से अयोध्या की यात्रा शुरू की थी, तब उन्होंने अपने सारथी के रूप में मोदी को प्रोजेक्ट किया था। यहीं से मोदी की राजनीतिक करियर की शुरूआत हुई थी। गुजरात में मोदी को सीएम बनाने में भी आडवाणी का बड़ा योगदान रहा है। 2002 के गुजरात दंगों को लेकर मोदी से जब अटल बिहारी वाजपेयी नाराज हुए थे, तो उस वक्त भी आडवाणी ने मोदी का बचाव किया था।

दोनों के बीच दूरियां तब बढ़ी जब 2014 के आम चुनाव में मोदी को पीएम के रूप में प्रोजेक्ट किया गया। उस वक्त आडवाणी ने मोदी का काफी विरोध किया था। लेकिन मोदी चुनाव में जीत गए और पीएम बन गए। इसके बाद आडवाणी ने अवने आप को पार्टी से अलग करके मौन धारण कर लिया। इस दौरान मीडिया में कई तरह की खबरें आई। माना गया कि दोनों के बीच उसी के बाद से एक अनडिक्लेयर्ड कोल्ड वॉर शुरू हो गया। लेकिन जैसे ही यूपी, उत्तराखंड में भाजपा को बहुमत मिली तो आडवाणी ने अपना रूख नरम कर लिया।

बता दें कि 1990 में आडवाणी ने सोमनाथ की रथयात्रा शुरू की थी, तब मोदी 3 दिन पहले ही सोमनाथ पहुंच गए थे। उस वक्त वे आडवाणी के सारथी के रोल में थे। पर अब वक्त बदल गया है। 8 मार्च को मोदी सोमनाथ पहुंचे, उससे पहले ही 7 मार्च को आडवाणी सोमनाथ पहुंच चुके थे।

देखिए वीडियो - बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला: आडवाणी, उमा भारती समेत 13 नेताओं पर चल सकता है केस, 22 मार्च को होगा फैसला

ये वीडियो भी देखिए - गुजरात: सोमनाथ मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App