ताज़ा खबर
 

यौन दुर्व्यवहार के आरोपों के बाद इस्तीफा देने वाले ए के सशीन्द्रन ने कहा- मामले में जांच का आदेश दिया जाएगा

एक महिला से उनकी कथित फोन बातचीत की खबरों में कुछ ‘अप्राकृतिक’ था जो कल एक टेलीविजन चैनल पर प्रसारित की गयी थी।

Author March 27, 2017 1:09 PM
पूर्व मंत्री ने कहा कि पद उनके लिए महत्वपूर्ण नहीं है लेकिन वह चाहते हैं कि उनकी बेगुनाही साबित होनी चाहिए। (file photo)

यौन दुर्व्यवहार के आरोपों के बाद इस्तीफा देने वाले केरल के परिवहन मंत्री ए के सशीन्द्रन ने आज यहां मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन से मुलाकात की और कहा कि इस मामले की जांच का आदेश दिया जाएगा। बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में सुशीन्द्रन ने कहा कि उन्होंने विजयन से कहा है कि एक महिला से उनकी कथित फोन बातचीत की खबरों में कुछ ‘अप्राकृतिक’ था जो कल एक टेलीविजन चैनल पर प्रसारित की गयी थी। उन्होंने बताया, ‘‘मुख्यमंत्री जांच का आदेश देंगे। लेकिन कौन जांच करेगा और इसमें कितना समय लगेगा मैं नहीं जानता।’’

एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मंत्री का पद उनके लिए महत्वपूर्ण नहीं है लेकिन वह चाहते हैं कि उनकी बेगुनाही साबित होनी चाहिए। राज्य के पुलिस महानिदेशक लोकनाथ बेहरा ने भी आज सुबह सचिवालय में मुख्यमंत्री से बातचीत की। बेहरा ने कहा कि उन्हें सशीन्द्रन के खिलाफ आरोप पर अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है। कल मलायलम के एक समाचार चैनल ने एक ऑडियो क्लिप चलाया था जिसमें सशीन्द्रन एक महिला के साथ यौन मसले पर बातचीत कर रहे थे।

इस बीच, राकांपा के राज्य अध्यक्ष उझावूर विजयन ने कहा कि गतिविधियों को देखते हुये कल पार्टी की एक बैठक बुलायी जाएगी। राकांपा के विधानसभा में दो विधायक सशीन्द्रन और थॉमस चांडी हैं। सशीन्द्रन के इस्तीफे के बाद अपनी पार्टी की ओर से मंत्री का पद भरे जाने की उनकी मांग के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘यह निर्णय कल लिया जाएगा कि मंत्री का पद भरा जाए या नहीं।’’

बता दें केरल के मंगलम टीवी ने एक ऑडियो जारी किया था जिसके बाद मंत्री ने कहा था कि उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया है। “मैं हर किसी से बेहद विनम्र व्यवहार करता हूं।” बयानबाजी के बाद मंत्री जी इस्तीफा दे दिया और कहा कि , “इस खबर के मद्देनजर समय की मांग मामले का औचित्य देखने की नहीं है, बल्कि अपनी पार्टी, सरकार और खुद की नैतिकता को कायम रखने की है। इसलिए मैं इस्तीफा दे रहा हूं।”

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि, “मैं तकनीकी आधार पर इस पद पर बने नहीं रहना चाहता था, क्योंकि फिर यह शिकायत हो सकती थी कि मामले की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती। मैं यह नहीं सुनना चाहता, इसलिए मैंने इस्तीफा देने का फैसला किया है।”

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App