ताज़ा खबर
 

IRCTC INDIAN RAILWAYS: अब जनरल टिकट की खिड़की पर लंबी लाइनों से छुटकारा, थर्मल प्रिंटरों का होगा इस्तेमाल

IRCTC INDIAN RAILWAYS GENERAL TICKETS: इससे प्लैटफॉर्म टिकट और मंथली सीजन टिकट (एमएसटी) भी जारी किए जा सकेंगे।

Author Edited By Nishant Nandan Published on: December 10, 2019 3:24 PM
टिकट काउंटर पर लगने वाली भीड़ इससे कम होगी। प्रतीकात्मक तस्वीर।

IRCTC INDIAN RAILWAYS GENERAL TICKETS: ट्रेन से यात्रा के लिए रेलवे परिसर में बने टिकट काउंटरों पर लगने वाली लंबी कतारों से अब लोगों को राहत मिलने वाली है। रेलवे विभाग ने जनरल टिकट के लिए टिकट काउंटरों पर घंटों कतार में खड़े रहने वाले लोगों को बड़ी राहत देने का फैसला किया है। दरअसल अब तक जनरल टिकट हासिल करने के लिए यात्रियों को कतार में खड़े होकर घंटों अपनी बारी का इंतजार करना पड़ता था। जब वो टिकट काउंटर पर पहुंचते थे तो टिकट काट रहे रेलवे कर्मचारी को कमप्यूटर से टिकट काट कर प्रिंट लेने और यात्रियों को देने में समय लगता था।

लेकिन अब रेलवे ने कम समय में टिकट हासिल करने की सुविधा देने की खातिर थर्मल प्रिंटर प्रणाली अपनाने का फैसला किया है। थर्मल प्रिंटर के जरिए टिकट जल्दी-जल्दी प्रिंट हो सकेगा और यात्रियों तक पहुंच सकेगा। बताया जा रहा है कि थर्मल प्रिंटर के जरिए काउंटर पर तैनात कर्मचारियों को टिकट का पैसा लेने में जितना वक्त लगेगा उससे भी कमय समय में टिकट का प्रिंट मिल जाएगा। अब तक पुराने प्रिंटर प्रणाली के जरिए एक मिनट में 2-3 टिकट प्रिंट हो पाते थे वहीं अब थर्मल प्रिंटर के जरिए एक मिनट में 10 से भी ज्यादा टिकट प्रिंट होने की सुविधा होगी।

इससे प्लैटफॉर्म टिकट और मंथली सीजन टिकट (एमएसटी) भी जारी किए जा सकेंगे। बताया जा रहा है कि थर्मल प्रिंटिंग वाली टिकट से एक तय वक्त के बाद उसकी प्रिंटिंग खुद ही मिट जाएगी। आपको बता दें कि दिल्ली स्थित हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से थर्मल प्रिंटिंग का ट्रायल किया गया था। उस वक्त विभाग की तरफ से कहा गया था कि इससे अनरिजर्व टिकट काउंटरों पर लगने वाली कतारें छोटी होंगी और लोगों को इससे राहत मिलेगी।

यह भी कहा गया था कि ट्रायल के सफल होने के बाद थर्मल प्रिंटिंग का इस्तेमाल देश के कई स्टेशनों पर किया जाएगा। इसकी एक खासियत यह भी है कि इन्हें कहीं भी ले जाया जा सकता है और यात्री को टिकट जारी किया जा सकता है। थर्मल प्रिंटिंग का इस्तेमाल ज्यादातर उन रेलवे स्टेशनों पर किया जाएगा जहां टिकट काउंटर बनाना मुश्किल है और यात्रियों को अनरिजर्व टिकट के लिए मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्‍या!
X