ताज़ा खबर
 

भारतवंशी वनिता होंगी ‘लीडरशिप कांफ्रेंस’ की सीईओ, मानवाधिकारों के लिए लड़ने वाले संगठन की पहली महिला अध्‍यक्ष

भारतीय मूल की अमेरिकी वनिता गुप्ता को ‘द लीडरशिप कांफ्रेंस ऑन सिविल एंड ह्यूमन राइट्स’ की अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किया गया है।

Author Updated: March 28, 2017 3:15 PM
Indian-American Vanita Gupta, Vanita Gupta,Indian-American,president, ‘Leadership Conference’ on Civil and Human Rights, president and CEO, prestigious organisation, अमेरिका के पूर्ववर्ती ओबामा प्रशासन, ‘द लीडरशिप कांफ्रेंस एजुकेशन फंड’मानवाधिकारों की रक्षा के लिए निडर होकर लड़ने के लिए जानी जाने वाली 41 वर्षीय वनिता वेड हेंडरसन की जगह यह कार्यभार संभालेंगी। (photo source- AP)

अमेरिका के पूर्ववर्ती ओबामा प्रशासन के न्याय विभाग में मानवाधिकार डिविजन की अध्यक्षता कर चुकी भारतीय मूल की अमेरिकी वनिता गुप्ता को ‘द लीडरशिप कांफ्रेंस ऑन सिविल एंड ह्यूमन राइट्स’ की अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किया गया है और इसके साथ ही वह इस प्रतिष्ठित संगठन की अध्यक्षता करने वाली पहली महिला बन गई हैं। मानवाधिकारों की रक्षा के लिए निडर होकर लड़ने के लिए जानी जाने वाली 41 वर्षीय वनिता वेड हेंडरसन की जगह यह कार्यभार संभालेंगी। हेंडरसन ने दो दशक से अधिक समय तक इस संगठन के अध्यक्ष की जिम्मेदारी निभाई।

वनिता इसके सहायक संगठन ‘द लीडरशिप कांफ्रेंस एजुकेशन फंड’ का भी नेतृत्व करेंगी। वह अपनी यह नई जिम्मेदारी एक जून से संभालेंगी। वनिता ने कहा, ‘‘जब हमारे देश के आदर्शों एवं विकास को इस प्रकार मौलिक तरीकों से खतरे में डाला जा रहा है तो ऐसे में ‘द लीडरशिप कांफ्रेंस’ उन नागरिक एवं मानवाधिकार संगठनों का एक अहम मुख्य केंद्र है जो देशभर में न्याय, निष्पक्षता और समानता के लिए लड़ रहे हैं।’’

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘नागरिक एवं मानवाधिकार रक्षा का काम कभी आसान नहीं रहा और यह अभूतपूर्व समय एकजुटता के साथ दृष्टिकोण और रणनीति की स्पष्टता की मांग करता है और ‘लीडरशिप कांफ्रेंस’ गठबंधन यह काम करेगा।’’ 21 साल तक इस संगठन का नेतृत्व करने वाले हेंडरसन ने कहा कि नेताओं की यह जिम्मेदारी होती है कि वे भावी पीढ़ी में नेतृत्व की क्षमता विकसित करें, उन्हें प्रोत्साहित करें और उनके लिए मार्ग प्रशस्त करें।

बता दें कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब अमेरिका के किसी बड़े पद पर किसी भारतीय अमेरिकी कोई जगह मिली हो। इससे पहले भारतीय अमेरिकी सीमा वर्मा ने देश की प्रमुख स्वास्थ्य सेवा एजेंसी के शीर्ष पद की शपथ ली थी। उप राष्ट्रपति माइक पेंस ने व्हाइट हाउस में कल शपथ ग्रहण समारोह के दौरान कहा ‘‘ राष्ट्रपति ट्रंप ने स्वास्थ्य सेवा की प्रमुख एजेंसी का नेतृत्व करने के लिये अमेरिका के अग्रणी विशेषज्ञों में से एक का चयन किया है। ’’ सीमा वर्मा 13 करोड़ लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने वाली एक खरब डॉलर की मेडिकेयर एंड मेडिकएड सेवाओं का नेतृत्व करेंगी।

वहीं कुछ समय पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारतीय मूल के अमेरिकी कानूनविद् अमूल थापर को शक्तिशाली अमेरिकी अपीली अदालत में एक प्रमुख न्यायिक पद पर नामित किया था।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मातोश्री से अलग नया घर बनवा रहे हैं उद्धव ठाकरे, 11.6 करोड़ के प्लॉट पर बन रही है 6 मंजिला इमारत
2 गुड़ी पड़वा 2017 : जानिए क्यों मनाया जाता है गुड़ी पड़वा और क्या हैं महत्व
3 गुड़ी पड़वा 2017: मराठी नववर्ष गुड़ी पड़वा के मौके पर अपनों को इस तरह दें शुभकामनाएं और बधाई
ये पढ़ा क्या?
X