ताज़ा खबर
 

अस्‍पताल से छुट्टी पर भूख हड़ताल जारी, हार्दिक पटेल बोले- डीसीपी राठौड़ मुझे कहता है मार दूंगा

हार्दिक पटेल ने पाटीदारों को सरकारी नौकरियों तथा शिक्षा में आरक्षण तथा किसानों को कर्ज माफी की मांग को लेकर 25 अगस्त को अपने आवास से अनिश्चितकालीन अनशन शुरू किया था।

हार्दिक (25) की तबीयत बिगड़ने पर उनके समर्थकों ने उन्हें बीते शुक्रवार को सोला राजकीय अस्पताल में भर्ती कराया था और बाद में उन्हें निजी एसजीवीपी हालिस्टिक अस्पताल में ले जाया गया था जहां से उन्हें रविवार को छुट्टी दी गई। (AP PHOTO)

भूख हड़ताल कर रहे पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने एक ट्वीट किया है। ट्वीट में उन्होंने आरोप लगाया कि अहमदाबाद के डीसीपी राठौड़ उनकी हत्या करना चाहते हैं। ट्वीट में लिखा गया, ‘अहमदाबाद का DCP राठौड़ मुझे कहता है मार दूंगा, अब जिंदा रखने का और मारने का काम भी यमराज जी ने राठौड़ जैसे पुलिस अधिकारी को दे रखा है क्या?? उपवास आंदोलन का कवरेज कर रहे मीडिया कर्मी पर भी पुलिस ने बलप्रयोग किया और उनके केमेरे तोड़ने के प्रयास हुए। मीडिया के साथ जो हुआ वो गलत है।’ ये ट्वीट रविवार (9 सितंबर, 2018) को किया गया है। यहां बता दें कि बीते करीब 16 दिन से भूख हड़ताल कर रहे पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को रविवार को यहां एक निजी अस्पताल से छुट्टी मिल गई। उन्हें यहां पास ही स्थित उनके आवास पर ले जाया गया जहां उन्होंने अपना अनिश्चितकालीन अनशन जारी रखा। रविवार उनके अनशन का 16वां दिन था। जिस वक्त हार्दिक हॉस्पिटल से घर की तरफ लौट रहे थे तब उन्होंने एक और ट्वीट किया। इसमें उन्होंने लिखा, ‘अनिच्छितकालिन उपवास आंदोलन के सोलवें दिन अस्पताल से छूटी लेकर मेरे निवास स्थान पर जा रहा हूं। किसानों की क़र्ज़ा माफ़ी और सामाजिक न्याय के तहत आज उपवास आंदोलन का सोलवें दिन पूरे प्रदेश में उपवास और जनसभा हो रही हैं। संपूर्ण लोक क्रांति का आह्वान हो गया हैं। हम कमज़ोर नहीं हैं।’

इसके अलावा हार्दिक पटेल ने एक और ट्वीट किया। करीब बीस घंटे पहले किए इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘घर पहुंचते ही फिर से मेरे निवास स्थान के बाहर हज़ारों की तादाद में पुलिस को तैनात कर दिया और लोगों को रोकने लगी, अगर आपने अंग्रेज़ हुकूमत नहीं देखी तो आइए एक बार गुजरात, हमारे निवास स्थान पर आपको बाघा बॉर्डर का भी नज़ारा देखने को मिलेगा। सत्ता के नशे में जनता पर अमानवीय अत्याचार हैं।’ बता दें कि हार्दिक पटेल जिस वक्त अपने आवास पर पहुंचे तब बड़ी संख्या में तैनात पुलिसर्किमयों ने मीडियार्किमयों को उनके आवास की तरफ जाने वाली सड़क पर ही रोक दिया। कुछ संवाददाताओं से धक्कमुक्की की गई और पुलिस ने उन्हें पाटीदार नेता के घर में घुसने से रोकने के लिए उन पर लाठीचार्ज किया।

हार्दिक ने पाटीदारों को सरकारी नौकरियों तथा शिक्षा में आरक्षण तथा किसानों को कर्ज माफी की मांग को लेकर 25 अगस्त को अपने आवास से अनिश्चितकालीन अनशन शुरू किया था। हार्दिक (25) की तबीयत बिगड़ने पर उनके समर्थकों ने उन्हें बीते शुक्रवार को सोला राजकीय अस्पताल में भर्ती कराया था और बाद में उन्हें निजी एसजीवीपी हालिस्टिक अस्पताल में ले जाया गया था जहां से उन्हें रविवार को छुट्टी दी गई। उन्होंने अस्पताल में भी अनशन जारी रखा था। अस्पताल से छुट्टी मिलने से पहले हार्दिक ने अपने समर्थकों से फेसबुक लाइव के जरिये कहा कि वह अपने आवास पर भूख हड़ताल जारी रखेंगे। (एजेंसी इनपुट सहित)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App