ताज़ा खबर
 

मुफ्त राशन योजना: साइबर कैफे पर पंजीकरण के लिए लगी भीड़

दिल्ली सरकार का भी अनुमान है कि बिना राशन वाले दिल्ली में करीब 10 लाख परिवार होंगे। लेकिन सरकार इन परिवारों को सूचीबद्ध होने पर ही राशन दे सकती है। अभी दिल्ली में 71 लाख राशन कार्ड धारक हैं, इन्हें ही सरकार राशन दे रही थी। पंजीयन के बाद ये लोग भी राशन के हकदार होंगे। जिनके राशन कार्ड हैं उनको प्रति व्यक्ति साढ़े सात किलो राशन बांटना शुरू हो गया है।

Author Published on: April 3, 2020 2:37 AM
सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत पंजीकरण कराने के लिए साइबर कैफे के सामने लंबी कतारें देखी जा रही हैं।

पंकज रोहिला

दिल्ली बंद के बाद अब तक केवल राशन की दुकानों पर ही लंबी-लंबी कतारें नजर आ रही थीं। अब साइबर कैफे पर भी राशन दुकानों जैसी भीड़ है। लोग मुफ्त राशन योजना का लाभ लेने के लिए घर की लक्ष्मण रेखा को तोड़ रहे हैं। और कोरोना संक्रमण के खतरे को बढ़ा रहे हैं। इन लोगों से साइबर कैफे के जरिए 100 से 200 रुपए की वसूली की जा रही है।

बंद की वजह से दिल्ली सरकार गरीब परिवारों को राशन की दुकानों पर मासिक राशन मुफ्त में उपलब्ध करा रही है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को ही बिना राशन कार्ड वाले धारकों के लिए भी मुफ्त राशन सुविधा की घोषणा की थी। इसके बाद भजनपुरा के एक साइबर कैफे में लोगों की लंबी-लंबी कतार लग गई। ये सभी वे लोग थे जो कैफे पर अपना पंजीयन कराने के लिए पहुंचे थे। एक ग्राहक विनोद कुमार ने बताया कि इस केंद्र पर वे पिछले तीन घंटे से लाइन में हैं। वे अपना राशन का फार्म भरवाने आए हैं ताकि उनको भी राशन मिल सके। अब तक उनके पास राशन कार्ड नहीं था और ऑनलाइन भरना उनको नहीं आता। इसलिए कैफे आया था। यहां भी सुबह से भारी भीड़ है। एक छोटी सी सिलाई की दुकान है। अब तक कुछ खर्च आ जाता था। लेकिन बंद की वजह से वह भी नहीं खुल रही है। यहां फार्म भरने के लिए 200 रुपए ले रहे हैं। पंजीयन होने के बाद कम से कम राशन मिलना शुरू होगा।

दिल्ली सरकार का भी अनुमान है कि बिना राशन वाले दिल्ली में करीब 10 लाख परिवार होंगे। लेकिन सरकार इन परिवारों को सूचीबद्ध होने पर ही राशन दे सकती है। अभी दिल्ली में 71 लाख राशन कार्ड धारक हैं, इन्हें ही सरकार राशन दे रही थी। पंजीयन के बाद ये लोग भी राशन के हकदार होंगे। जिनके राशन कार्ड हैं उनको प्रति व्यक्ति साढ़े सात किलो राशन बांटना शुरू हो गया है।

जानकारी नहीं होने से  बढ़ रही भीड़
राशन के पंजीयन के लिए ऑनलाइन सेवा उपलब्ध है। जनता आसानी से जिला कार्यालय की वेबसाइट पर जाकर वहां राशन के लिए पंजीकरण कर सकती है। इसका प्रयोग ही साइबर कैफे कर रहे हैं। ऑनलाइन जाने के बाद सबसे पहले परिवार के मुखिया का नाम और भी परिवार के सदस्यों की जानकारी देनी होगी। इसके साथ मुखिया के दो फोटो, आवास के पते का प्रणाम, आयु का प्रणाम व आय प्रमाण देना होगा।

लेनी पड़ रही है होमगार्ड व पुलिस की मदद
राशन की दुकानों पर लंबी कतारें सुबह सवेरे से ही लगनी शुरू हो जा रही हैं। सुबह 10 बजे खुलने वाली दुकानों के बाहर लोग सुबह सात बजे ही पहुंच रहे हैं। ये असर गांमड़ी गांव, गोकुलपुरी, भजनपुरा व नत्थू कॉलोनी की दुकानों में देखने को मिला। हालांकि इन दुकानों पर सिविल डिफेंस व पुलिस के कर्मचारी भी नजर आए। लेकिन भीड़ अधिक होने की वजह से दुकानों पर इंतजाम कम नजर आए। हालांकि मुख्यमंत्री पहले ही यह घोषणा कर चुके हंै कि राशन की कोई कमी नहीं है लेकिन जिस भीड़ से बचने की कोशिश सरकार कर रही है वह कम होती नजर नहीं आ रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories