ताज़ा खबर
 

दिग्गज भाजपा नेता और दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री मदनलाल खुराना का लंबी बीमारी के बाद निधन

खुराना लंबे समय से सक्रिय राजनीति से दूर थे। वह 1993 से 1996 तक दिल्ली के मुख्यमंत्री रहे थे।

भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी (दाएं) के साथ दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री मदनलाल खुराना (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

भाजपा के कद्दावर नेता तथा दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री मदनलाल खुराना का शनिवार देर रात निधन हो गया। खुराना 83 साल के थे। लंबे समय से सक्रिय राजनीति से दूर रह रहे मदनलाल दिल्ली के तीसरे मुख्यमंत्री थे। इसके अलावा उन्होंने राजस्थान के राज्यपाल के रूप में भी अपनी सेवाएं दी थीं। दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तथा स्वर्गीय खुराना के पुत्र हरीश खुराना ने उनके निधन की सूचना दी। उन्होंने कहा कि दिग्गज नेता का उम्र संबंधी जटिलताओं की वजह से पश्चिमी दिल्ली के कीर्ति नगर स्थित आवास पर निधन हो गया। केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने खुराना के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि मेरी संवेदनाएं दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता के परिवार के साथ हैं जिनका लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। इसके अलावा भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी ट्वीट कर खुराना के निधन पर दुख प्रकट किया।

खुराना लंबे समय से सक्रिय राजनीति से दूर थे। वह दो साल दिल्ली के मुख्यमंत्री रहे थे। इसके अलावा 2004 में वह राजस्थान के राज्यपाल भी रहे। 4 बार विधायक रहे खुराना ने साल 2003 में विधानसभा चुनाव में बीजेपी की हार के बाद दिल्ली बीजेपी प्रमुख के पद से इस्तीफा दे दिया था। दो महीने पहले ही खुराना के बड़े बेटे विमल खुराना का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। मदनलाल खुराना ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इविंग क्रिश्चियन कॉलेज तथा किरोड़ीमल कॉलेज से शिक्षा प्राप्त की थी। इलाहाबाद विश्वविद्यालय में खुराना जनरल सेक्रेटरी के पद पर चुने गए थे। वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के आनुषंगिक संगठन एबीवीपी से भी जुड़े रहे। दिल्ली में भाजपा को खड़ा करने में खुराना ने काफी मेहनत की थी।

दिल्ली में उनके प्रभाव को देखते हुए उन्हें ‘दिल्ली का शेर’ भी कहा जाता था। वह भाजपा की पहली केंद्र सरकार में मंत्री भी बने थे। साल 2005 में भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी की कंधार विमान अपहरण में भूमिका को लेकर आलोचना की वजह से उन्हें भाजपा से निष्कासित भी किया जा चुका है। बाद में उन्हें 2008 में फिर से भाजपा में शामिल किया गया था। खुराना जनसंघ का भी हिस्सा रहे थे। दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिए जाने को लेकर वह काफी मुखर रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App