ताज़ा खबर
 

Delhi Election 2020: सुरक्षित सीटें, शाम तक बूथों पर लगी रहीं कतारें

Delhi Assembly Election 2020: कुछ बूथों पर समर्थन और विरोध दर्शाने के लिए कुछ जगहों पर समूह में युवा टीका लगाकर और टोपी पहनकर मतदान करने पहुंचे।

आरक्षित विधानसभा क्षेत्रों के कई बूथों पर सिंदूर का टीका लगाए और टोपी पहनकर लोग लाइन में मतदान के लिए खड़े दिखे।

Delhi Election 2020: 2015 के मुकाबले भले ही इस बार दिल्ली में मतदान का फीसद कम रहा है। जिसने मतदान बढ़ने या घटने के आधार पर अपनी हार-जीत का तानाबाना बुने बैठे प्रत्याशियों की चिंता बढ़ा दी है, लेकिन अन्य क्षेत्रों से इतर दिल्ली की 12 सुरक्षित विधानसभाओं में सुबह से शाम तक चले मतदान में लाइन बरकरार रही। बताया गया है कि अन्य विधानसभाओं के मतदान केंद्रों पर सुबह और शाम के समय मतदाताओं की भीड़ रही लेकिन दोपहर के समय मतदान केंद्रों पर सूनापन भी रहा। आरक्षित विधानसभा क्षेत्रों के कई बूथों पर सिंदूर का टीका लगाए और टोपी पहनकर लोग लाइन में मतदान के लिए खड़े दिखे।

कोंडली विधानसभा क्षेत्र के अधिकांश मतदान केंद्रों पर सुबह से ही मतदाताओं की कतारें लग गई थीं। मतदाताओं ने बताया कि उन्हें दोपहर के बाद अपनी कंपनी में काम के लिए पहुंचना है। लिहाजा वे सुबह ही मतदान कर रहे हैं। सुबह के समय महिलाओं की संख्या केंद्रों पर कम थी लेकिन दोपहर में महिलाओं की काफी भीड़ काफी बूथों पर दिखी। सीमापुरी, त्रिलोकपुरी आदि सुरक्षित सीटों पर भी ऐसा ही नजारा सुबह से रहा। सुबह से दोपहर तक काफी संख्या में कामकाजी और नौकरीपेशा लोगों ने मतदान किया। इन इलाकों के कुछ मतदान केंद्रों पर नारेबाजी करने की सूचना मिली। हालांकि पुख्ता सुरक्षा इंतजामों की वजह से ऐसे मामले शांत रहे।

कुछ बूथों पर समर्थन और विरोध दर्शाने के लिए कुछ जगहों पर समूह में युवा टीका लगाकर और टोपी पहनकर मतदान करने पहुंचे। मतदान केंद्र में प्रवेश के साथ ही वहां मौजूद सुरक्षाकर्मी सतर्कता दिखाते हुए उन्हें बूथ के बाहर लाइनों में लगाया। उनके मत डालने और बाहर जाने तक ऐसे समूहों पर सुरक्षा बलों की खास निगरानी रही। सुरक्षित विधानसभा केंद्र के बाहर मतदान के बाद मिले मतदाताओं से रूझान के बारे में पूछा, तो स्पष्ट कोई भी बताने को तैयार नहीं हुआ। अलबत्ता इस मुद्दे पर बात करने वाले अधिकांश ने दिल्ली में विकास की निरंतरता बनाए रखे जाने की जरूरत बताई। देर शाम तक इलाकों के अधिकांश बूथों पर लाइन बरकरार रही।

दिल्ली विधानसभा में त्रिलोकपुरी, सीमापुरी, पटेल नगर, मंगोलपुरी, मादीपुर, कोंडली, करोल बाग, देवली, आंबेडकर नगर, गोकलपुर, बवाना, सुल्तानपुर माजरा कुल 12 सुरक्षित सीटें हैं। 2015 चुनाव में सभी सीटें आप को मिली थीं। आप की इन सीटों पर कब्जा बनाए रखने और भाजपा को लोकसभा चुनाव जैसा बदलाव लाने की चुनौती है।

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X