ताज़ा खबर
 

दत्तात्रेय होसबोले बोले- राम मंदिर के निर्माण पर धर्म संसद जो भी फैसला लेगी, RSS उसे स्वीकार करेगा

दत्तात्रेय ने कहा, "राम मंदिर के निर्माण को लेकर धर्म संसद जो भी फैसला लेगी, आरएसएस उसे स्वीकार करेगी और पालन करेगी।"

Author Published on: March 30, 2017 3:37 PM
राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) नेता दत्तात्रेय होसबोले ने कहा- राम मंदिर का मुद्दा हिंदू भावना से जुड़ा है।(photo source – indian express)

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) नेता दत्तात्रेय होसबोले ने गुरुवार को कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का फैसला धर्म संसद करेगी और आरएसएस उसका पालन करेगा। दत्तात्रेय ने कहा, “राम मंदिर के निर्माण को लेकर धर्म संसद जो भी फैसला लेगी, आरएसएस उसे स्वीकार करेगी और पालन करेगी।” उन्होंने कहा कि विवादित स्थल पर भव्य राम मंदिर का निर्माण हिंदुओं के लिए बहुत ही भावनात्मक विषय है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सह सरकार्यवाहक दत्तात्रेय होसबोले ने कहा कि अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर निर्माण के मामले में आचार्यो की धर्म संसद जो तय करेगी, आरएसएस उस पर अमल करेगा।

उन्होंने बिहार के औरंगाबाद में बुधवार को एक कार्यक्रम में कहा, “राम मंदिर का मुद्दा हिंदू भावना से जुड़ा है। इसलिए धर्म संसद जो फैसला लेगी, आरएसएस उसे स्वीकार करेगा।” उन्होंने योग को भारतीय संस्कृति की देन बताते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति ने दुनिया को काफी कुछ दिया है, जिसमें योग भी शामिल है। योग की चर्चा करते हुए आरएसएस नेता ने कहा कि योग किसी देश या धर्म से जुड़ा हुआ नहीं है। उन्होंने कहा, “योग किसी एक धर्म से जुड़ा नहीं है। योग करने से हर धर्म से जुड़े लोगों का शरीर स्वस्थ होता है। जो भी योग करेगा, योग उसका होगा।”

इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 21 मार्च को कहा था कि राम मंदिर को लेकर सभी पक्ष कोर्ट के बाहर मामला सुलझा लें तो ठीक रहेगा। इस मामले पर टिप्पणी करते हुए चीफ जस्टिस ने कहा, “यह धर्म और आस्था से जुड़ा मामला है इसलिए इसको कोर्ट के बाहर सुलझा लेना चाहिए। कोर्ट ने इसपर सभी पक्षों को आपस में बैठकर बातचीत करने के लिए कहा।”

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा कि “सुप्रीम कोर्ट की इस टिप्पणी का हम स्वागत करते हैं। यह अच्छा होगा कि दोनों पक्ष बैठकर इसका हल निकाल लें।” योगी ने कहा कि यूपी सरकार इस मामले में हरसंभव मदद के लिए तैयार है।

बता दें चुनाव प्रचार के दौरान योगीआदित्य नाथ राम मंदिर निर्माण की बात कही थी। बलरामपुर में 25 फरवरी को आयोजित रैली में सांप्रदायिक कार्ड खेलते हुए आदित्य नाथ ने कहा था कि राज्य में बीजेपी की सरकार आई तो राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नरेंद्र मोदी के राज में ताबड़तोड़ नौकरियां छोड़ रहे हमारे अर्द्धसैनिक, देश की आंतरिक सुरक्षा पर अा सकता है बड़ा खतरा
ये पढ़ा क्या?
X