ताज़ा खबर
 

कोरोना: बेंगलुरु में कम पड़े सात श्मशान, खदान में किया गया लाशें जलाने का इंतज़ाम, बनाया नया क़ब्रिस्तान

प्रशांत नाम के एक कर्मचारी ने बताया कि हम सुबह 7 बजे से काम करना शुरू कर देते हैं। लगभग 25-30 शवों का अंतिम संस्कार करते हैं। बेंगलुरु शहर के श्मशान की तरह ही यहां भी दिन भर एम्बुलेंस से शव पहुंच रहे हैं। दर्शन देवैया बीपी की रिपोर्ट।

शवों को जलाने के लिए खदान को समतल किया गया था। (एक्सप्रेस फोटो)

पूरे देश में कोरोना का कहर जारी है। देश के कई राज्यों में शवों के अंतिम संस्कार के लिए श्मशानों में जगह कम पड़ गए हैं। कर्नाटक के बेंगलुरु में सात श्मशान घाट शवों के अंतिम संस्कार करने में सक्षम नहीं है ऐसे में शहर के बाहरी इलाके में एक ग्रेनाइट खदान में भी शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है।

बेंगलुरु शहरी के जिला आयुक्त मंजूनाथ ने कहा है कि इसके अलावा तवारेकेरे में लंबे समय से प्रयोग में नहीं आ रहे एक जमीन का उपयोग भी लोगों के अंतिम संस्कार के लिए किया जा रहा है। मंजूनाथ ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि मृतकों का एक गरिमामय अंतिम संस्कार हो सके इसके लिए गेदनाहल्ली में ग्रेनाइट खदान को हाल ही में श्मशान में परिवर्तित किया गया है। बताते चलें कि गेदानहल्ली और तवरकेरे दोनों बेंगलुरु के पश्चिम में शहर से लगभग 6 किमी दूर है।

यह जगह सिटी सेंटर से लगभग 25 किमी की दूरी पर है। गेदनाहल्ली में 30 से 40 शवों का हर दिन अंतिम संस्कार किया जा रहा है। इनके अलावा शहर के सभी सात कोविड श्मशान पिछले तीन हफ्तों से चौबीसों घंटे चल रहे हैं, और उनमें से एक को शनिवार को रखरखाव के लिए बंद करना पड़ा है।

सरकार की तरफ से गेदानहल्ली में श्मशान सुविधा को बेहतर बनाए रखने के लिए कुछ लोगों को भी नियुक्त किया गया है। उन्हें कुछ सामाजिक संगठनों का भी साथ मिल रहा है। हालांकि वहां काम कर रहे कई लोगों को इसका कोई अनुभव नहीं है। साथ ही उन्हें 12-15 घंटे तक लगातार काम करना पड़ रहा है। ग्रेनाइट खदान में बनाए गए इस श्मशान में कई बुनियादी सुविधाओं का अभाव अभी भी है। प्रशांत नाम के एक कर्मचारी ने बताया कि हम सुबह 7 बजे से काम करना शुरू कर देते हैं। लगभग 25-30 शवों का अंतिम संस्कार करते हैं। बेंगलुरु शहर के श्मशान की तरह ही यहां भी दिन भर एम्बुलेंस से शव पहुंच रहे हैं।

बताते चलें कि कर्नाटक में शनिवार को 482 लोगों की मौत कोविड से हुई थी। जिनमें से अकेले बेंगलुरु में 285 लोगों की मौत हुई। शुक्रवार को शहर में 346 मौतें दर्ज की गईं थी जो कोरोनावायरस महामारी के 15 महीनों में सबसे अधिक हैं। रविवार को बेंगलुरु में 281 मौतें दर्ज की गईं।

Next Stories
1 कोरोना फिर खाने लगा नौकरियां! केवल अप्रैल में 34 लाख वेतनभोगियों का गया रोजगार, CMIE बोला- लॉकडाउन ने छोटे व्यापार कर दिए बर्बाद
2 यूपीः शमशान से लाशों के कपड़े उतारकर बेचते थे बाजार में, पुलिस ने सात को धरा
3 पश्चिम बंगाल की महिला की कोरोना से मौत, पिता का आरोप- टिकरी बॉर्डर के प्रदर्शन स्थल पर दो लोगों ने किया था रेप
ये  पढ़ा क्या?
X