ताज़ा खबर
 

सेना और पुलिसकर्मियों में संघर्ष, रक्षा मंत्री और गृह राज्य मंत्री ने की बातचीत

रिजीजू ने कहा, ‘‘ सेना और पुलिस र्किमयों के बीच हुए टकराव पर रक्षा मंत्री और मैंने गौर किया है। मैं सबसे अपील करता हूं कि इसे सेना बनाम पुलिस और नागरिक प्रशासन की तरह नहीं लें।’’

Author November 8, 2018 12:30 PM
रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण (फोटो सोर्स : Indian Express)

अरूणाचल प्रदेश के बोमडिया में सेना और पुलिस र्किमयों के बीच हुए संघर्ष से उपजी स्थिति की बुधवार को रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजीजू ने समीक्षा की। पिछले हफ्ते सेना के कुछ जवानों ने बोमडिया थाने में तोड़फोड़ की थी और पुलिस र्किमयों तथा आम लोगों पर हमला किया था। रिजीजू ने कहा, ‘‘ सेना और पुलिस र्किमयों के बीच हुए टकराव पर रक्षा मंत्री और मैंने गौर किया है। मैं सबसे अपील करता हूं कि इसे सेना बनाम पुलिस और नागरिक प्रशासन की तरह नहीं लें।’’ अरूणाचल प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले रिजीजू ने कहा कि दो नवंबर को बोमडिया में हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना का आपसी सहमति के जरिए सौहार्द से निपटाना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘ सेना और पुलिस, दोनों ही अत्यंत ही समर्पण से राष्ट्र की सेवा कर रहे हैं। एक घटना से महान संस्थानों की छवि को धूमिल करने नहीं दिया जा सकता है।’’ सीतारमण और रिजीजू, दोनों ने ही विश्वास बहाली के उपायों के तौर पर नागरिक समाज के सदस्यों से भी मुलाकात की। सीतामरण भारत-चीन सरहद पर अग्रिम इलाकों में तैनात सैनिकों के साथ दिवाली मनाने के लिए अरूणाचल प्रदेश में है।

बता दें कि, अरूणाचल प्रदेश के दिबांग वैली जिले में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अग्रिम चौकियों पर मुस्तैद सैनिकों के साथ दिवाली मनाई। रक्षा मंत्री ने पहले सीमा के निकट अग्रिम चौकी रोचचाम के लिए उड़ान भरी और इसके बाद अंजॉ जिले में हुलियांग में उन्होंने जवानों के साथ दीवाली मनाई और मिठाइयां बांटी गईं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App