ताज़ा खबर
 

इन वजहों से होता है आपके कार का इंजन ‘ओवरहीट’, जानिए कैसे करें बचाव

कार के इंजन का ड्राइविंग के दौरान गर्म होना स्वाभाविक है। लेकिन कभी कभी कार का इंजन ओवरहीट होता है। इसके ​पीछे कई मैकेनिकल कारण हो सकते हैं, लेकिन समय रहते इन कमियों को दूर कर के आप कार के इंजन को ओवरहीट होने से बचा सकते हैं।

Author April 16, 2019 2:42 PM
कार के ओवरहीट होने के कई मैकेनिकल कारण होते हैं। ( Photo- rotarybintaro)

गर्मियां शुरु हो चुकी हैं और तापमान प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में कई बार आपको कार के इंजन के ओवरहीट होने से परेशानियों का सामाना करना पड़ता है। कई बार तो इंजन इस कदर गर्म हो जाता है कि हादसा होने तक की आशंका बन जाती है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर आपकी कार का इंजन क्यों ओवरहीट होता है। आज हम इस लेख में आपको इसके मुख्य वजह के बारे में बताएंगे, ताकि आप अपनी कार के इंजन को ओवरहीट होने से बचा सकें।

1. कूलिंग सिस्टम का लीक होना: कार के इंजन के गर्म होने का ये सबसे मुख्य कारण है। यदि आपको कार के रेडिएटर, वाटर पंप, होज, हेड गैसकेट या थर्मोस्टेट हाउसिंग में कोई लीक या रिसाव होता है तो इससे आपका इंजन ठीक ढंग से ठंडा नहीं हो पाएगा। आप इस लीकेज को खुद भी सील कर सकते हैं, लेकिन बेहतर होगा कि आप इसे किसी मैकेनिक को दिखाएं।

2. कूलेंट: कार के इंजन को ठंडा रखने की सबसे बड़ी जिम्मेदारी कूलेंट की होती है। कूलेंट एक आयल होता है जो कि इंजन को ठंडा रखता है। यदि आपकी कार का कूलेंट लीक कर रहा हो या फिर खराब क्वॉलिटी का होगा तो ये इंजन को ठंडा नहीं करेगा। इसके अलावा इस बात की भी तस्दीक करें कि पानी और कूलेंट का रेसियो बराबर हो। यदि ऐसा नहीं है तो मैनुअल में दिए गए मात्रा के अनुसार कूलेंट को रिफिल करें।

3. ब्लाकेज: यदि कोई रिसाव नहीं है और कूलेंट भी ठीक है फिर भी इंजन गर्म हो रहा है तो आपको कूलेंट की नली को चेक करना चाहिए।
कभी-कभी गंदगी या सड़क से उठने वाली धूल और गर्द भी कूलेंट डिपार्टमेंट में पहुंच जाता है। जिसके चलते हाउसेस ब्लॉक हो जाते हैं। ऐसे में आप कूलेंट को फ्लश करें और पाइप की ठीक ढंग से सफाई कर दोबारा कूलेंट रिफिल करें।

4. रेडिएटर: इंजन ओवरहीटिंग का एक अन्य आम कारण आपकी कार के रेडिएटर के साथ होने समस्या है। कभी कभी रेडिएटर का फैन ठीक ढंग से काम नहीं करता है, या फिर गंदगी आदि रेडिएटर में भर जाती हैं तो वेंटिलेशन प्रभावित होता है। जिसके कारण कार का इंजन बहुत जल्द ही गर्म होत जाता है। यदि आपकी कार लगातार गर्म हो रही है तो इसके रेडिएटर को एक बार ​मैकेनिक को जरूर दिखाएं।

5. वाटर पंप का टूटना: जैसा कि नाम से पता चल रहा है कि, वाटर पंप कार के प्रोपेल इंजन और कूलेंट को ठंडा रखने में मदद करता है। कई बार वाटर पंप टूट जाता है या फिर उसके पाइप इत्यादि में लीकेज होती है, जिसके कारण इंजन ठीक ढंग से ठंडा नहीं हो पाता है। ऐसे में वाटर पंप की जांच करवाना भी बेहद जरूरी होता है।

नोट: यदि कभी भी आपकी कार ड्राइविंग के दौरान अचानक से ओवरहीट हो रही है तो तत्काल कार को रोकें और इंजन को बंद कर दें। कार से बाहर निकलकल फ्रंट बम्फपर को खोलें और गर्मी को बाहर निकलने दें। आप रेडिएटर पर पानी भी छिड़क सकते हैं। ​इसके बाद तत्काल किसी मैकेनिक के पास जाएं और कार के इंजन की जांच करवाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App