ताज़ा खबर
 

अब 19 किलोमीटर तक दौड़ेगी चेन्नई मेट्रो

शहरी विकास मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने गुरुवार को यहां चेन्नई मेट्रो के फेज-एक के स्टेज 1 ए का उद्घाटन किया।

Author चेन्नई | September 23, 2016 4:32 AM
दिल्ली की तर्ज पर नोएडा और ग्रेटर नोएडा में भी मेट्रो का जाल बिछाए जाने को उत्तर प्रदेश सरकार खास तवज्जो दे रही है।

शहरी विकास मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने गुरुवार को यहां चेन्नई मेट्रो के फेज-एक के स्टेज 1 ए का उद्घाटन किया। यह लाइन लिटल माउंट से चेन्नई हवाई अड्डे के बीच बिछाई गई है। केंद्र ने चेन्नई मेट्रो फेज-एक परियोजना के लिए दस हजार करोड़ रुपए जारी किए हैं। उद्घाटन के मौके पर एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि चेन्नई के लोगों और चेन्नई मेट्रो रेल लिमिटेड के लिए यह बहुत ही गौरव का क्षण है। आप एक और महत्त्वपूर्ण उपलब्धि के गवाह हैं। लिटल माउंट से हवाई अड्डे तक की इस लाइन के शुरू होने से अब चेन्नई मेट्रो का संचालन 19 किलोमीटर तक हो गया है। चेन्नई मेट्रो परियोजना फेज-एक के तहत कुल 45 किलोमीटर तक मेट्रो लाइन बिछाई जानी है।

उन्होंने बताया कि फेज एक के तहत उपरगामी भाग कोयाम्बेडू से अलांदुर (10.15 किमी) का पहले ही जून 2015 में मुख्यमंत्री जे जयललिता उद्घाटन कर चुकी हैं। जून 2016 में केंद्र सरकार ने चेन्नई मेट्रो फेज-1 के वाशेरमापेट से विमको तक नौ किलोमीटर के विस्तार के लिए 3,770 करोड़ रुपए मंजूर किए थे। चेन्नई मेट्रो के फेज एक के स्टेज 1 ए के तहत तैयार लिटल माउंट से हवाई अड्डे तक की लाइन की कुल लंबाई 8.613 किलोमीटर है। इस लाइन पर लिटल माउंट, गुइंडी, अलांदुर नांगालुर रोड स्टेशन मीणामबक्कम और हवाई अड्डा मेट्रो स्टेशन बनाए गए हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने चेन्नई मेट्रो फेज-1 परियोजना के लिए दस हजार करोड़ रुपए जारी किए हैं।

आज इस मेट्रो लाइन के उद्घाटन के साथ देश के दिल्ली और एनसीआर, गुड़गांव कोलकाता चेन्नई ,बंगलुरु, जयपुर और मुंबई में 324 किलोमीटर रेल मेट्रो लाइन का संचालन शुरू हो जाएगा। इसके अलावा दिल्ली, एनसीआर, कोलकाता, चेन्नई ,जयपुर, मुंबई कोच्चि, अहमदाबाद, नागपुर और लखनऊ में 553 किलोमीटर मेट्रो लाइन बिछाने का काम चल रहा है। वेंकैया नायडू ने कहा कि चेन्नई मेट्रो परियोजना से उन लोगों को काफी फायदा होगा जिन्हें सड़कों पर निरंतर भीड़-भाड़ का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि शहरी गतिशीलता योजना के समग्र दृष्टिकोण और समग्र समेकित उपाय के सेट को जिन शहरों ने अपनाया है, वहां प्रदूषण, संपर्क की कमी जैसे मामलों को हल करने में उन्हें सफलता हासिल हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App