ताज़ा खबर
 

बिहार: 80 साल की महादलित महिला को घर से खींचकर पीटा, फिर डायन बताकर जिंदा जला दिया

पुलिस के अनुसार, कांप गांव के रहने वाले चिकरु महलदार के 12 वर्षीय बेटे भीम कुमार की सोमवार को सांप के काटने से मौत हो गई थी।

Author Updated: March 28, 2017 4:29 PM
आरोप है कि अंधविश्वास में परिजनों ने रामवती पर बच्चा को जिंदा करने का दवाब बनाया। (सांकेतिक फोटो)

बिहार में पूर्णिया जिले के मोहनपुर सहायक थाना क्षेत्र में मानवता को शर्मसार करने वाली एक घटना प्रकाश में आई है, जहां गांव के लोगों ने एक वृद्ध महिला को डायन बताकर जिंदा जलाकर मार डाला। इस मामले में पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार, कांप गांव के रहने वाले चिकरु महलदार के 12 वर्षीय बेटे भीम कुमार की सोमवार को सांप के काटने से मौत हो गई थी।

चिकरु के परिजनों ने आरोप लगाया कि पड़ोस की ही 80 वर्षीया महिला रामवती देवी के कारण ही भीम की मौत हुई। आरोप है कि अंधविश्वास में परिजनों ने रामवती पर बच्चा को जिंदा करने का दवाब बनाया। रामवती जब बच्चा जिंदा करने को तैयार नहीं हुई, तब सोमवार की रात करीब 12 बजे चिकरु महलदार सहित उसके घर के अन्य लोगों ने महादलित महिला रामवती देवी को घर से खींचकर पहले तो उनकी जमकर पिटाई की और फिर उन पर डायन होने का आरोप लगाते हुए मिट्टी का तेल डाल कर उन्हें जला दिया। इस घटना में रामवती की मौत हो गई।

मोहनपुर सहायक थाना के प्रभारी राजकिशोर मंडल ने मंगलवार को आईएएनएस को बताया कि मृतका की बहू कविता देवी के बयान पर हत्या की एक प्राथमिकी मोहनपुर थाना में दर्ज कर ली गई है, जिसमें चिकरु सहित छह लोगों को नामजद आरोपी बनाया गया है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने चिकरु को गिरफ्तार कर लिया है तथा अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। फिलहाल गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है। घटनास्थल पर पुलिस कैंप कर रही है। इस मामले में अभी तक किसी बड़े अधिकारी का कोई बयान नहीं आया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 योगी आदित्य नाथ के खिलाफ लिखी कविता हटाने के लिए फेसबुक ने मांगी माफी, दोबारा किया रीस्टोर
2 ब‍िहार: नीतीश कुमार के मंत्री ने ‘वसूली” के ल‍िए फैक्‍ट्री पर खुद बोल द‍िया धावा, तालाबंदी कर गुजरात लौटा मालिक
3 भारतवंशी वनिता होंगी ‘लीडरशिप कांफ्रेंस’ की सीईओ, मानवाधिकारों के लिए लड़ने वाले संगठन की पहली महिला अध्‍यक्ष