ताज़ा खबर
 

दलित विधवा फिर से संभालेगी MDM के घर की रसोई

बिहार के औरंगाबाद जिलाधिकारी ने एक मिसाल पेश करते हुए दलित विधवा को फिर से मध्याह्न भोजन योजना (एमडीएम) के रसोइया के तौर पर बहाल कर दिया और उसके द्वारा बनाए गए भोजन को बच्चों के साथ खाया।

Author औरंगाबाद | Published on: July 28, 2016 2:41 AM
(File Photo)

बिहार के औरंगाबाद जिलाधिकारी ने एक मिसाल पेश करते हुए दलित विधवा को फिर से मध्याह्न भोजन योजना (एमडीएम) के रसोइया के तौर पर बहाल कर दिया और उसके द्वारा बनाए गए भोजन को बच्चों के साथ खाया। औरंगाबाद के जिलाधिकारी कंवल तनुज ने उक्त स्कूल के प्रधानाध्यापक को निलंबित करने का भी आदेश दिया है, जिसने उक्त दलित विधवा को उनके पति की मौत के बाद रसोइए के पद से हटाया था। पीड़ित विधवा उर्मिला कुंवर की शिकायत पर तनुज ने औरंगाबाद जिले के रफीगंज प्रखंड के बतुरा मध्य विद्यालय का मंगलवार को दौरा किया था और विधवा द्वारा तैयार एमडीएम का जमीन पर बच्चों के साथ बैठकर भोजन किया था।

जिलाधिकारी ने बताया कि मानवता के बोध ने उन्हें उक्त महिला के साथ न्याय के लिए विवश किया। बतुरा मध्य विद्यालय के निलंबित प्रधानाध्यापक के खिलाफ विभागीय जांच जिला शिक्षा पदाधिकारी यदुवंश राम ने शुरू कर दी है और उनके स्थान पर नए प्रधानाध्यापक ने उक्त स्कूल में पदभार ग्रहण कर लिया है।

महिला के पति का हाल में देहांत हो गया था, जिसके लिए आजीविका का साधन एमडीएम के रसोइए का काम करने से मिलने वाला एक हजार रुपए था और उसके जरिए वह अपने अलावा अपने चार बच्चों का पालन-पोषण करती थी। तनुज ने बताया कि उक्त महिला के स्कूल में रसोइए के तौर पर लौट आने से वे खुश हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 कलाम की पहली पुण्यतिथि पर सहयोगी के संस्मरण का हुआ विमोचन
2 गोवा में विदेशियों के कारोबार करने पर मुख्यमंत्री की निंदा
3 हक्कानी ने धमकी, हाफिज जैसे सनकियों से पाक को होगा नुकसान