ताज़ा खबर
 

अंकित सक्सेना मर्डर: पीड़ित के पिता बोले- केजरीवाल सरकार वादे से मुकरी, अभी तक नहीं दिया 5 लाख का मुआवजा

अंकित के पिता यशपाल सक्सेना ने कहा कि है कि केजरीवाल सरकार अपने वादे से मुकर रही है हमें अभी तक मुआवजा प्राप्त नहीं हुआ।

अंकित सक्सेना की प्रेमिका के परिवारवालों ने की थी हत्या। फोटो: इंडियन एक्सप्रेस

Ankit Saxena murder: दिल्ली की आदमी पार्टी सरकार ने अंकित सक्सेना मर्डर केस के पीड़ित परिवार को अबतक मुआवजा नहीं दिया है। अंकित के मर्डर के बाद केजरीवाल सरकार ने घोषणा की थी कि वह पीड़ित परिवार को 5 लाख का मुआवजा देंगे।

अंकित के पिता यशपाल सक्सेना ने कहा है कि ‘केजरीवाल सरकार अपने वादे से मुकर रही है हमें अभी तक मुआवजा प्राप्त नहीं हुआ। हमने कई बार उन्हें इस बारे में याद भी दिलाया लेकिन उन्होंने अभीतक ऐसी कोई पहल नहीं दिखाई।’

आपको बता दें कि पिछले साल फरवरी में दिल्ली के ख्याला इलाके में 23 साल के अंकित की हत्या उसकी मुस्लिम प्रेमिका के परिवार वालों ने कर दी थी। यह मर्डर दो अलग-अलग धर्म के बीच टकराव की वजह से हुआ। युवती के घर वाले इस रिश्ते के खिलाफ थे। दोनों परिवारों के धर्म को लेकर मतभेद थे। सरेआम हुए कत्ल के बाद पूरे इलाके में सनसनी फैली गई थी। हालांकि मर्डर के बाद यशपाल सक्सेना अब हिंदू-मुस्लिमों से किसी भी तरह के भेदभाव से दूर रहने की अपील करते हैं।

बेटे की हत्या के चार महीने बाद उन्होंने 60 वर्षीय यशपाल ने अपने हिंदू, मुस्लिम और सिख पड़ोसियों के साथ रमजान के दौरान इफ्तार पार्टी का आयोजन भी किया था।

यशपाल ने मुआवजा न मिलने पर कहा ‘मुझे इसलिए मुआवजा नहीं दिया जा रहा क्योंकि मैंने इस मुद्दे को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश नहीं की। मैं दोनों समुदायों के बीच प्यार और सद्भाव चाहता हूं। क्या मुझे इसके लिए दंडित किया जा रहा है?’

लगातार हो रही अनदेखी से परेशान यशपाल आगे पूछते हैं ‘क्या दो समुदायों के बीच दरार डालने से जल्दी मुआवजा मिल जाएगा?’ बता दें कि इस मामले में पुलिस ने 2018 में ही विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया था। दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि यह केस ‘सुनियोजित’ था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में जाने वाले 4 पार्षदों पर ऐक्शन, अयोग्य करार देने का आदेश