ताज़ा खबर
 

जब कवि बन इमाम पर कविता सुनाने लगे थे संबित पात्रा, AAP के संजय सिंह बोले- चल भाग…चल भाग

पिछले साल फरवरी में उत्तर पूर्वी दिल्ली में CAA समर्थक और विरोधियों के बीच झड़प ने दंगे की शक्ल ले ली थी।

sanjay singh, up government, farmer protest, Aam Aadmi partyआप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह (फोटो/@AamAadmiParty)

पिछले साल एबीपी न्यूज के कार्यक्रम में शरजील इमाम पर बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कविता पढ़ी, ”इमाम का हुक्म है चलो देश तोड़ें।” पात्रा ने डिबेट में कहा कि मैं अमित शाह को सलाम करता हूं कि उन्होंने देश को तोड़ने वाले शरजील इमाम को जेल में डाला। केजरीवाल ने चुनौती दी थी कि शरजील इमाम को गिरफ्तार कर के दिखाओ। साथ ही जेपी नड्डा और अमित शाह ने भी चुनौती दी थी कि केजरीवाल उमर खालिद और कन्हैया कुमार की फाइल को सेंक्शन करें। डिबेट में AAP के संजय सिंह ने कहा कि बीजेपी दिल्ली चुनाव में दिल्ली के मुद्दों के अलावा सारे मुद्दों पर बात करती है। बीजेपी हर चीज के लिए शाहीन बाग शाहीन बाग करती है। ये सुन सुनकर दिल्ली वालों ने बीजेपी नेताओं को कह दिया है चल भाग, चल भाग, चल भाग।

बता दें कि दिल्ली दंगों की साजिश रचने के मामले में अदालत ने शरजील इमाम, उमर खालिद और अन्य लोगों की न्यायिक हिरासत बढ़ा दी है। पिछले साल फरवरी में दिल्ली में हुए दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस मामले में गहराई से जांच कर रही है। पिछले साल सितंबर में पुलिस ने पिंजरा तोड़ की सदस्य देवांगना और नताशा, जामिया मिल्लिया इस्लामिया के आसिफ इकबाल और गुलफिशा फातिमा के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी। चार्जशीट में कांग्रेस नेता इशरत जहां, सफूरा जरगर, मीरान हैदर, शिफा उर रहमान, ताहिर हुसैन,खालिद सैफी और शादाब अहमद, तस्लीम अहमद, सलीम मलिक , मोहम्मद सलीम खान और अथर खान के नाम भी हैं।

इसके बाद नवंबर में जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद और शरजील इमाम के खिलाफ पुलिस ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगे के मामले में एक सप्लीमेंट्री चार्जशीट भी दायर की थी। फिलहाल सफूरा जरगर और फैजान खान को जमानत मिल चुकी है। बाकी आरोपी हिरासत में ही हैं।

बता दें कि पिछले साल फरवरी में उत्तर पूर्वी दिल्ली में CAA समर्थक और विरोधियों के बीच झड़प ने दंगे की शक्ल ले ली थी। इलाके के जाफराबाद और चांद बाद में शाहीन बाग की तरह विरोध प्रदर्शन करने की योजना बनाई गई थी जिसका विरोध किया जा रहा था।

दंगों में 53 लोगों की जान गई थी और 200 से ऊपर लोग घायल हुए थे। पुलिस ने मामले में 111 FIR, 650 लोगों के खिलाफ दर्ज की थीं।

Next Stories
1 CM नीतीश के राज में 102% बढ़ा अपराध, दो लाख के करीब केस दर्ज; बिहार सरकार पर तेजस्वी ने साधा निशाना
2 जब लालकिले से इंदिरा गांधी ने किया था आंदोलन का जिक्र, बोलीं- कितना भी रोको हिंसा हो ही जाती है, विकास वाले आंदोलन ही रोक देते हैं विकास
3 सूरत में कांग्रेस का सूपड़ा साफ, AAP बन गई मुख्य विपक्षी पार्टी, 27 सीटें जीत लीं
ये पढ़ा क्या?
X