ताज़ा खबर
 

सुभाष चंद्रा बोले- एनडीटीवी इंडिया को एक दिन के बैन की सजा कम, आजीवन प्रतिबंध लगना चाहिए था

जी मीडिया के चेयरमैन और राज्‍यसभा सांसद डॉ. सुभाष चंद्रा ने न्‍यूज चैनल एनडीटीवी इंडिया पर एक दिन का बैन लगाए जाने का समर्थन किया है।
सुभाष चंद्रा एस्सल ग्रुप के मालिक हैं। जी न्यूज चैनल इसी ग्रुप का है। (Source: Express file photo)

जी मीडिया के चेयरमैन और राज्‍यसभा सांसद डॉ. सुभाष चंद्रा ने न्‍यूज चैनल एनडीटीवी इंडिया पर एक दिन का बैन लगाए जाने का समर्थन किया है। उन्‍होंने टि्वटर के जरिए बयान जारी कर कहा कि एनडीटीवी इंडिया पर एक दिन के प्रतिबंध की सजा कम है। इस मुद्दे पर उन्‍होंने पांच ट्वीट किए। उन्‍होंने लिखा, ”NDTV पर 1 दिवसीय प्रतिबन्ध नाइंसाफी है, यह सजा बहुत कम है! देश की सुरक्षा से खिलवाड़ के लिए उन पर आजीवन प्रतिबन्ध लगाना चाहिए था। मेरा तो यह भी विश्वास है की अगर NDTV न्यायालय में जाए तो उसे वहां से भी फटकार ही मिलेगी।” चंद्रा ने यूपीए शासन का जिक्र करते हुए कहा कि उस समय जी पर प्रतिबंध की बात चली थी तो बुद्धिजीवियों ने मौन साध लिया था।

उन्‍होंने लिखा, ”UPA काल में Zee पर प्रतिबन्ध की बात चली थी तब NDTV, बाकि तथाकथित बुद्धिजीवीयों ने मौन धारण करा था, Editors Guild भी चुप्पी साधे हुआ था। पर आज गलत को गलत कहने पर, कुछ लोग आपातकाल कह रहे है! क्या देश की सुरक्षा का कोई भी महत्त्व नहीं?”

यह था वह वीडियो जिसके कारण लगा है बैन:

जी मीडिया के संस्‍थापक ने एनडीटीवी इंडिया पर प्रतिबंध को सही ठहराया। चंद्रा ने ट्वीट में लिखा, ”देश की सुरक्षा में दो मत नहीं हो सकते। सरकार द्वारा NDTV इंडिया पर एक दिवसीय प्रतिबन्ध को मैं बिलकुल सही मानता हूँ!” गौरतलब कि सूचना प्रसारण मंत्रालय के पैनल ने पठानकोट हमले की कवरेज के चलते NDTV इंडिया पर एक दिन के लिए नौ नवंबर को बैन लगाया है। सरकार के इस कदम की काफी आलोचना हो रही है। कई लोग इसे आपातकाल बता रहे हैं। चैनल का कहना है कि उसकी कवरेज सबसे संतुलित थी।

पत्रकारों की संस्‍था एडिटर्स गिल्‍ड ने भी प्रतिबंध को गलत बताया है। गिल्ड ने बैन को हटाए जाने की मांग की है। सूचना और प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि हिंदी न्यूज चैनल के खिलाफ कार्रवाई ‘‘देश की सुरक्षा’’ के हित में की गयी । नायडू ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि राजग सरकार मीडिया की स्वतंत्रता का बेहद सम्मान करती है और इस प्रकार के मुद्दों से केवल देश की सुरक्षा और संरक्षा प्रभावित होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Anand
    Nov 6, 2016 at 12:15 pm
    Aise hi bharwa log ke marri jati hai
    (2)(0)
    Reply
    1. K
      Kumarpushp
      Nov 6, 2016 at 4:37 pm
      Subhash chandra become mad he should be sent to mental asylum.he is paying his master who sent him rajya sabha
      (4)(1)
      Reply
      1. A
        akp
        Nov 6, 2016 at 2:24 pm
        ज़ी पर ban किस वास्ते था इसकी भी चर्चा करें चंद्रा साहब।
        (2)(0)
        Reply
        1. N
          NAVNEET MANI
          Nov 6, 2016 at 8:36 pm
          कुछ ज्यादा ही हमदर्दी है एनडीटीवी से तुझे. वैसे कई तो उसे देखते भी नहीं होंगे... बस यहां पर शोक-संवेदना प्रकट कर रहे हैं.
          (0)(0)
          Reply
          1. N
            NAVNEET MANI
            Nov 6, 2016 at 8:31 pm
            जो देश हित में बात करे उसे मोदी भक्त या बीजेपी का आदमी कह दो... डूब मरो तुम सब.
            (1)(0)
            Reply
            1. N
              NAVNEET MANI
              Nov 6, 2016 at 8:32 pm
              जो देश हित में बात करे उसे मोदी भक्त या बीजेपी का आदमी कह दो... डूब मरो तुम सब. सुविधा की राजनीति करने वालों तनिक शर्म करो.
              (0)(0)
              Reply
              1. N
                NAVNEET MANI
                Nov 6, 2016 at 8:33 pm
                बहुत बढ़िया !! बाकी चैनलों के लिए भी कड़ा सबक दे दिया इस सरकार ने.
                (0)(0)
                Reply
                1. M
                  man
                  Nov 7, 2016 at 6:58 am
                  ज़ी का मालिक बीजेपी का सांसद है, फिर तो चैनल बीजेपी के गुणगान करेगा ही ना, और यही तो वो सुभाष चंद्र है, जिसने नवीन जिंदल को करोडो रुपये के लिए ब्लैकमेल किया था.अभी भी ज़ी न्यूज़ के सुधीर चौधरी ने १०० करोड़ की रिश्वत मांगी जो केस अभी कोर्ट में चल रहा है, ऐसे लोग जब देशभक्ति की बात करते है तो लगता है कि देशभक्ति का अपमान हो रहा है.
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. P
                    punekar
                    Nov 7, 2016 at 10:04 am
                    Chandra तू बीजेपी के पेअर chat
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. N
                      NEO
                      Nov 6, 2016 at 4:52 pm
                      इतस रिक्वायर्ड...
                      (0)(0)
                      Reply
                      1. Load More Comments