ताज़ा खबर
 

गांधी परिवार से SPG सुरक्षा वापस लेने के खिलाफ युवा कांग्रेस का प्रोटेस्ट, BJP और पुलिस पर लगाए ये आरोप

प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे भारतीय युवा कांग्रेस (आईवाईसी) के अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी ने आरोप लगाया कि भाजपा व्यक्तिगत प्रतिशोध की हद तक गिरकर दो पूर्व प्रधानमंत्रियों के परिवार के सदस्यों के साथ खिलवाड़ कर रही है।

नई दिल्ली | Updated: November 20, 2019 6:42 PM
गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा वापस लेने के खिलाफ यूथ कांग्रेस का प्रदर्शन

कांग्रेस की युवा इकाई के सैंकड़ों कार्यकर्ता पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और बेटी प्रियंका गांधी की एसपीजी सुरक्षा वापस लिये जाने के खिलाफ बुधवार को सड़कों पर उतरे और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह का पुतला फूंका। प्रदर्शनकारियों ने संसद घेराव का आ’’ान किया था, लेकिन पुलिस ने अवरोधक लगाकर उन्हें रोक दिया। पुलिस अधिकारियों ने शास्त्री भवन, कृषि भवन और केन्द्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन के गेट बंद कर दिये और हालात खराब होने की सूरत में पानी की बौछारों को भी तैयार रखा गया था।

प्रदर्शनकारियों ने भाजपा और सरकार विरोधी नारे लगाए। कार्यकर्ताओं ने गांधी परिवार को एसपीजी सुरक्षा वापस लौटाने की मांग करते हुए कहा अगर कोई अप्रिय घटना हुई तो उसके लिये सरकार जिम्मेदार होगी। प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे भारतीय युवा कांग्रेस (आईवाईसी) के अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी ने आरोप लगाया कि भाजपा व्यक्तिगत प्रतिशोध की हद तक गिरकर दो पूर्व प्रधानमंत्रियों के परिवार के सदस्यों के साथ खिलवाड़ कर रही है।

आंसू गैस लिये पुलिस अधिकारियों ने लाउडस्पीकर से ऐलान किया कि संसद के चालू शीतकालीन सत्र के मद्देनजर शास्त्री भवन के आसपास धारा 144 लागू है और प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। प्रदर्शनकारियों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा और वे सुरक्षा घेरा तोड़ने के लिये अवरोधकों को फांदने लगे। इस दौरान पुलिस अवरोधक फांदने वाले प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेकर मंदिर मार्ग थाने ले गई।

युवा कांग्रेस के सदस्यों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के साथ मारपीट और छेड़छाड़ की, हालांकि अधिकारियों ने इस आरोप से इनकार किया। गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में केन्द्र सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत राजीव गांधी के परिवार की एसपीजी सुरक्षा वापस लेकर उन्हें सीआरपीएफ की ”जेड प्लस” सुरक्षा प्रदान की थी।गांधी परिवार को 1991 में राजीव गांधी की हत्या के बाद लगभग 28 साल से एसपीजी सुरक्षा मिली हुई थी।  उन्हें 1991 में एसपीजी अधिनियम-1988 में संशोधन कर वीवीआईपी सुरक्षा सूची में शामिल किया गया था।

Next Stories
1 VIDEO क्‍ल‍िप वायरल होने पर दमन BJP चीफ ने अमित शाह को भेजा इस्‍तीफा
2 झारखंड: इस जिले के 10,000 आदिवासियों पर राजद्रोह का केस, चुनाव बह‍िष्‍कार पर चल रहा व‍िचार
3 राहुल गांधी का मीडिया पर आरोप, खो चुकी है अपनी आवाज, लोग बोले- आपके सांसद संसद में क्यों नहीं बोलते?
ये पढ़ा क्या?
X