ताज़ा खबर
 

CAA विरोधियों पर यूपी पुलिस का शिकंजा: पकड़े गए 7000 लोगों में कई बच्चे भी

पुलिस सूत्रों के मुताबिक राज्य के अलग-अलग जिलों से अब तक 1,113 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जबकि 5,558 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई है। जिन बच्चों को पुलिस ने पकड़ा है, उनमें से अधिकांश स्कूल जानेवाले छात्र हैं।

हिंसक झड़प में यूपी पुलिस ने अब तक करीब 7000 लोगों को पकड़ा है। (इंडियन एक्सप्रेस)

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ हुए विरोध-प्रदर्शन और हिंसक झड़प में यूपी पुलिस ने अब तक करीब 7000 लोगों को पकड़ा है। इनमें से कई बच्चे हैं। कई बच्चे पुलिसिया कार्रवाई में घायल हुए हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक राज्य के अलग-अलग जिलों से अब तक 1,113 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जबकि 5,558 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई है। जिन बच्चों को पुलिस ने पकड़ा है, उनमें से अधिकांश स्कूल जानेवाले छात्र हैं।

संभल में जिन 42 लोगों को पकड़ा गया है, उनमें से दो के परिजनों ने दावा किया है कि बच्चों की उम्र 16 और 17 साल है। इन दोनों को पिछले गुरीवार की देर रात को गिरफ्तार किया गया था। इंडियन एक्सप्रेस ने परिवार का दावा जांचने के लिए बच्चों को आधार कार्ड की पड़ताल की, जिसपर उनके जन्म का वर्ष 2003 अंकित था। पिछले हफ्ते संभल में विरोध-प्रदर्शन हिंसक हो गया था, जिसमें दो लोगों की जान चली गई थी।

इस बीच यूपी पुलिस ने दावा किया है कि एक बी नाबालिग की गिरफ्तारी नहीं हुई है। उधर, बरेली में भी दो परिवारों ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि उनके नाबालिग बच्चों को पिछले एक हफ्ते से गिरफ्तार कर बरेली जेल में रखा गया है। पुलिसिया दावे की पड़ताल करती जब इंडियन एक्सप्रेस की टीम मुजफ्फरनगर पहुंची तो वहां तीन बच्चे जख्मी हालत में मिले। उनमें से 16 साल के एक बच्चे ने आरोप लगाया कि 20 दिसंबर के विरोध-प्रदर्षन के दौरान पुलिसवालों ने घुटने से ऊपर गोली मार दी।

मुजफ्फरनगर में ही मदरसे में पढ़ने वाले 12 साल और 14 साल के दो बच्चों ने आरोप लगाया कि पुलिसवालों ने उन्हें बेरहमी से पीटा जबकि वे विरोध-प्रदर्शन के दौरान कुछ भी नहीं कर रहे थे। इनमें से पांचवीं में पढ़ने वाले एक बच्चे ने बताया कि जब वो मदरसा से पढ़कर लौट रहा था तभी पांच-छह पुलिसवालों ने उसे उठा लिया और थाने ले जाकर मारपीट की।

संभल में पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया कि उन्हें FIR की भी कॉपी नहीं दी गई। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि दोनों बच्चों को पुलिस पिछले एक हफ्ते में चार अलग-अलग ठिकानों पर ले जा चुकी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 CAA Protests Updates: ममता बनर्जी बोलीं- बंगाल में नहीं लगने देंगे CAA, राहुल गांधी ने NRC, NPR को बताया गरीबों पर टैक्स
2 CAA के विरोध पर टीवी डिबेट, स्टूडेंट्स बता चैनल ने अपनी पत्रकारों को पैनल में बिठाया
3 MiG-27: देश नहीं, दुनिया को भी अलविदा कर रहा करगिल का ‘बहादुर’, पढ़ें 38 साल का पूरा सफरनामा
ये पढ़ा क्या?
X